• Home
  • Punjab
  • Amritsar
  • ब्यास के पानी के दूषित होने की हो फोरेंसिक जांच : एनपीएफ
--Advertisement--

ब्यास के पानी के दूषित होने की हो फोरेंसिक जांच : एनपीएफ

नेशनल पीपल फ्रंट एनपीएफ ने मांग की है कि ब्यास दरिया के पानी में मिक्स हुए जहरीले पदार्थ से लाखों मछलियों के मारे...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 04:10 AM IST
नेशनल पीपल फ्रंट एनपीएफ ने मांग की है कि ब्यास दरिया के पानी में मिक्स हुए जहरीले पदार्थ से लाखों मछलियों के मारे जाने के मामले की फोरेंसिक जांच करवाई जाए। इस मामले में जो भी फैक्टरी मालिक या अन्य आरोपी है उसके खिलाफ अपराधिक मामला दर्ज करके सख्त कानूनी कार्रवाई की जाए। संगठन ने इस मुद्दे को लेकर पंजाब सरकार को एक पत्र जारी किया है। एनपीएफ के अध्यक्ष एडवोकेट गगनदीप भाटिया और महासचिव राजविंदर कुमार ने कहा कि ब्यास दरिया में मिले जहरीले पदार्थ से यहां मछलियों की ही मौत नहीं हुई है वहीं पानी प्रदूषित होने के साथ साथ पर्यावरण को भी भारी नुकसान हुआ है। अभी तक यह स्पष्ट हुआ है कि दरिया के साथ लगती किसी फैक्टरी से जहरीला पानी निकास होकर ब्यास दरिया के पानी में मिलने के कारण दरिया का पानी करीब एक किलोमीटर से अधिक तक के एरिया में काला पड़ गया और लाखों मछलियां मर गई है। यह एक गंभीर मामला है। जो राज्य की सुरक्षा के साथ साथ पर्यावरण के प्रदूषित होने के साथ जुड़ा है। इस का संबंध पूरी तरह सीधे तौर पर दरिया के किनारों पर बसते गांवों के लोगों के जीवन के साथ भी है। इस लिए इस मामले में किसी भी आरोपी को बख्शा नहीं जाना चाहिए।