• Home
  • Punjab
  • Amritsar
  • रक्तदान: अब विदेशियों के रगों में भी दौड़ेगा पंजाबियों का खून
--Advertisement--

रक्तदान: अब विदेशियों के रगों में भी दौड़ेगा पंजाबियों का खून

अपनी बहादुरी और दानवीरता के लिए मशहूर पंजाबी रक्तदान में भी सबसे आगे हैं। इनकी तरफ से पहले अपने यहां रक्तदान करके...

Danik Bhaskar | May 01, 2018, 03:05 AM IST
अपनी बहादुरी और दानवीरता के लिए मशहूर पंजाबी रक्तदान में भी सबसे आगे हैं। इनकी तरफ से पहले अपने यहां रक्तदान करके लोगों की जिंदगी बचाई जाती रही है और अब यह लोग पड़ोसी मुल्कों में भी सेवा का यह काम करेंगे। इसकी पहली कड़ी में पड़ोसी देश नेपाल में 14 जून को वर्ल्ड ब्लड डोनेशन डे के मौके पर रक्दान कैंप लगाया जाएगा। कैंप नेपाल की राजधानी काठमांडू में वर्ल्ड ब्लड डोनर्स डे के मौके पर को लगाया जा रहा है। इसमें अमृतसर और पंजाब के अलावा हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश तथा दिल्ली समेत देश के दूसरे राज्यों के ब्लड डोनर्स एनजीओ हिस्सा लेंगी। सोसायटी के प्रधान सुखविंदर सिंह मठारू तथा कैशियर बिक्रमजीत सिंह ने बताया कि पूरे देश से 150 से अधिक लोग नेपाल जाएंगे। इसमें पंजाब से 65 तथा अकेले अमृतसर से 11 लोगों को शामिल किया गया है। यह कैंप नेपाल में थेलेसीमिया पीड़ित बच्चों, कैंसर पीडितों, एक्सीडेंट प्रभावितों के लिए रक्त देने तथा लोगों में बोन मैरो की सोच पैदा करने के लिए लगाया जा रहा है।

अंतरराष्ट्रीय पहल

एसोसिएशन ऑफ ब्लड डोनर्स सोसायटी नेपाल की राजधानी काठमांडू में 14 जून को लगाएगी रक्तदान कैंप

नेपाल में खूनदान कैंप लगाए जाने के बारे मंे जानकारी देते एसोसिएशन ऑफ ब्लॅड डोनर्स सोसायटी के नुमाइंदे।

रक्तदान में अव्वल पंजाबी उसमें भी सबसे आगे अमृतसरी

उक्त लोगों ने बताया कि देश में इस वक्त पंजाब के लोग सबसे ज्यादा रक्त दान करते हैं। यहां के लोग हर साल पांच लाख यूनिट रक्तदान करते हैं। इसमें भी अमृतसर के लोग औसतन 30 हजार यूनिट रक्त दान में देते हैं। इस साल अकेले गुरु नानक देव अस्पताल के लिए यहां की दर्जन भर एनजीओ की तरफ से 20 हजार यूनिट खून तथा 15 हजार कंपोनेंट दान किया गया। साा ही वरिष्ठ उपाध्यक्ष वरदान चड्ढा ने सूबा सरकार से मांग की है कि सात फरवरी को वर्ल्ड थेलेसीमिया डे के संदर्भ में केंद्र सरकार ने खून की टेस्टिंग फ्री की है। राज्य सरकार भी इसे फ्री करे।