अमृतसर

--Advertisement--

अटारी बॉर्डर पर लगने वाला 40 क्विंटल का गेट एक हफ्ते में बनकर तैयार हुआ, ऐसा ही पाकिस्तान में भी बन रहा

सैलानियों की सुविधा के लिए आपसी सहमति से लगेंगे भारत और पाकिस्तान के बॉर्डर के गेट

Dainik Bhaskar

Aug 12, 2018, 05:12 AM IST
इस गेट को 8 कारीगरों ने रात-दिन इस गेट को 8 कारीगरों ने रात-दिन

अमृतसर. अटारी बॉर्डर पर लगने वाला सबसे वजनदार और सबसे बड़ा गेट तैयार हो गया है। इसे 13 अगस्त को बॉर्डर पर लगाया जाएगा। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर 15 अगस्त को बीएसएफ के डीजी केके शर्मा इसका उद्घाटन करेंगे। खास बात ये है कि इसी डिजाइन का गेट पाकिस्तान में बन रहा है। जिसे पाकिस्तान की बॉर्डर पर लगाया जाएगा। उसकी डिजाइन भारत से ली गई है। भारत की 15,200 किमी लंबी सरहद चीन-तिब्बत, नेपाल, भूटान, पाकिस्तान, बांग्लादेश और म्यांमार से लगती है। इस पर कई जगह गेट लगे हैं। लेकिन अटारी बॉर्डर पर लगने वाला नया गेट इनमें सबसे बड़ा और सुरक्षित होगा। उल्लेखनीय है कि 17 नवंबर 2015 में सुरेंद्र सिंह कंग नामक एनआरआई ने सुरक्षा प्रबंधों को तोड़ते हुए अपनी कार भारतीय गेट को तोड़ते हुए पाकिस्तानी गेट में टकरा दी थी। उसमें भारतीय गेट पूरी तरह टूट गया था। इसके बाद नए गेट को और भी मजबूत और वजनी बनवाया गया है।

सैलानियों की सुविधा के लिए बन रहे नए गेट: अटारी-वाघा सरहद पर रिट्रीट सेरेमनी वाली जगह पर दोनों देशों के गेट लगे हैं। अभी जो दरवाजे लगे हैं उनके कारण यहां सैलानी बीएसएफ और पाक रेंजर्स की तरफ से रिट्रीट सेरेमनी की परेड ठीक से नहीं देख पाते हैं। सैलानियों को देखते हुए बीएसएफ और पाक रेंजर्स के बीच नए डिजाइन के स्लाइडिंग गेट लगाने पर सहमति बनी थी।

20-20 क्विंटल के दो कपाट लगे हैं: बीएसएफ के लिए गेट तैयार करने वाले भल्ला इंजीनियरिंग वर्क्स के हरदेव सिंह भल्ला बताते हैं कि लोहे की मजबूत मोटी पाइपों से बने गेट में दो कपाट हैं। दोनों का वजह 20-20 क्विंटल है। हर कपाट में 23 पाइप लगे हैं। इस स्लाइडिंग गेट के दोनों हिस्से डबल बियरिंग वाले 6 व्हील पर चलेंगे। इनमें से प्रत्येक व्हील का वजन 4 किलो है। गेट वजनी है। लेकिन एक जवान इसे आसानी से खोल और बंद कर सकेगा। गौरतलब है कि 17 नवंबर 2015 की तड़के 3.50 बजे सुरेंद्र सिंह कंग नामक एनआरआई ने तमाम सुरक्षा प्रबंधों को धत्ता बताते हुए अपनी स्कार्पियो गाड़ी से भारतीय गेट तोड़ते हुए पाकिस्तानी गेट में टक्कर मार दी थी। उसमें भारतीय गेट पूरी तरह टूट गया था। ऐसे में अब नए गेट को और भी मजबूत और वजनी बनवाया गया है।

X
इस गेट को 8 कारीगरों ने रात-दिन इस गेट को 8 कारीगरों ने रात-दिन
Click to listen..