Hindi News »Punjab »Amritsar» पुतली घर में मीजल्स-रुबेला को मिला अच्छा रिस्पांस

पुतली घर में मीजल्स-रुबेला को मिला अच्छा रिस्पांस

सरकारी स्कूल पुतली घर में टीका लगने के बाद बच्चे खुशी का इजहार करते हुए। भास्कर न्यूज | अमृतसर सरकारी हाई स्कूल...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 02, 2018, 02:05 AM IST

  • पुतली घर में मीजल्स-रुबेला को मिला अच्छा रिस्पांस
    +3और स्लाइड देखें
    सरकारी स्कूल पुतली घर में टीका लगने के बाद बच्चे खुशी का इजहार करते हुए।

    भास्कर न्यूज | अमृतसर

    सरकारी हाई स्कूल पुतली घर में मंगलवार को मीजल्स रुबेला कैंपेन के तहत डॉ. नीलम की टीम ने 15 साल से कम उम्र वाले बच्चों को टीका लगाया। स्कूल के प्रिंसिपल अमरजीत सिंह ने बताया कि स्कूल में 100 बच्चों का टीकाकरण हुआ। उनका कहना है कि यहां पर बच्चों व उनके पैरेंट्स ने स्वेच्छा से टीका लगवाने में पहल की। डॉ. नीलम ने बताया कि सिविल सर्जन डॉ. हरदीप सिंह घई के दिशानिर्देश पर उनको सात स्कूलों, जिसमें हरिपुरा के चार, पुतली घर, ग्वालमंडी के दो तथा यतीम खाने के पास के एक स्कूल की जिम्मेदारी दी गई। सभी जगहों पर बेहतर रिस्पांस रहा।

    डॉ. अग्निहोत्री ने टीकाकरण का शुभारंभ किया

    भास्कर न्यूज | तरनतारन

    तरनतारन में मीजल्स-रूबेला का टीकाकरण अभियान एक प्राइवेट स्कूल के छात्रों को टीकाकरण में शामिल कर किया गया। तरनतारन के विधायक डॉ. धर्मवीर अग्निहोत्री ने इस अभियान का शुभारंभ करते हुए स्कूल के छात्रों को क्षेत्र विभाग की टीम के साथ टीका लगवाने में सहयोग दिया। उन्होंने छात्रों व उनके अभिभावकों को प्रेरणा देते हुए कहा कि जैसे देश को पोलियो से मुक्त किया गया है। वैसे ही अब भारत देश इस टीकाकरण अभियान के सफल होने पर डीजल और रूबेला जैसे घातक वायरस से मुक्त होगा।

    विधायक डॉ. धर्मवीर अग्निहोत्री ने आम लोगों से अपील करते हुए कहा कि आजकल सोशल मीडिया पर जो इस कंपनी के खिलाफ जो मैसेज भेजे जा रहे हैं। उनमें कोई सच्चाई नहीं है कुछ लोग इस अभियान को सफल करने के लिए झूठी अफवाहें फैला रहे हैं। विधायक ने कहा कि सभी लोग अपने अपने बच्चों को मीजल्स-रूबेला का टीका अवश्य लगवाएं। यह टीका सरकार की तरफ से निशुल्क लगाया जा रहा है। जिला टीकाकरण अधिकारी डॉक्टर कंवलदीप सिंह औलख ने कहा कि इस समय सोशल मीडिया पर मीजल्स रूबेला के बारे में भ्रामक प्रचार किया जा रहा है। आम लोगों को भ्रामक प्रचार के माध्यम से कहा जा रहा है। कि इस टीके के लगने से उनकी संतान नपुंसक हो सकती है। लेकिन उन्होंने स्पष्ट करते हुए कहा कि यह भ्रामक प्रचार केवल टीकाकरण अभियान को असफल करने के लिए ही किया जा रहा है। इस टीके के लगने से देश के लाखों बच्चे बिना किसी हानि के अपना स्वस्थ जीवन प्राप्त कर सकेंगे। डॉक्टर कंवलदीप सिंह औलख ने कहा कि यूनिसेफ, केंद्र और पंजाब सरकार का मुख्य लक्ष्य अपने देश की संभावी पीढ़ी को हर तरह के स्वास्थ्य खतरे से बचाना है। उन्होंने बताया कि तरनतारन में कल से मीजल्स-रूबेला टीकाकरण अभियान आरंभ किया जा रहा है। जिसके अंतर्गत पहले चरण में जिले के सभी प्राइवेट और सरकारी स्कूलों में 9 माह से 15 वर्ष तक के बच्चों को यह टीका निशुल्क लगाया जाएगा। दूसरे चरण में जिले के हर घर में संपर्क कर बच्चों को टीके लगेंगे और विशेष रूप से स्लम बस्तियों में जाकर स्कूल में ना पढ़ने वाले बच्चों को भी यह टीके लगाए जाएंगे।

    छात्रों संग विधायक डॉ. धर्मवीर अग्निहोत्री और जिला टीकाकरण अधिकारी।

    गंडा सिंह वाला स्कूल में 165 बच्चों को दी वैक्सीन

    सरकारी हाई स्कूल गंंडा सिंह वाला में प्रिंसिपल सर्बजीत कौर की अगुवाई में मीजल्स-रूबेला का टीका लगाया गया।

    भास्कर न्यूज | अमृतसर

    मीजल्स-रुबेला कैंपेन के पहले दिन सरकारी हाई स्कूल गंडा सिंह वाला में सेहत विभाग की टीम ने सिविल सर्जन डॉ. हरदीप सिंह घई के दिशानिर्देश पर टीकाकरण किया। इस संबंध में स्कूल के प्रिंसिपल सर्वजीत कौर ने बताया कि टीम ने इस दौरान स्कूल के 165 बच्चों का टीकाकरण किया। स्कूल के 300 बच्चों में इतने बच्चे 15 साल से कम उम्र के थे। उन्होंने सभी पैरेंट्स से अपील की है कि वह भ्रामक पर ऐतबार न करें बच्चों को टीका जरूर लगाएं।

    बच्चों के लिए एमआर वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है : डीसी

    तरनतारन | डीसी प्रदीप कुमार सभ्रवाल ने जिलावासियों से अपील की कि वह मीजल्स रूबेला टीकाकरण मुहिम संबंधी कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा फैलाई जा रही अफवाहों पर ध्यान न दें व अपने बच्चों का टीकाकरण जरूर करवाएं। यह वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है। पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर वायरल हुई वीडियो जिसमें खसरे व रूबेला मुहिम के विरोध में बहुत कुछ कहा गया है, को तथ्यहीन करार देते हुए डिप्टी कमिश्नर ने लोगों से अपील की कि वह इस मुहिम में अधिक से अधिक साथ दें। उन्होंने बताया कि खसरा एक ऐसी बीमारी है जिससे हर साल भारत में 50 हजार मौतें हो रही हैं व इस बीमारी को खत्म करने के लिए विश्व सेहत संस्था की देखरेख में पूरे भारत में 9 महीने से 15 साल के बच्चों को खसरा व रुबेला का टीका लगाया जा रहा है। कार्यकारी सिवल सर्जन डा. रजिंदरपाल ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस वीडियो द्वारा आम लोगों को गुमराह किया जा रहा है जोकि झूठी व बेबुनियाद है।

  • पुतली घर में मीजल्स-रुबेला को मिला अच्छा रिस्पांस
    +3और स्लाइड देखें
  • पुतली घर में मीजल्स-रुबेला को मिला अच्छा रिस्पांस
    +3और स्लाइड देखें
  • पुतली घर में मीजल्स-रुबेला को मिला अच्छा रिस्पांस
    +3और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Amritsar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×