रिश्तों से ठगी / 5 भाई-बहनों के किए जाली हस्ताक्षर, 4 को नहीं लगने दी भनक, पिता के खाते से उड़ाए 1.76 करोड़

प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।
X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।

  • गुरदासपुर में पिता की मौत के बाद बड़े भाई ने छोटे भाई-बहनों से की हेराफेरी 
  • धोखाधड़ी करने के बाद आरोपी फरार, जांच शुरू

Dainik Bhaskar

Dec 14, 2019, 02:46 AM IST

गुरदासपुर. पिता की मौत के बाद बेटे ने धोखे से उनके बैंक खाते में पड़ी करीब 1.76 करोड़ रुपए की राशि उड़ा ली। इस जालसाजी को अंजाम देने के लिए उसने अपने पांच भाई-बहनों के जाली हस्ताक्षर किए, जबकि चार भाइयों को इसकी भनक तक नहीं लगने दी। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया है।

गुरबख्श सिंह निवासी कोठे घराला ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि उनके पिता हरभजन सिंह निवासी कोठे घराला की मौत 27 जुलाई 2016 को हो गई थी। पिता का केनरा बैंक में खाता था, जिसमें करीब 1.76 करोड़ रुपए जमा थे।

पिता की मौत के बाद वे नौ भाई-बहन उनके वारिस थे क्योंकि माता शीला देवी की पिता की मौत से पहले ही मौत हो चुकी थी। शादीशुदा न होने के कारण वह अपने भाई सुखविंदर सिंह के पास ही रहता था।  पुलिस ने केस दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। 

विश्वासघात- जैसा भाई कहता वैसे ही करते गए

गुरबख्श सिंह ने बताया कि बड़ा भाई होने के नाते सुखविंदर सिंह उसे जिस जगह पर भी साइन करने को कहता था, वह कर देता था। उसे इस बात की कोई भनक नहीं लगी कि सुखविंदर धोखाधड़ी कर उसका और बाकी बहन-भाईयों का हक खा रहा है क्योंकि बाकी सभी शादीशुदा होने के कारण गांव से बाहर रहते थे। इससे पहले सुखविंदर ने पिता के बीमार रहते समय उनके कई जगह पर हस्ताक्षर कराकर जमीन जायदाद भी अपने नाम कर ली थी। 
 

पिता की माैत के बाद आरोपी ने रची साजिश

डीएसपी सुखपाल सिंह ने बताया कि पुलिस जांच में सामने आया  है कि आरोपी के पिता की मौत के बाद उनके केनरा बैंक खाते में 1,76,672,27 रुपए जमा थे। आरोपी सुखविंदर सिंह ने अपने 5 भाई-बहनों के जाली हस्ताक्षर कर और 4 भाईयों  से छिपाकर बिना उनके हस्ताक्षर कर खाते से सारे पैसे अपने खाते में ट्रांसफर करा लिए थे।

बैंक में दी परिवार में सिर्फ 6 लोगों के होने की जानकारी

आरोपी ने बैंक को परिवार में केवल 6 सदस्य होने की जानकारी दी थी। इसे लेकर नंबरदार वीर सिंह निवासी कोठे घराले, राज कुमार निवासी गांव अब्बलखेर और रविनंदन निवासी मोहल्ला नंगल कोटली की गवाही डलवाई थी। सुखविंदर ने इन्हें भी धोखे में रखा था उन्हें बताया था कि उसने बैंक में खाता खुलवाना है। उन्हें इस बात की कोई जानकारी नहीं थी कि वह घर में छह सदस्य होने की बात को तस्दीक कराने वाला है।

अब जांच से भाग रहा आरोपी

पुलिस ने बताया कि आरोपी को जांच में शामिल करने का काफी प्रयास किया, लेकिन बार-बार फोन करने के बावजूद वह नहीं पहुंचा। कोठे घराला के पार्षद से जानकारी मिली कि वह अपने घर पर नहीं रह रहा है। वह किसी अज्ञात जगह पर रह रहा है और जानबूझकर जांच में शामिल नहीं हो रहा। पुलिस का कहना है कि आरोपी को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। 
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना