Hindi News »Punjab »Amritsar» Festival Of Guru Gobind Singh

25 दिसंबर मनाया जाएगा गुरु गोबिंद सिंह का प्रकाश पर्व, मीटिंग में दूर किया भ्रम

श्री अकाल तख्त साहिब से श्री गुरु गोबिंद सिंह जी का पावन प्रकाश पर्व 25 दिसंबर को मनाने का आदेश दिया गया है।

bhaskar news | Last Modified - Nov 14, 2017, 05:48 AM IST

  • 25 दिसंबर मनाया जाएगा गुरु गोबिंद सिंह का प्रकाश पर्व, मीटिंग में दूर किया भ्रम
    +1और स्लाइड देखें
    अमृतसर . श्री अकाल तख्त साहिब से श्री गुरु गोबिंद सिंह जी का पावन प्रकाश पर्व 25 दिसंबर को मनाने का आदेश दिया गया है। पांच सिंह साहिबान की सोमवार को यहां हुई मीटिंग के बाद श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह ने पर्व की तिथियों को लेकर पैदा हुए भ्रम को दूर करते हुए कहा कि गुरु साहिब के 350 साला प्रकाश पर्व का शुकराना दिवस और 351वां प्रकाश पर्व तख्त श्री पटना साहिब में भव्य रूप से मनाया जा रहा है। इसलिए गुरु साहिब का प्रकाश पर्व पोह सुदी सातवीं (25 दिसंबर) को ही मनाया जाएगा। छोटे साहिबजादों के शहीदी पर्व इस दिन पड़ने के कारण एसजीपीसी प्रकाश पर्व 5 जनवरी को ही मना चुकी है।
    संशोधित नानकशाही कैलेंडर के मुताबिक गुरु पर्व 25 दिसंबर को आता है जबकि मूल नानकशाही कैलेंडर के हिसाब से 5 जनवरी को। पटना साहिब के जत्थेदार इकबाल सिंह ने प्रकाश पर्व 25 दिसंबर को मनाने का एलान किया हुआ है। उधर, सिख इतिहास को कथित रूप से तोड़-मरोड़कर पेश करने के विवाद से घिरे सिख प्रचारक संत रणजीत सिंह ढडरियांवाला को आदेश किया गया है कि वह अपनी विवादित सीडीज श्री अकाल तख्त को जमा करवाएं। सिंह साहिबान ने कहा कि उनकी तरफ से स्टेज से गुरु इतिहास संबंधी जो प्रचार किया गया है उसपर संगत ने एतराज जताया है। इस करके उनको अमृतसर में रखा गया अपना प्रोग्राम रद्द करना पड़ा। सिंह साहिबान ने कहा कि संगत को उनके जिस प्रचार पर एतराज है उन सीडीज को श्री अकाल तख्त साहिब पर भेजें, जिनकी एसजीपीसी की सब कमेटी पड़ताल करेगी।
  • 25 दिसंबर मनाया जाएगा गुरु गोबिंद सिंह का प्रकाश पर्व, मीटिंग में दूर किया भ्रम
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Amritsar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×