Hindi News »Punjab »Amritsar» Master Had Put The Servant In The Mouth

मालिक ने नौकर के मुंह में डाल दिया था तेजाब, दस माह बाद सामने आई सच्चाई

सूबे में नशा तस्करों की गुंडागर्दी किसी से छिपी नहीं है। पुलिस भी इनपर रोक लगाने में नाकाम ही साबित रही है।

अनुज शर्मा | Last Modified - Nov 07, 2017, 04:43 AM IST

  • मालिक ने नौकर के मुंह में डाल दिया था तेजाब, दस माह बाद सामने आई सच्चाई
    +2और स्लाइड देखें
    अमृतसर.सूबे में नशा तस्करों की गुंडागर्दी किसी से छिपी नहीं है। पुलिस भी इनपर रोक लगाने में नाकाम ही साबित रही है। उक्त तस्कर अपने खिलाफ उठती आवाज को दबाने के लिए किसी भी हद तक चले जाते हैं।

    ऐसे लोगों की गिरफ्तारी न हो पाना पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी सवाल खड़ी करती है। ऐसे ही नशा तस्करों की दरिंदगी का एक साल पहले शिकार हुआ था शहीद उधम सिंह नगर गली नंबर 2 में रहने वाला बलविंदर सिंह। उसका कसूर सिर्फ इतना था कि उसने अपने ट्रक मालिक को नशा तस्करी करते देख उनके साथ काम करने से मना कर दिया, लेकिन कहीं वह पुलिस को न बता दे इसी शक में ट्रक मालिक ने ड्राइवर और परिवार के साथ मिलकर बलविंदर पर न सिर्फ बाल्टी भर कर एसिड डाल दिया बल्कि वह अगर बच गया तो पुलिस के सामने उनका नाम नहीं ले दे इसलिए उसके मुंह में भी एसिड डाल दिया। 70 फीसदी जल चुके बलविंदर को डॉक्टरों ने कड़ी मेहनत से बचा तो लिया लेकिन वह ने तो ठीक से बोल पाता है और न ही कुछ खा-पी सकता है। यहीं बस नहीं बलविंदर की इस हालत के बाद उसके परिवार पर भी मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा है। ईलाज में खर्च उनकी आर्थिक हालत के मुकाबले कई गुणा ज्यादा होने के कारण वे उसके लिए कुछ कर भी नहीं पा रहा। वहीं, इस गंभीर अपराध के आरोपी अभी तक पुलिस की पकड़ से बाहर हैं।
    200 रुपए दिहाड़ी के लिए ट्रक क्लीनर का काम करता था बलविंदर
    बहन हरजीत कौर और मां बलवंत कौर ने बताया कि बलविंदर ट्रक क्लीनर का काम करता था। उसे 200 रुपए दहाड़ी मिलती थी। साल भर काम करने के बाद एक दिन उसे पता चला कि ट्रक का ड्राइवर और उसका मालिक नशे की तस्करी भी करते हैं। इस पर उसने अपने मालिक को हाथ जोड़े और साथ काम करने से मना कर दिया। 30 अगस्त 2016 को पुलिस के डर से मालिक, ड्राइवर और उसके परिवार वालों ने बलविंदर पर तेजाब से भरी बाल्टी तक उड़ेल दी। कुछ बोल न सके इसलिए उसके मुंह में भी तेजाब डाल दिया।
    मां-बहन 24 घंटे रहती हैं साथ तो पिता ऑटो चलाकर चला रहा परिवार
    घटना के बाद बलविंदर काम करने में असमर्थ हो गया। पिता ऑटो चलाकर घर का गुजारा कर रहे हैं। मां बजुर्ग हैं। एक भाई अमरदीप सिंह व बहन हरजीत कौर हैं। बलविंदर के लिए हर वक्त दो व्यक्तियों की जरूरत होती है। ऐसे में दोनों भी काम करने में असमर्थ हो गईं। भाई अमरदीप ही अब कोर्ट में चल रहे मामले में भाग दौड़ कर रहा है।
    दस माह बाद सच्चाई आई सामने
    बलविंदर को तेजाब पिलाने के बाद आरोपी ड्राइवर बंटी ने बात बना दी कि उसकी दुश्मनी किसी के साथ अौर उसने ही बलविंदर पर तेजाब डाल दिया। दस महीने बाद बलविंदर की हालत कुछ सुधरी तो उसने थथलाती आवाज में सच्चाई बताई। इसके बाद पुलिस ने पांच आरोपियों के खिलाफ मामला तो दर्ज कर लिया पर आरोपी अभी तक पुलिस की पकड़ से बाहर हैं।
  • मालिक ने नौकर के मुंह में डाल दिया था तेजाब, दस माह बाद सामने आई सच्चाई
    +2और स्लाइड देखें
  • मालिक ने नौकर के मुंह में डाल दिया था तेजाब, दस माह बाद सामने आई सच्चाई
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Amritsar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×