Hindi News »Punjab »Anandpur Sahib» मीरी-पीरी के मालिक का गुरतागद्दी दिवस मनाया

मीरी-पीरी के मालिक का गुरतागद्दी दिवस मनाया

ज्ञानी रघवीर सिंह को सम्मानित करते प्रबंधक। -भास्कर भास्कर संवाददाता | आनंदपुर साहिब मीरी पीरी के मालिक श्री...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 08, 2018, 02:00 AM IST

मीरी-पीरी के मालिक का गुरतागद्दी दिवस मनाया
ज्ञानी रघवीर सिंह को सम्मानित करते प्रबंधक। -भास्कर

भास्कर संवाददाता | आनंदपुर साहिब

मीरी पीरी के मालिक श्री गुरु हरगोबिंद साहिब जी का गुरतागद्दी दिवस संगत के साथ गुरुद्वारा श्री शीशगंज साहिब में मनाया और श्री अखंड पाठ साहिब के भोग डाले गए अरदास भाई सुरिंदर सिंह ग्रंथी ने की। इसके उपरांत भाई गुरबचन सिंह हजूरी रागी तख्त श्री केसगढ़ साहिब द्वारा गुरबाणी का रसभिन्ना कीर्तन किया गया। संगत को संबोधित करते तख्त श्री केसगढ़ साहिब के जत्थेदार सिंह साहिब ज्ञानी रघवीर सिंह ने गुरु साहिब जी के जीवन बारे बताया ओर कहा कि गुरु जी ने जबर व जुल्म के खिलाफ खुद श्री साहिब उठा कर हथियार बंद संघर्ष किया और मीरी पीरी की दो कृप्या धारन करके सिखों को भी शास्त्रधारी होने का आदेश दिया। प्रि. सुरिंदर सिंह मेंबर शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने इतिहास में प्रमाण देकर कहा कि गुरु साहिब ने हमेशा सूरवीर व मजदूरों को मान दिया है। जत्थेदार संतोख सिंह ने भी गुरु साहिब जी के जीवन पर जानकारी दी। इस मौके पर उक्त के अलावा पांच प्यारे साहिबान, जसवीर सिंह मैनेजर तख्त साहिब, लखविंदर सिंह व मलकीत सिंह उप मैनेजर, एडवोकेट हरदेव सिंह व भुपिंदर सिंह सूचना अफसर, मनजिंदर सिंह बराड़, रणबीर सिंह कलोता, हरजीत सिंह अचिंत, लवप्रीत सिंह प्रचारक, सरूप सिंह, कौर सिंह, भुपिंदर सिंह आरके, गुरविंदर सिंह, हरदेव सिंह, सुमनदीप सिंह आदि उपस्थित थे।

गुरुद्वारा श्री शीशगंज साहिब में अखंड पाठ साहिब के भोग डाले

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Anandpur Sahib News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: मीरी-पीरी के मालिक का गुरतागद्दी दिवस मनाया
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Anandpur sahib

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×