बरनाला

  • Hindi News
  • Punjab News
  • Barnala News
  • ‘सांझी रसोई’ को चलाने के लिए 12 सदस्यीय समिति गठित : एडीसी
--Advertisement--

‘सांझी रसोई’ को चलाने के लिए 12 सदस्यीय समिति गठित : एडीसी

बीते तीन महीने से तपा में चल रही ‘सांझी और सस्ती’ रसोई’ के बंद होने के आसार चल रहे थे, जिनको एडीसी(विकास) बरनाला...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:05 AM IST
बीते तीन महीने से तपा में चल रही ‘सांझी और सस्ती’ रसोई’ के बंद होने के आसार चल रहे थे, जिनको एडीसी(विकास) बरनाला प्रवीण गोयल के उपराले सदका कई व्यापारिक संस्थाओं की तरफ से चलाने की जिम्मेदारी ली गई है। इस संबंध में करियाना एसोसिएशन, शैलर एसोसिएशन, मार्केट समिति, केमिस्ट एसोसिएशन, आढ़तिया एसोसिएशन और कई धार्मिक और व्यापारिक संस्थाओं के नेताओं की मीटिंग एडीसी प्रवीण गोयल के नेतृत्व में नगर कौंसिल के दफ्तर में बुलाई गई।

इस मौके पर समिति का प्रधान मदन लाल घड़ैला और राज कुमार पक्खो को उप प्रधान नियुक्त किया गया। इस समिति में प्रेम कुमार भारती, प्रेमी बसंत राम, डाॅ. मनीर मित्तल, मोहन लाल ताजो, विजय धूरकोटिया, भूषण घड़ैला, प्रेम कुमार गुप्ता, पवन कुमार बत्रा, राज कुमार, टीटू दीकश आदि को मेंबर बनाया गया। इस मौके पर गोयल ने यह भी विश्वास दिलाया कि वह जल्दी ही रसोई को चलाने के लिए फंड मुहैया करवाएंगे। एडीसी ने ‘सांझी और सस्ती’ रसोई को सहयोग और दान देने के लिए और संस्थाओं व लोगों भी आगे आने की अपील की। इस अवसर पर पवन कुमार मेहता, प्रेमी अशोक कुमार, बेअंत सिंह मांगट, बलवंत सिंह, वेद कुमार बब्बू, संजय, धर्मपाल प्रेमी, कुलविंदर सिंह धौला, नीला सिंह, नत्था सिंह, तरसेम लाल, शिवजी राम भैनी आदि उपस्थित थे। (अरूण)

एडीसी प्रवीन गोयल शहर निवासियों के साथ बैठक करते हुए। -भास्कर

गरीब लोंगो के लिए वरदान साबित हो रही सांझी रसोई

संस्थाओं के नेताओं ने सरकार के इस उपराले की सराहना करते कहा कि सांझी और सस्ती रसोई बेसहारा और गरीब लोगों का पेट भरने के लिए वरदान साबित हुई है, जिस कारण इसको किसी कीमत पर बंद नहीं होने दिया जाएगा। रसोई को चलाने के लिए सभी संस्थाओं की सांझी 12 सदस्यता समिति गठित की गई, जो व्यापारिक और ओर संस्थाओं के योगदान के साथ सांझी व सस्ती रसोई की देख-रेख करेगी। इससे पहले बजरंग दल की तरफ से सांझी रसोई चलाई जा रही थी, परंतु फंड न होने से कारण बजरंग दल के नेताओं ने रसोई चलाने से हाथ खड़े कर दिए थे।

X
Click to listen..