बरीवाला

  • Hindi News
  • Punjab News
  • Bariwal
  • लिफ्टिंग न होने के कारण मंडी में पड़ी गेहूंं बारिश में भीगी
--Advertisement--

लिफ्टिंग न होने के कारण मंडी में पड़ी गेहूंं बारिश में भीगी

बारिश के कारण मुक्तसर व बरीवाला मार्केट मंडी के क्षेत्र की मंडियों में 1 लाख 11 हजार 64 मीट्रिक टन गेहूं भीग गई है। यह...

Dainik Bhaskar

May 03, 2018, 02:05 AM IST
लिफ्टिंग न होने के कारण मंडी में पड़ी गेहूंं बारिश में भीगी
बारिश के कारण मुक्तसर व बरीवाला मार्केट मंडी के क्षेत्र की मंडियों में 1 लाख 11 हजार 64 मीट्रिक टन गेहूं भीग गई है। यह गेहूं मंडियों में खरीद एजेंसियों द्वारा खरीद करने के बाद पड़ी थी। यह सब लदा लदाई की सुस्त रफ्तार के कारण हुआ है। गत कई दिनों से मंडियों में गेहूं लिफ्टिंग न होने का मामला सुर्खियों में छाया होने के बावजूद प्रशासन द्वारा मामले को लटकाए रखा गया व ठेकेदार के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। मुक्तसर जिले में कुल 777015 मीट्रिक टन गेहूं की आमद हुई थी जिसमें से 771641 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद हुई, परंतु अभी तक इस में से 495648 मीट्रिक टन गेहूं की लिफ्टिंग की गई है व 275993 मीट्रिक टन गेहूं मंडियों में पड़ी है। बता दें कि बरीवाला मंडी में अभी 25614 मीट्रिक टन गेहूं अनलिफ्टिड पड़ी है, इसी तरह गिद्दड़बाहा में 64095, मलोट में 100834 व मुक्तसर में 85450 मीट्रिक टन बिना लिफ्टिंग पड़ी है। ठेकेदार के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की, जिसका खमियाजा अब खरीद एजेंसियों को भुगतना पड़ रहा है। दूसरी ओर आढ़तियों को अपने पास से लेबर लगाकर गेहूं बचानी पड़ रही है। आढ़तिया एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेश कुमार बब्बा ने कहा कि समय पर लिफ्टिंग न होने के कारण सुखी गेहूं का घाटा भी आढ़तियों सिर पड़ गया व अब बारिश से भीगे गेहूं की स्टैग लगाने पर गेहूं को सुखाने पर आने वाला मजदूरी खर्चा भी आढ़तियों को ही सहना पड़ेगा। उन्होंने डीसी से मांग की है कि उनका नुकसान ठेकेदार से पूरा करवाया जाए।

अफसरों के अलग-अलग राग

मुक्तसर की अनाज मंडी में बारिश के भीगे गेहूं के कट्टे।

मुक्तसर व बरीवाला मार्केट कमेटी के अधीन बारिश में भीगे 1 लाख मीट्रिक टन से अधिक गेहूं के कट्टों व लदा लदाई ठेकेदारों की मनमानियों के बारे में जिला अधिकारियों के अलग-अलग बयान थे। डीसी मुक्तसर डॉ. सुमित जारंगल का कहना था कि गेहूं के कट्टों को बारिश से बचाने के लिए प्लास्टिक की तिरपालों का इंतजाम किया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर जिला फूड सप्लाई व कंट्रोलर दीवान चंद शर्मा का कहना था कि बारिश में भीग गए कट्टों के पांच-पांच कट्टों के हिसाब से स्टैग लगाने के लिए आढ़तियों का कहा गया है ताकि भीगे हुए कट्टे सुख जाएं, वहीं मार्कफैड के डीएम विनोद कुमार का कहना था कि जो शैड के नीचे अनलिफ्टिड गेहूं पड़ी है वो आज उठवाई जा रही है और जो बारिश में भीग गई है उन कट्टों को खोल कर सूखने के बाद दोबारा भरा जाएगा। परंतु शाम तक हकीकत यह थी कि न तो शैड के नीचे से अनलिफ्टिड गेहूं की लिफ्टिंग हो पाई

बरीवाला में भारी बारिश ने खोली जिला प्रशासन के खरीद प्रबंधों की पोल

बरीवाला|मुसलधार बारिश ने जिला प्रशासन व मंडी बोर्ड की गेहूं की खरीद को लेकर किए गए पुख्ता प्रबंधों की पोल खोलकर रख दी है। इस बारिश के कारण पूरी अनाज मंडी पानी से भर गई और मंडी में पड़ी गेहूं की बोरियां पूरी तरह से भीग गई, जिसके कारण लाखों रुपए का गेहूं गिला होकर बर्बाद हो गया और बारिश को लेकर प्रशासन द्वारा तिरपाल आदि के कोई प्रबंध नहीं किए गए। किसान बलविंदर सिंह मोतलेवाला, जगसीर सिंह चक बाजा, मुरारी लाल, राज सिंह, आप नेता बलविंदर सिंह खालसा ने बताया कि जिला प्रशासन व मंडी बोर्ड द्वारा किसानों की गेहूं का एक-एक दाना उठाने का भरोसा दिया, परंतु लिफ्टिंग में की जा रही ढील ने इस भरोसे को तोड़ दिया है। उन्होंने बताया कि मंडी के शेड जगह-जगह से टूटे हुए और उनकी कोई मरम्मत नहीं की गई और मंडी में पानी की निकासी न होने के कारण अनाज मंडी छप्पड़ का रूप धारण कर लेती है। उन्होंने बताया कि मंडी बोर्ड व प्रशासन द्वारा लाइटों आदि भी रात्रि समय बंद होती है, जिसके कारण रात्रि के समय लावारिस पशु गेहूं में मुंह मारते हैं। उन्होंने सरकार से गेहूं की लिफ्टिंग के लिए ठेकेदारी सिस्टम बंद करने की मांग की है और ठेकेदार अपना लालच पूरा करने में लगे रहे हैं। (राजेन्द्रपाल)

बारिश फसलों की बिजाई के लिए फायदेमंद : मुख्य खेतीबाड़ी अधिकारी

मुक्तसर|काफी दिनों से भारी गर्मी से चलते मुक्तसर में हुई बारिश से किसानों व आम लोगों को जहां गर्मी से राहत मिली, वहीं बाजारों में पानी भर जाने के कारण लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। मुक्तसर व बरीवाला मंडियों व आस-पास के गांव में 12 एमएम बारिश हुई। इस बारिश से जहां आम लोगों को गर्मी से राहत मिली, वहीं किसानों को नरमे की बिजाई करने के लिए वह धान की फसल के लिए खेत तैयार करने में आसानी होगी। जिला मुख्य खेतीबाड़ी अधिकारी

जिला मुख्य खेतीबाड़ी अधिकारी डॉ. बलजिंदर सिंह बराड़ ने बताया कि इस बारिश से किसानों को काफी राहत मिलेगी। अब नहरों में पानी आने के बाद वह इस बारिश से किसानों को फसलों की बिजाई के लिए काफी फायदा होगा।(अमित अरोड़ा)

नुकसान की भरपाई का भरोसा दिया

पंजाब मंडी बोर्ड चेयरमैन लाल सिंह ने कहा कि यह मामला मेरे में ध्यान में आ गया है और अधिकारियों को कहकर हल करवाया जाएगा, वहीं दूसरी ओर भीगी हुई गेहूं के बारे पूछा गया तो बताया कि जो भी गेहूं का नुकसान हुआ है उसकी भरपाई की जाएगी।

मार्केट कमेटी सचिव ने झाड़ा पल्ला

मार्केट कमेटी मंडी बरीवाला के सचिव अजयपाल ने अपना पल्ला झाड़ते हुए कहा कि मंडियों में अब तक जितना माल पड़ा के बारे कोई जानकारी नहीं है और लिफ्टिंग व पानी निकासी का कार्य पंजाब मंडी बोर्ड के पास है, जिसमें हमारा कोई रोल नहीं है।

लिफ्टिंग न होने के कारण मंडी में पड़ी गेहूंं बारिश में भीगी
X
लिफ्टिंग न होने के कारण मंडी में पड़ी गेहूंं बारिश में भीगी
लिफ्टिंग न होने के कारण मंडी में पड़ी गेहूंं बारिश में भीगी
Click to listen..