5 सदियों का सफर अदालत का फैसला आस्था की जीत

Amritsar News - अमृतसर| शनिवार को रामलला के हक में आए सुप्रीमकोर्ट के फैसले ने श्रीराम के पैरोकारों और हिंदू धर्म के अनुयायियों...

Nov 10, 2019, 07:27 AM IST
अमृतसर| शनिवार को रामलला के हक में आए सुप्रीमकोर्ट के फैसले ने श्रीराम के पैरोकारों और हिंदू धर्म के अनुयायियों में खुशी का माहौल पैदा कर दिया। उधर माननीय अदालत ने फैसला सुनाया इधर लोगों ने मंदिरों, घरों, कारोबारी संस्थानों में दीपमाला और आतिशबाजी करके जश्न मनाया। दुर्ग्याणा तीर्थ के मुख्य मंदिर में लाइटिंग की गई और मंदिर के चारों तरफ भक्तों ने घी के दीए जलाए। बताया जाता है कि बाबर ने आज से पांच सदी पहले अर्थात 1528-29 के दौरान मंदिर को तुड़वाकर उसकी जगह मस्जिद बनवाई थी। तब से यह मामला हिंदू-मुस्लिम समुदायों के बीच विवाद का कारण बना रहा। दुर्ग्याणा तीर्थ कमेटी के प्रधान एडवोकेट रमेश शर्मा ने कहा कि अदालत ने 5 सदी बाद जहां सच्चाई की परख की है वहीं हिंदुओं की भावनाओं का भी ध्यान रखा है।

घी के दीयों से दुर्ग्याणा जगमग

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना