जौड़ा फाटक रेल हादसा / हादसे की रिपोर्ट सार्वजनिक करने और सिद्धू पर केस की मांग पर अड़े पीड़ित



प्रदर्शन कर रहे लोग। प्रदर्शन कर रहे लोग।
X
प्रदर्शन कर रहे लोग।प्रदर्शन कर रहे लोग।

  • अमृतसर में पीड़ित परिवारों ने किया प्रदर्शन
  • ट्रेनें रोकने निकले परिवारों को रोककर पुलिस ने धक्कामुक्की की
  • सरकार को दिया 22 तक का अल्टीमेटम, 23 से रेलवे ट्रैक पर बैठने की चेतावनी

Dainik Bhaskar

Oct 09, 2019, 03:53 AM IST

अमृतसर. जौड़ा फाटक रेल हादसे के पीड़ित परिवारों ने मंगलवार को करीब पांच घंटे तक रेलवे ट्रैक के नजदीक प्रदर्शन किया और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। पीड़ितों ने सरकार से हादसे की रिपोर्ट सार्वजनिक करने और सिद्धू पर वादाखिलाफी के तहत 420 का केस दर्ज करवाने की मांग की। पीड़ितों ने मांगों को पूरा करने के लिए सरकार को 22 अक्टूबर तक का अल्टीमेटम दिया है। 23 से रेलवे ट्रैक को रोकने की चेतावनी दी है।

 

मंगलवार को भी पीड़ित रेलवे ट्रैक जाम करने की मांग पर अड़े हुए थे, लेकिन प्रशासन ने उन्हें रोक दिया। परिवारों और पुलिस में ट्रैक पर जाने के लिए मामूली सी धक्का-मुक्की भी हुई, लेकिन पुलिस ने उन्हें आगे जाने नहीं दिया। वहीं दूसरी तरफ प्रदर्शनकारियों के समर्थन में पंजाब एकता पार्टी के प्रधान सुखपाल सिंह खैहरा, शिअद से तलबीर सिंह गिल, पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व सेक्रेटरी मनदीप सिंह मन्ना, अाप से कुलदीप सिंह धालीवाल पहुंचे और उन्होंने मामले की रिपोर्ट सार्वजनिक करने के साथ-साथ आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग की। पीड़ित परिवार सुबह साढ़े 9 बजे ट्रैक पर ट्रेन को रोकने के लिए निकले ही थे कि पुलिस की तरफ से पहले ही बेरिकेडिंग करके उन्हें रोक दिया गया।

 

कांग्रेस के पूर्व सेक्रेटरी बोले, सरकार के पास पीड़ितों के लिए समय नहीं
पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व सेक्रेटरी मनदीप सिंह मन्ना ने कहा कि सिद्धू ने अपने चहेतों को खुश करने के लिए इन परिवारों की बलि दे दी। अब एक वर्ष पूरा हो चुका है और इनके दर्द सुनने के लिए उनके पास समय नहीं है। जिस नेता के पास अपने हलके के लोगों की समस्या सुनने का समय नहीं है, वह अन्य लोगों की क्या समस्याएं सुनेंगे। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार की तरफ से जो जांच करवाई गई है, उसे सार्वजनिक नहीं किया जा रहा है, लेकिन वह दावा करते हैं कि वह जल्द ही इस रिपोर्ट को सार्वजनिक करेंगे।

 

उधर, एक मंच पर आए अकाली दल और आप
पीड़ित परिवारों को इंसाफ दिलाने के लिए शिअद और आप पार्टी एक ही मंच पर आने को भी तैयार हो गई। प्रदर्शनकारियों का समर्थन करने पहुंचे अकाली नेता तलबीर सिंह गिल, आप नेता कुलदीप सिंह धालीवाल, अशोक तलवार ने परिवारों को इंसाफ दिलाने का आश्वासन दिया। इन नेताओं ने परिवारों को आश्वासन दिया कि अगर 22 अक्तूबर तक मांगे पूरी नहीं की गई तो परिवारों के साथ आकर वह धरने में शामिल होंग।

 

ये हैं पीड़ितों की मांगें

  • हर परिवार को सरकारी नौकरी देने का वादा पूरा किया जाए।
  •  पीड़ित परिवार के बच्चों को बढ़िया स्कूल में पढ़ाई करने का प्रबंध, उनके बच्चों को गोद लिए जाने का वादा पूरा किया जाए।
  • इन परिवारों को हर महीने राशन देने का प्रबंध करने, हर एक परिवार को हर महीने 8 हजार रुपए पेंशन दी जाए।
  •  हादसे की रिपोर्ट सार्वजनिक कर दोषियों पर कार्रवाई की जाए।
  •  सिद्धू पर वादाखिलाफी का मामला दर्ज किया जाए।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना