--Advertisement--

नुकसान / बेमौसमी बारिश व ओलावृष्टि ने गुरदासपुर में बरपाया कहर, 6 गांवों की 3 हजार एकड़ फसल खराब



heavy damage in crops of 6 village in Gurdaspur District by hailing
heavy damage in crops of 6 village in Gurdaspur District by hailing
heavy damage in crops of 6 village in Gurdaspur District by hailing
X
heavy damage in crops of 6 village in Gurdaspur District by hailing
heavy damage in crops of 6 village in Gurdaspur District by hailing
heavy damage in crops of 6 village in Gurdaspur District by hailing
  • किसान बोले-गुजारा चलना मुश्किल, अब किसी न किसी से कर्ज लेना पड़ेगा
  • ओलावृष्टि वाले खेतों का जायजा लेने के लिए टीमों की ड्यूटी लगा दी गई

Dainik Bhaskar

Oct 11, 2018, 07:35 PM IST

गुरदासपुर। पंजाब का किसान पहले ही कर्ज के बोझ तले दबा हुआ है। आए दिन पंजाब में 1-2 किसान कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर रहे हैं। बुधवार रात हुई बेमौसमी बारिश व ओलावृष्टि ने किसानों की समस्या को और बढ़ा दिया है। गुरदासपुर के पास स्थित गांव ततले में ही किसानों की 350 एकड़ फसल बर्बाद कर दी, जबकि आसपास के गांव जौड़ा छत्तरां, कादियांवाली, परसों का पिंड, कोट मोहन लाल, पुरोवाल, गजनीपुर की कुल मिलाकर करीब 3 हजार एकड़ फसल खराब हुई है।

 

इन किसानों की फसल हुई खराब: गांव ततले के पीड़ित किसान पृथी सिंह की 15 एकड़, जसविन्दर सिंह की 20 एकड़, साउन सिंह की 14 एकड़, रणधीर सिंह की 5, महिंदर पाल की 12, कुलवंत सिंह की 12, सुच्चा सिंह की 20, बलविन्दर सिंह की 15, हीरा सिंह की 12, अजीत सिंह की 7, सुखदयाल सिंह 6, गुरविन्दर सिंह की 6, हरप्रीत सिंह की 6, अमरजीत सिंह की 5, गुलजार सिंह की 10, बचन सिंह की 5, बलविन्दर सिंह की 5 एकड़ खड़ी फसल खराब हो गई है।

 

धान के साथ साथ माह की फसल भी बर्बाद: गांव के पीड़ित किसानों ने बताया कि इस बारिश व ओलावृष्टि के कारण सिर्फ धान ही नहीं, बल्कि माह व चारे की फसल भी बुरी तरह से खराब हुई है। किसानों ने कहा कि यह फसलें ही हमारे जीवन की आशा होती हैं इन्हीं से हम अपना व अपने परिवार का पालन-पोषण करते हैं। फसल खराब हो जाने के कारण अब हमारा गुजारा चलना मुश्किल है, क्योंकि अब गुजारा चलाने के लिए किसी न किसी से कर्ज लेना पड़ेगा।

 

उचित मुआवजे की मांग: पीड़ित किसानों ने जिला प्रशासन से मांग की है कि खराब हुई फसल का जायजा लेकर इसकी गिरदावरी करवाई जाए। और हम लोगों को उचित मुआवजा दिया जाए। किसानों ने कहा कि अगर हमें उचित मुआवजा नहीं मिला तो हमें भी आत्महत्या के रास्ते पर चलना पड़ेगा।

 

जायजा लेने के लिए कमेटियों की लगाई ड्यूटी: एग्रीकल्चर अधिकारी रमेश शर्मा ने कहा कि हमारे क्षेत्र में कहीं कहीं ओलावृष्टि हुई जिस कारण सभी जगह पर फसल खराब नहीं हुई। ओलावृष्टि वाले खेतों का जायजा लेने के लिए टीमों की ड्यूटी लगा दी गई है। उनकी रिपोर्ट आने के बाद ही विभाग के डायरेक्टर को लिखा जाएगा। एसडीएम सकत्तर सिंह बल ने कहा कि ओलावृष्टि के कारण फसल खराब होने संबंधी उन्हें सूचना मिल चुकी है। खराब फसल की गिरदावरी करवाई जाएगी और मुआवजे के लिए सरकार को लिखा जाएगा।

--Advertisement--
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..