केंद्र ने लाइब्रेरी से उठाया सारा सामान नहीं लौटाया: रूप सिंह

Amritsar News - ब्लू स्टार ऑपरेशन के दाैरान दरबार साहिब कांप्लेक्स में स्थित सिख रेफरेंस लाइब्रेरी से फाैज की अाेर से उठाया सारा...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:25 AM IST
Amritsar News - center does not return all the items raised from the library roop singh
ब्लू स्टार ऑपरेशन के दाैरान दरबार साहिब कांप्लेक्स में स्थित सिख रेफरेंस लाइब्रेरी से फाैज की अाेर से उठाया सारा सामान वापस नहीं अाया। एसजीपीसी के मुख्य सचिव डाॅ. रूप सिंह ने कमेटी के पूर्व और मौजूदा अधिकारियों की मीटिंग दाैरान कही। डाॅ. रूप सिंह ने बताया कि ब्लू स्टार से पहले लाइब्रेरी में 512 गुरु ग्रंथ साहिब के हस्तलिखित स्वरूप, 12613 दुर्लभ पुस्तकें और अखबारों के प्रतियां थी। उन्होंने दावा किया कि इसके बाद जो सामान वापस अाया है, वह पूरा नहीं है।

वापस नहीं मिले 307 हस्तलिखित स्वरूप और 11107 पुस्तकें, अब तक लिख चुके 85 पत्र

कमेटी के रिकार्ड मुताबिक गुरु ग्रंथ साहिब के 205 हस्तलिखित स्वरूप, 807 पुस्तकें, 1 हुक्मनामा और कुछ अखबार ही वापस मिले हैं। अभी तक गुरु ग्रंथ साहिब जी के 307 हस्तलिखित स्वरूप औैर 11107 पुस्तकें वापस नहीं मिली। सामान वापसी के लिए सरकार को 1984 के बाद से अब तक 85 पत्र लिखे जा चुके हैं। जो लोग यह कह रहे हैं कि सरकार ने सारा सामान वापस कर दिया है, वे एक साेची-समझी साजिश के तहत उस वक्त की कांग्रेस सरकार काे दोषमुक्त करने की कोशिश में हैं, जबकि असलियत यह है कि सारा सामान कमेटी काे नहीं मिला।

मीटिंग में पहुंचे 21 पूर्व और मौजूदा अिधकारी : डा. रूप सिंह ने बताया कि लाइब्रेरी काे दोबारा नए सिरे से आबाद किया गया है। जिसके चलते मौजूदा समय में 24999 पुस्तकें, 550 हस्त लिखित गुरु ग्रंथ साहिब जी के स्वरूप औैर 1398 हस्तलिखित पोथियां शामिल हैं। मीटिंग में पूर्व व मौजूदा 21 अधिकारी शामिल थे। इनमें पूर्व जत्थेदार ज्ञानी जोगिंदर सिंह वेदांती, मुख्य सचिव डा रूप सिंह, सचिव मनीजीत सिंह आिद शामिल थे।

पूर्व डायरेक्टर अनुराग बोले-मामले में एसजपीसी ने नहीं दिखाई गंभरीता

अमृतसर | सिख रेफरेंस लाइब्रेरी के पूर्व डायरेक्टर अनुराग सिंह ने एसजीपीसी अधिकारियाें के इस मामले में गंभीर न हाेने की बात कही। उन्हाेंने कहा कि कमेटी अधिकारियाें ने अभी तक काेई सूची नहीं बनाई अाैर न ही किसी भी तरह की मामले में पैरवी करने की काेशिश की। उन्हाेंने कहा कि कमेटी अधिकारियाें ने ताे काेर्ट में 2003 से चल रहे मामले के दाैरान भी पक्ष रखने की जहमत नहीं की। उन्होंने 2009 में रिपेार्ट दे दी थी, उसके बाद अाजतक कमेटी चुप क्याें रही। उन्हाेंने उस वक्त भी कहा था कि जाे सामान अा चुका है, बाकी समान कहां है इसकी पैरवी की जाए। अकाली दल के प्रधान की अाेर से गृह मंत्री काे जाे पत्र दिया गया था, उसके साथ सूची लगनी चाहिए थी कि क्या सामान अभी तक नहीं मिला। उन्हाेंने हाईपावर कमेटी पर भी स्वाल खड़े कर दिए उन्हाेंने कहा कि इससे पहले भी कमेटी की अाेर से बहुत सारे मामलाें में सब कमेटियाें काे गठन िकया जाता रहा है। तरनतारन साहिब की दर्शनी ड्याेढ़ी गिराए जाने के मामले में भी सब कमेटी जांच के लिए बनाई गई थी उसका क्या नतीजा निकला।

X
Amritsar News - center does not return all the items raised from the library roop singh
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना