Hindi News »Punjab »Balachour» आड़ू की बंंपर पैदावार से लाखों की कमाई कर रहे किसान

आड़ू की बंंपर पैदावार से लाखों की कमाई कर रहे किसान

विनय कोछड़/तेज प्रकाश| बलाचौर बलाचौर का कंडी क्षेत्र किसानों के लिए आड़ू की खेती के लिए इन दिनों लाभदायक साबित...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 09, 2018, 02:05 AM IST

आड़ू की बंंपर पैदावार से लाखों की कमाई कर रहे किसान
विनय कोछड़/तेज प्रकाश| बलाचौर

बलाचौर का कंडी क्षेत्र किसानों के लिए आड़ू की खेती के लिए इन दिनों लाभदायक साबित हो रहा है। आडू की बंपर खेती करने वाले गांव बिछोड़ी के केहर सिंह बहुत खुश हैं। उन्होंने बताया कि 6 वर्ष की आयु वाले पौधों का बाग 3 लाख रुपए में बिका है।

इस बाग में 150 पौधे लगे हुए थे। वहीं परंपरागत खेती करने से उन्हें कई मुश्किलों से जूझना पड़ता था, लेकिन अब बागवानी विभाग ने उन्हें आडू की खेती करने के लिए प्रेरित किया। इससे उनका हौंसला बढ़ा और उनकी आमदन में काफी इजाफा हुआ है। इसी तरह फिरनी माजरा के किसान प्रकाश राम, मंढियाणी के रहने वाले जोगिंद्र सिंह व बिछौड़ी के रहने वाले गुरदेव सिंह भी केहर सिंह के रास्ते पर चलकर आड़ू की खेती कर रहे हैं। उनका कहना है कि आडू की खेती करने से उन्हें काफी फायदा पहुंचा है। उधर, सहायक निर्देंशक बागवानी विभाग दिनेश कुमार ने बताया कि आडू की खेती के लिए उपजाऊ जमीन की जरूरत होती है। इसके लिए कंडी का क्षेत्र आड़ू की खेती के लिए काफी उपजाऊ है। वहां पर 150 हेक्टेयर रकबा आड़ू की खेती के लिए है। ब्लॉक सड़ोआ के कुछ गांव जिनमें फिरनी माजरा, टॅपरियां राणेवाल, साहदड़ा, भन्नू, बिछौडी, मोजोवाल माजरा में आड़ू की भरपूर खेती की जाती है।

यहां पर प्रति एकड़ आड़ू बेचने से उन्हें अस्सी हजार से लेकर एक लाख रुपए तक आय हो रही है। बागबानी अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि इन दिनों फल के रुप में आडू की डिमांड मंडियों में काफी बढ़ जाती है। इसलिए आड़ू बेचने वाले किसानों को अच्छा मुनाफा मिल जाता है। दो वर्ष तक आडू के बाग में गेहूं, दालें व कुछ सब्जियों की खेती की जा सकती है। तीन वर्ष बाद आडू का पौधा बढ़ना शुरू हो जाता है।

बलाचौर के कंडी क्षेत्र में बागवानी विभाग किसानों को फलों की खेती के लिए कर रहा प्रेरित

एक पौधे से 70 किलो उगता है आड़ू : दिनेश

बागबानी अधिकारी दिनेश कुमार ने बताया कि आड़ू के एक पौधे से 70 किलो आडू उगता है। 150 हेक्टेयर रकबा में आडू की खेती से कई गुणा आडू की पैदावार हो जाती है। जैसा कि इन दिनों मंड़ियों में आडू की काफी डिमांड होती है। ऐसे में आड़ू की पैदावार करने वाले किसानों को अच्छा खासा मुनाफा हो जाता है। आड़ू की खेती करने के समय उसे पानी सही समय पर भरपूर मात्रा में मिलना चाहिए इससे आड़ू की खेती भी बंपर पैदावार होती है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Balachour

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×