करतारपुर कॉरीडोर / उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने रखा नींव पत्थर,



अमरिंदर सिंह अमरिंदर सिंह
मान गांव में उपराष्ट्रपति ने करतारपुर साहिब से जोड़ने वाले कॉरिडोर की आधारशिला रखी। मान गांव में उपराष्ट्रपति ने करतारपुर साहिब से जोड़ने वाले कॉरिडोर की आधारशिला रखी।
X
अमरिंदर सिंहअमरिंदर सिंह
मान गांव में उपराष्ट्रपति ने करतारपुर साहिब से जोड़ने वाले कॉरिडोर की आधारशिला रखी।मान गांव में उपराष्ट्रपति ने करतारपुर साहिब से जोड़ने वाले कॉरिडोर की आधारशिला रखी।

Dainik Bhaskar

Nov 26, 2018, 12:27 PM IST

बटाला (पंजाब).  पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने करतारपुर साहिब कॉरिडोर के शिलान्यास के मौके पर पाकिस्तान के सेना प्रमुख को चेतावनी दी। अमरिंदर ने पाक आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा को पंजाब में आतंक फैलाने और सीमा पर जवानों की हत्याओं का जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा- हमारे पास बहुत बड़ी सेना है और हम तैयार हैं। अमरिंदर से पहले वेंकैया नायडू ने कॉरिडोर का शिलान्यास किया। 

 

सवाल किया- क्या आर्मी ने जवानों की हत्या सिखाई?

अमरिंदर ने कहा- मैं पाकिस्तान के सेना प्रमुख से एक बात कहना चाहता हूं। मैं भी आर्मी में रहा हूं और सर्विस के लिहाज से जनरल बाजवा मुझसे बहुत जूनियर हैं। क्या आर्मी ने आपको हमारी सीमा पर जवानों की हत्या करना सिखाया है? आप स्नाइपरों के जरिए उनकी हत्या कर रहे हैं। क्या आपको कभी ये बताया गया है कि आपने पठानकोट और दीनानगर में लोगों की हत्या की। निरंकारी भवन में हुए हमले का जिक्र करते हुए पंजाब के सीएम ने कहा- जब लोगों पर बम फेंका गया, तब वे प्रार्थना कर रहे थे। क्या आपकी सेना ने यही सिखाया था? ये कायराना है।

 

नायडू ने कहा- सभी को साथ लेकर चलना चाहते हैं

नायडू ने भाषण की शुरुआत पंजाबी में की। उन्होंने कहा- गुरु नानक देवजी की शिक्षाएं आज भी प्रासंगिक हैं। इन्हें दुनिया के कोने-कोने तक पहुंचाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। हमारी संस्कृति में कहते हैं कि पूरी दुनिया एक परिवार है। हमारी परंपरा कभी आक्रमण की नहीं रही है। सीमा पार से हमेशा ऐसी हरकतें होती रहती हैं। हम सभी को साथ लेकर चलना चाहते हैं। हम किसी भी सूरत पर आतंकवाद को नहीं पनपने देंगे। हम दोनों देशों को मिलकर एक इतिहास रचना है, जिससे आने वाली पीढ़ियां हमेशा याद रखें।

 

इंटरनेशनल बाॅर्डर तक बनाया जाएगा कॉरिडोर

कैबिनेट ने करतारपुर कॉरिडोर के निर्माण का फैसला किया था। यह कॉरिडोर गुरदासपुर जिले के डेरा बाबा नानक स्थान से इंटरनेशनल बॉर्डर तक बनाया जाएगा। भारत में इस कॉरिडोर का करीब 2 किलोमीटर का हिस्सा होगा, जबकि पाकिस्तान में कॉरिडोर का 3 किमी का हिस्सा होगा। इसके निर्माण में करीब 16 करोड़ रुपए का खर्च आएगा। करीब चार महीने में इस कॉरिडोर का निर्माण पूरा किए जाने का लक्ष्य तय किया गया है।

 

गुरुनानक देवजी ने करतारपुर साहब में 18 साल बिताए थे

गुरुनानक देवजी ने करतारपुर साहब में अपने जीवन के 18 साल बिताए थे। यह भारत की सीमा से कुछ किलोमीटर अंदर पाकिस्तान की सीमा पर है। इस कॉरिडोर के बन जाने से लाखों सिख तीर्थयात्रियों को पवित्र स्थान पर जाने में मदद मिलेगी। फिलहाल, अभी यहां पर भारत की सीमा पर खड़े होकर दूरबीन की मदद से गुरुद्वारा के दर्शन की सुविधा है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना