• Hindi News
  • Punjab
  • Banga
  • जो पानी उत्ते पत्थरां नूं तारदा, तैनूं क्यों न तारू बंदेया...
--Advertisement--

जो पानी उत्ते पत्थरां नूं तारदा, तैनूं क्यों न तारू बंदेया...

Dainik Bhaskar

Feb 03, 2018, 02:05 AM IST

Banga News - स्थानीय श्री गुरु रविदास चेरिटेबल ट्रस्ट (रजि.) द्वारा श्री गुरु रविदास जी के प्रकाश पर्व के उपलक्ष्य में धार्मिक...

जो पानी उत्ते पत्थरां नूं तारदा, तैनूं क्यों न तारू बंदेया...
स्थानीय श्री गुरु रविदास चेरिटेबल ट्रस्ट (रजि.) द्वारा श्री गुरु रविदास जी के प्रकाश पर्व के उपलक्ष्य में धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन करवाया गया। कार्यक्रम में शहर के गणमान्य सज्जन मौजूद रहे। श्री गुरु रविदास नौजवान सभा संतोख नगर, मोहल्ला सिद्ध, मोहल्ला मुक्तपुरा, मोहल्ला भीम राय कालोनी, मोहल्ला मसंदा पट्टी, मोहल्ला कृष्ण नगर व शहरवासियों के सहयोग से करवाए गए कार्यक्रम की शुरूआत बेबी मुस्कान सल्लन ने गुरु जी का शब्द गाकर की। इसके बाद मास्टर राकेश व उनकी भजन मंडली ने गुरु जी की महिमा का गुणगान किया। इस उपरांत पंजाब की बुलंद आवाज के मालिक कलेर कंठ ने जो पानी उत्ते पत्थरां नूं तारदा तैनूं क्यों न तारू बंदेआ .. .., गुड़ तों मिट्ठी खंड ते खंड तों मिट्ठा शहद, साडे नैनां विच्च गुरु रविदास बस .. .. सहित कई धार्मिक गीत गाकर समां बांध दिया। उन्होंने कहा कि श्री गुरु रविदास जी ने हमेशा ही जातपात, ऊंचनीच का भेदभाव खत्म करके समाज में सभी वर्गों में समानता का भाव स्थापित करने का संदेश दिया। गुरु रविदास जी ने जरूरतमंदों की मदद करने और प्रभु की भक्ति करने की प्रेरणा दी ताकि अपना जीवन सफल बनाया जा सके और प्रभु का सच्चा आशीर्वाद हासिल किया जा सके।

समूह ट्रस्ट सदस्यों द्वारा गणमान्य व्यक्तियों व गायकों को स्मृति-चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। इस मौके पर क्षेत्र के पूर्व विधायक चौधरी मोहन लाल, मनोहर लाल, बलजीत राय बिट्टू, ओंकार सिंह, अशोक राय गोमा, लखवीर लक्की, कमल पाल, जगदीश, यश सल्लन, परमजीत, मलकीत राम, हरी पाल, मनजीत राय, पुरषोत्तम सल्लन, सुशील घई, मनजिंदर कुमार, जय पाल, परमजीत पम्मा, अश्वनी कुमार, धनपत राय, कुलविंदर सल्लन, बाबा कमल, कश्मीर चंद, विनोद कुमार, बलजीत, रविंदर मैहमी, कुलविंदर कुमार किंदा, मदन लाल, कुलदीप कुमार, राम आसरा, दीपा, ओंकार, दिनेश कुमार आदि मौजूद रहे।

श्री गुरु रविदास चेरिटेबल ट्रस्ट के कार्यक्रम में उपस्थित गणमान्य।

X
जो पानी उत्ते पत्थरां नूं तारदा, तैनूं क्यों न तारू बंदेया...
Astrology

Recommended

Click to listen..