Hindi News »Punjab »Banga» शहीद करतार सिंह सराभा के जीवन से शिक्षा ले : बलविंदर

शहीद करतार सिंह सराभा के जीवन से शिक्षा ले : बलविंदर

भास्कर संवाददाता | बंगा सिटी डीवाईएफआई तहसील बंगा द्वारा करतार सिंह सराभा का जन्मदिन भारतीय जनवादी नौजवान सभा...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 25, 2018, 02:00 AM IST

शहीद करतार सिंह सराभा के जीवन से शिक्षा ले : बलविंदर
भास्कर संवाददाता | बंगा सिटी

डीवाईएफआई तहसील बंगा द्वारा करतार सिंह सराभा का जन्मदिन भारतीय जनवादी नौजवान सभा के इंचार्ज बलविंदर पाल बंगा, तहसील प्रधान बलविंदर हीओं और शहरी प्रधान चरनजीत चन्नी की अध्यक्षता में मनाया गया। बलविंदर पाल ने शहीद करतार सिंह सराभा के जीवन की जानकारी दी।

करतार सिंह सराभा की फांसी के बाद उनको अपना गुरु मानने वाले शहीद भगत सिंह की कुर्बानी के बाद हमारा देश आजाद हुआ। बलविंदर पाल ने कहा कि करीब 70 साल हो गए हैं, हमें कागजों में आजाद हुए लेकिन हमें शहीदों की सोच के अनुसार आजादी नहीं मिली। बेरोजगारों की लाइन दिन-ब-दिन लंबी होती जा रही है। स्कूलों में मास्टर नहीं, अस्पतालों में डॉक्टर नहीं, प्राइवेट स्कूलों की संख्या दिनों दिन बढ़ती जा रही है जोकि गरीबों की पहुंच से दूर है। बलविंदर पाल ने करतार सिंह सराभा को श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए युवाओं को डीवाईएफआई के बैनर तले लामबंद होकर शहीदों के अधूरे सपने पूरे करने की अपील की। कार्यक्रम में राम सिंह नूरपुरी ने मोदी सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि 2014 में ढाई करोड़ युवाओं को रोजगार देने का वादा करके वोटें लेकर नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बन गए लेकिन चार साल बीत जाने के बाद डेढ़ लाख लोगों को भी रोजगार नहीं दे सके। कार्यक्रम में चरनजीत चन्नी, रवि लंगेरी, प्रमोद पाल, सोनू, साहिल दत्त, अवतार तारी, भिंदा हीओं, तेजा, रोहित मेहमी, रोबिन भाटिया, कुलवंत मेहमी, चीमा सोतरां, जगदेव ठाकुर, लक्की बंगा, मुनीष बंगा, गोपी, मनदीप ठाकुर, गुरशरन बंगा, चन्ना आदि मौजूद थे।

कार्यक्रम

डीवाईएफआई ने करतार सिंह सराभा का जन्मदिन मनाया

शहीद करतार सिंह सराभा को श्रद्धासुमन अर्पित करते संगठन के सदस्य।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Banga

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×