• Hindi News
  • Punjab
  • Amritsar
  • पहले दिन सरकारी स्कूलों में छुट्टी, प्राइवेट स्कूलों ने किया इंजेक्शन लगवाने से इनकार
--Advertisement--

पहले दिन सरकारी स्कूलों में छुट्टी, प्राइवेट स्कूलों ने किया इंजेक्शन लगवाने से इनकार

जिस मीजल्स-रुबेला (एमआर) टीकाकरण को लेकर सेहत विभाग पिछले कई दिनों से कसरत कर रहा है, उस कैंपेन को पहले ही दिन,...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:05 AM IST
जिस मीजल्स-रुबेला (एमआर) टीकाकरण को लेकर सेहत विभाग पिछले कई दिनों से कसरत कर रहा है, उस कैंपेन को पहले ही दिन, मंगलवार को सरकारी स्कूलों में छुट्टी हो जाने से झटका लगा है। दूसरी तरफ प्राइवेट स्कूलों ने अभिभावकों की मंजूरी का तर्क देते हुए बच्चों को इंजेक्शन लगवाने से इनकार कर दिया है। समूचे सूबे में पहली मई यानी लेबर-डे पर एमआर कैंपेन शुरू हो रही है। इसके तहत अमृतसर जिले में 9 महीने से लेकर 15 साल तक के 6.50 लाख बच्चों को यह इंजेक्शन लगाया जाना है। इसके लिए सेहत विभाग ने 1350 से अधिक टीमें बनाई हैं। पांच हफ्ते चलने वाली इस कैंपेन के तहत पहले दो हफ्तों में सरकारी और गैर सरकारी स्कूलों को कवर किया जाएगा। दूसरे दो हफ्तों के दौरान टीमें घर-घर दस्तक देंगी और आखिरी हफ्ते में ऐसे बच्चों को आइडेंटिफाई किया जाएगा, जो बच गए होंगे। पहली मई को लेबर-डे पर सरकारी स्कूलों में छुट्टी करना-न करना प्रबंधन की मर्जी होती है इसलिए अनुमान है कि मंगलवार को 50 से 70 फीसदी सरकारी स्कूल बंद रहेंगे। इससे पहले एएनएम और आशा वर्करों ने इन्सेंटिव न मिलने के चलते एमआर कैंपेन के बहिष्कार का ऐलान किया था।

मीजल्स रुबेला के समर्थन में उतरी सीकेडी : पहली मई से शुरू हो रही मीजल्स-रुबेला कैंपेन को लेकर बनी भ्रम की स्थिति के बीच सिख समुदाय की सबसे बड़ी शिक्षण संस्था, चीफ खालसा दीवान (सीकेडी) ने इस कैंपेन का समर्थन किया है। मीजल्स-रुबेला इंजेक्शन से बच्चों के नपुंसक होने की चर्चा को अफवाह बताते हुए दीवान के प्रधान डॉ. संतोख सिंह ने कहा कि यह नस्लकुशी नहीं बल्कि नस्ल को बचाने वाली कैंपेन है।


X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..