--Advertisement--

चेकिंग करने पहुंचे सांसद को ही असलहा ब्रांच और सुविधा सेंटर के स्टाफ ने चक्करों में डाला

स्टॉफ बाहर धूप सेंकने में लगा हुआ है। कई बार उन्हें अपने काम के बारे में कहा भी, लेकिन कोई उचित जवाब नहीं मिला।

Dainik Bhaskar

Nov 18, 2017, 04:32 AM IST
Asheha Branch and the facility center staff put in the rounds

अमृतसर. पिछले कुछ दिनों से सरकारी विभागों में चेकिंग पर चेकिंग कर रहे सांसद गुरजीत सिंह औजला ने शुक्रवार को तहसील काम्प्लैक्स में अचानक चेकिंग की। सबसे पहले असलहा ब्रांच में पहुंचे, जहां उन्हें लोगों ने शिकायतें ही शिकायतें बताई। लोगों का कहना था कि वह सुबह से दफ्तर में बैठे हैं, लेकिन स्टाफ बाहर धूप सेंकने में लगा हुआ है। कई बार उन्हें अपने काम के बारे में कहा भी, लेकिन कोई उचित जवाब नहीं मिला।

वहीं एक व्यक्ति ने बताया कि वह पिछले 3 सालों से लाइसेंस रिन्यू करवाने के लिए धक्के पर धक्के खाने को वह मजबूर हो चुके हैं, लेकिन विभाग के मुलाजिम उनकी एक नहीं सुनते। कभी सुविधा केंद्र भेजा जाता है तो कभी सुविधा केंद्र वाले यहां भेजते हैं। ये शिकायतें सुनने के बाद सांसद औजला ने वहां खड़े मुलाजिमों से उनके काम में देरी का कारण पूछा तो उन्होंने सुविधा केंद्र पर सारा ठीकरा फोड़ दिया। इसके बाद औजला जब सुविधा केंद्र में पहुंचे तो वहां उन्होंने इंचार्ज को बुलाने के लिए कहा, लेकिन कोई नहीं आया तो एक कर्मचारी ने असलहा ब्रांच पर देरी की सारी जिम्मेदारी डाल, जिस पर सांसद औजला भी बोल पड़े कि ‘वाह जनाब! मेरे नाल वी ओही कम्म करी जांदे हो जो लोकां नाल कर रहे हो’। इसके बाद एडीसी सुभाष चंद्र खुद मौके पर पहुंचे। एक युवक ने सांसद औजला को शिकायत करते हुए बताया कि कुछ एजेंट लाइसेंस रिन्यू करवाने के 3-3 हजार रुपए ले रहे हैं, जबकि फीस कोई भी नहीं है। इस विभाग में भ्रष्टाचार का तो बोलबाला है।

पूर्व मंत्री बंडाला का लाइसेंस भी छह महीने से रिन्यू नहीं हुआ, रिश्तेदार लगा रहा चक्कर पर चक्कर
सांसद औजला जब असलहा ब्रांच की चेकिंग कर रहे थे तो पता चला कि पूर्व मंत्री सरदूल सिंह बंडाला का भी पिछले छह महीनों से लाइसेंस रिन्यू नहीं हुआ है। लाइसेंस रिन्यू करवाने आए उनके रिश्तेदार ने सांसद औजला को बताया कि वह भी करीब पिछले 6 महीनों से धक्के खा रहा है, लेकिन अभी तक लाइसेंस रिन्यू नहीं हुआ है। औजला ने कहा कि लापरवाही कुछ लोगों की होती है और सहनी सरकार को पड़ती है। लोग कहते हैं कि सरकार की लापरवाही है कि उन्हें धक्के पर धक्के खाने पड़ते हैं। उन्होंने एडीसी सुभाष चंद्र को कहा कि वह इसमें सुधार करें, क्योंकि लापरवाही किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं की जाएगी।


असलहा ब्रांच में चार हजार फाइलें पेंडिंग पड़ीं, सांसद ने इंचार्ज से एक हफ्ते में मांगी कारणों की रिपोर्ट
असलहा ब्रांच में चेकिंग के दौरान सांसद औजला ने पूछा कि अब तक कितनी फाइलें पेंडिंग पड़ी हुई हैं तो जवाब मिला कि अब तक करीब 4 हजार लाइसेंस रिन्यू और नए आवेदनकर्ताओं की फाइलें पेंडिंग पड़ी हैं। उन्होंने असलहा ब्रांच के इंचार्ज को आदेश देते हुए कहा कि एक सप्ताह के अंदर-अंदर इसकी सारी सूची बनाए और कारण बताए कि किस-किस कारण लोगों की फाइलें पेंडिंग पड़ी हुई हैं। 25 नवंबर तक यह सूची उनके, डिप्टी कमिश्नर और एडीसी के टेबल पर होनी चाहिए। वहीं उन्होंने एडीसी सुभाष चंद्र को भी आदेश दिए कि जिन मुलाजिमों की लापरवाही के कारण लोगों के काम नहीं हुए हैं, उन पर सख्त कार्रवाई की जाए।

सॉफ्टवेयर में कुछ खराबी है : एडीसी

एडीसी सुभाष चंद्र का कहना था कि विभाग के सॉफ्टवेयर में कुछ टेक्निकल समस्या है। कुछ फाइलें पुलिस वेरीफिकेशन की वजह से पेंडिंग पड़ी हुई हैं, जिस बाबत वह जल्द एसएसपी से मीटिंग करने जा रहे हैं, जो भी मुश्किलें हैं, उनका हल करवाया जाएगा।

X
Asheha Branch and the facility center staff put in the rounds
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..