• Hindi News
  • Punjab News
  • Anandpur Sahib News
  • स्वां नदी चैनेलाइजेशन के लिए इस बार भी बजट नहीं, बरसात में फिर बाढ़ का खतरा
--Advertisement--

स्वां नदी चैनेलाइजेशन के लिए इस बार भी बजट नहीं, बरसात में फिर बाढ़ का खतरा

केंद्र सरकार ने स्वां नदी को चैनेलाइज करने का प्रोजेक्ट 30 सितंबर 2016 को पास कर दिया गया था, लेकिन यह प्रोजेक्ट पास...

Dainik Bhaskar

May 10, 2018, 02:00 AM IST
स्वां नदी चैनेलाइजेशन के लिए इस बार भी बजट नहीं, बरसात में फिर बाढ़ का खतरा
केंद्र सरकार ने स्वां नदी को चैनेलाइज करने का प्रोजेक्ट 30 सितंबर 2016 को पास कर दिया गया था, लेकिन यह प्रोजेक्ट पास होने के बावजूद इस बार भी शुरू होता नहीं दिख रहा है। कारण, पंजाब सरकार ने इस प्रोजेक्ट के लिए इस बार भी बजट में कोई पैसा नहीं रखा है।

स्वां नदी चैनेलाइज करने पर कुल 210 करोड़ रुपए खर्च आना है, जिसमें से 50 फीसदी हिस्सा केंद्र और 50 फीसदी राज्य सरकार ने देना है। केंद्र सरकार तभी अपना फंड जारी करती है, जब राज्य सरकार अपने हिस्से के 50 फीसदी को बजट में रखती है। ऐसे में स्वां नदी चैनेलाइज न होने से इसके किनारे बसे दर्जनों गांवों के लोगों को बरसात के दिनों में बाढ़ का खतरा बना रहेगा। वहीं, चैनेलाइजेशन न होने के कारण इस बार भी हजारों एकड़ फसल बर्बाद होगी।

ड्रेन विभाग के एक्सईएन सुखविंदर सिंह कलसी ने कहा उनके विभाग द्वारा स्वां नदी को चैनेलाइज करने के संबंध में लगातार प्रयास जारी हैं। उन्हें उम्मीद है कि इस बरसाती सीजन के बाद स्वां नदी को चैनेलाइज करने का काम शुरू हो जाएगा।

केंद्र सरकार ने अपना हिस्सा 75 से घटाकर 50 फीसदी किया

सूत्रों के अनुसार पंजाब सरकार के इस ढीलेपन से सरकार को करीब 52 करोड़ 50 लाख रुपए का अतिरिक्त बोझ उठाना पड़ रहा है। क्योंकि जब यह प्रोजेक्ट 2016 में केंद्र ने पास किया था, तब 210 करोड़ के इस प्रोजेक्ट में 75 फीसदी केंद्र सरकार ने और 25 फीसदी पंजाब सरकार ने हिस्सेदारी डालनी थी। लेकिन, पंजाब सरकार ढीले रवैये के चलते अब केंद्र सरकार ने इस प्रोजेक्ट के लिए हिस्सेदारी 50-50 फीसदी कर दी है। इससे करीब 52 करोड़ 50 लाख रुपए पंजाब सरकार पर अतिरिक्त बोझ पड़ रहा है।

किसान बोले-हर साल बर्बाद होती है हजारांे एकड़ फसल

सतनाम सिंह, हरीश कुमार, करनैल सिंह, जरनैल सिंह, मान सिंह, लखविंदर सिंह, भूपिंदर सिंह, भवन सिंह, दियाल सिंह, गुरनाम सिंह, हरविंदर सिंह, प्रदीप सिंह आदि गांववासियों ने सरकार से मांग की कि स्वां नदी का जल्द चैनेलाइजेशन करना चाहिए क्योंकि बाढ़ आने पर जहां लोगों को अपनी जान का खतरा बन जाता है, वहीं हर वर्ष किसानों की हजारों एकड़ गेहूं भी बर्बाद हो जाती है।

स्वां नदी जिसे चैनेलाइज करने का प्रोजेक्ट शुरू तक नहीं हो पाया है। -भास्कर

स्वां नदी को चैनेलाइज करने की मांग करते गांववासी। -भास्कर

बरसात में इन गांवों पर हो जाता है बाढ़ का खतरा

गांव गाजीपुर के सरपंच प्रदीप शर्मा ने बताया कि स्वां नदी में बाढ़ आ जाने के कारण साथ के गांव चंदपुर, गजपुर, हरीवाल, मैहंदली, शाहपुर, शाहपुर बुर्ज, मटोर, निक्कूवाल, लोधीपुर, अमरपुर बेला आदि गांवों को बाढ़ का खतरा बन जाता है। उन्होंने कहा कि जब केंद्र सरकार स्वां नदी को चैनेलाइज करने के लिए अपनी हिस्सेदारी दे सकती है, तो पंजाब सरकार को भी चाहिए कि वह भी नदी को चैनेलाइज करने के लिए हिस्सेदारी दे।

18 किलाेमीटर नदी का होगा चैनेलाइजेशन|13 जून 2017 को केंद्र की टीम ने प्रोजेक्ट को लेकर आनंदपुर साहिब में दौरा कर अधिकारियों से ड्रेन विभाग को मॉडल स्टडी करने के लिए कहा था। इसमें करीब 27 लाख खर्च आना था। लेकिन, पंजाब सरकार ने अब तक मॉडल स्टडी के लिए 27 लाख रुपए भी नहीं दिया। हिमाचल ने अपने हिस्से में बहने वाली स्वां नदी का चैनेलाइजेशन वर्ष 2016 में कर दिया था। 210 करोड़ के प्रोजेक्ट में करीब 18 किलोमीटर स्वां नदी के एरिया को चैनेलाइज किया जाना था।

X
स्वां नदी चैनेलाइजेशन के लिए इस बार भी बजट नहीं, बरसात में फिर बाढ़ का खतरा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..