पंजाब / पुलिस ने युवक को घर से उठा टॉर्चर किया, एचएचओ ने टांगें काट दरिया में फेंकने की धमकी दी; मुख्यमंत्री ने किया खेद प्रकट

कादियां में रहता लकड़ी का युवा कारीगर फरीद-उद्दीन शम्स, जिसे पुलिस द्वारा टॉर्चर किए जाने का आरोप है। कादियां में रहता लकड़ी का युवा कारीगर फरीद-उद्दीन शम्स, जिसे पुलिस द्वारा टॉर्चर किए जाने का आरोप है।
X
कादियां में रहता लकड़ी का युवा कारीगर फरीद-उद्दीन शम्स, जिसे पुलिस द्वारा टॉर्चर किए जाने का आरोप है।कादियां में रहता लकड़ी का युवा कारीगर फरीद-उद्दीन शम्स, जिसे पुलिस द्वारा टॉर्चर किए जाने का आरोप है।

  • गुरदासपुर जिले के कादियां में घर के बाहर खड़ा फोन पर बात कर रहा था लकड़ी का कारीगर
  • आरोप-पुलिस जबरदस्ती जीप में डाल ले गई थाने, पांच पुलिस वालों ने मारे सौ के करीब मुक्के
  • अहमदिया जमात में रोष का माहौल, सोशल मीडिया के मैसेज पर संज्ञान ले सीएम ने किया मुख्यालय में फोन

Dainik Bhaskar

Jan 21, 2020, 07:16 PM IST

बटाला. गुरदासपुर जिले के कस्बा कादियां में एक युवक ने पुलिस पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। अहमदिया जमात से ताल्लुक रखने वाले लकड़ी के कारीगर के मुताबिक पुलिस ने इसे बिना वजह उठा लिया। थाने ले जाकर टॉर्चर किया, वहीं एसएचओ ने टांगें काटकर ब्यास दरिया में फेंक पाकिस्तान पहुंचा देने की धमकी दी है। मामला सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के संज्ञान में पहुंचा तो उन्होंने अहमदिया जमात के कादियां स्थित मुख्यालय में फोन कर इस घटना पर दुख जताया। इसके बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। एसएसपी बटाला ने जांच के लिए कमेटी बना दी है।

कादियां में रहते लकड़ी के युवा कारीगर फरीद-उद्दीन शम्स ने बताया कि फोन के सिग्नल कम होने के कारण वह बात करता अपने घर के दरवाजे के बाहर आ गया। इतने में पुलिस की जीप आकर रुकी। एसएचओ समेत सब पुलिस वाले शराब के नशे में थे। एसएचओ ने आते ही गाली देनी शुरू कर दी। जब उसने गलत व्यहार का विरोध किया तो एसएचओ ने थप्पड़ बरसाने शुरू कर दिए। पुलिस वाले उसे घर के बाहर से उठा जीप में डाल थाने ले आए। फरीद के मुताबिक थाने में नशे में धुत एसएचओ ने पांच कॉन्स्टेबलों के साथ उसे टॉर्चर करना शुरू कर दिया। सबने मिलकर सिर पर सौ के करीब मुक्के मारे। नशे में धुत एसएचओ कहने लगा कि तुम सब अहमदिया मुसलमानों ने गंद डाल रखा है, तुम सब अहमदिया मुसलमानों की टांगें काटकर बांधकर ब्यास में फेंक पाकिस्तान भिजवा दूंगा

फरीद शम्स के मुताबिक इसके बाद एसएचओ व थाने के अंदर मौजूद पुलिस वाले उस पर हेरोइन का केस डालने की तैयारी करने लगे। पुलिस वालों ने उससे जबरदस्ती एक फर्जी माफीनामा साइन करवाया। इसी बीच उसके परिवार वाले व अहमदिया जमात के लोग थाने पहुंच गए और उसे पुलिस अत्याचार से बचाकर थाने से घर लेकर आए।

फरीद के साथ हुई पुलिस की दरिंदगी और अहमदिया मुसलमानों को काटकर ब्यास में बहा पाकिस्तान भेजने की धमकी की बात फैलते ही अहमदिया समुदाय से जुड़े मुसलमानों में रोष फैलने लगा। इसके बाद सोशल मीडिया पर एसएचओ के खिलाफ व पंजाब पुलिस के खिलाफ हैशटैग से पोस्ट दुनियाभर के अहदिया मुसलमान वायरल करने लगे। दूसरे मजहब के लोगों भी इन पोस्टों को पंजाब पुलिस के खिलाफ सपोर्ट करने लगे, वहीं अहदिया जमात से जुड़े लोगों ने बताया कि पीड़ित फरीद की शिकायत मिलने पर पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने तुरंत खुद अहमदिया जमात के मुख्यालय कादिया में फोन कर इसे दुखद बताया। सीएम की ओर से मामला कैबीनेट मंत्री तृप्त रजिंदर सिंह बाजवा को सौंपा गया। अहमदिया जमात से जुड़े सूत्र बताते हैं कि मंत्री तृप्त रजिंदर सिंह बाजवा ने कादियां के एसएचओ को अच्छी डांट फटकार लगाई और उसे तुरंत अहमदिया जमात के कार्यालय जाकर माफी मांगनी के लिए कहा।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना