बरनाला

  • Hindi News
  • Punjab News
  • Barnala News
  • साल बचाने के लिए छात्रों को देने होंगे Rs.‌15 हजार, डीसी दफ्तर के आगे भूख हड़ताल जारी
--Advertisement--

साल बचाने के लिए छात्रों को देने होंगे Rs.‌15 हजार, डीसी दफ्तर के आगे भूख हड़ताल जारी

दो हजार अधिक फीस वसूले जाने के विरोध में भूख हड़ताल पर बैठे छात्रों को अब अपना साल बचाने के लिए 15 हजार रुपए जुर्माने...

Dainik Bhaskar

May 02, 2018, 02:10 AM IST
साल बचाने के लिए छात्रों को देने होंगे Rs.‌15 हजार, डीसी दफ्तर के आगे भूख हड़ताल जारी
दो हजार अधिक फीस वसूले जाने के विरोध में भूख हड़ताल पर बैठे छात्रों को अब अपना साल बचाने के लिए 15 हजार रुपए जुर्माने के तौर पर देने होंगे। अगर वह रुपए नहीं भरते तो तीनों एससी छात्र इस साल यूनिवर्सिटी के एग्जाम नहीं दे सकेंगे। कॉलेज प्रबंधन ने इसका कारण छात्रों की लापरवाही करार दिया है। वहीं एडीसी मनकंवल सिंह ने कॉलेज प्रबंधन को बराबर का कसूरवार ठहराया है। कॉलेज प्रबंधन को मामले का जल्द से जल्द सही हल करने के सख्त निर्देश दिए हैं। एससी छात्रों के रोल नंबर नहीं जारी करने को लेकर छात्रों की तरफ से सोमवार को डीसी दफ्तर के समक्ष भूख हड़ताल की गई। मंगलवार को दूसरे दिन भी भूख हड़ताल जारी रही। सभी छात्रों ने डीसी दफ्तर के समक्ष मिल कर सरकार व कॉलेज प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी की। छात्र नेता जसबिंदर लौंगोवाल ने बताया कि कॉलेज प्रबंधन उन्हें गुमराह कर रहा है। तीन छात्रों के भविष्य पर कॉलेज प्रबंधन के कारण सवालिया निशान लग गया है। जो छात्र 4300 रुपए साल के नहीं भर सकते वह 15 हजार रुपए कैसे भरेंगे। कॉलेज की तरफ से एससी छात्र अमरीक सिंह, रणजीत सिंह व सुखपाल सिंह का एग्जाम फार्म सिर्फ इसलिए नहीं भरवाया गया क्योंकि उन्होंने सिर्फ 2300 फीस भरी थी। वहीं विद्यार्थी नेता जसबिंदर सिंह लौंगोवाल ने कहा कि वह आज बैठक करके अगली रूप-रखा तैयार करेंगे।

बरनाला के डीसी दफ्तर के समक्ष भूख हड़ताल पर बैठे छात्र।

एडीसी से हुई बैठक में छात्रों को पता चली जुर्माने की बात

मंगलवार को छात्रों की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए डीसी धर्मपाल गुप्ता द्वारा एडीसी मनकंवल सिंह चहल की मामले को हल करने की ड्यूटी लगाई गई। एडीसी के दफ्तर में बैठक हुई जिसमें छात्रों की तरफ से रिशव बरनाला, जसबिंदर लौंगोवाल , प्रिंसिपल रमा शर्मा, भलाई अफसर ने भाग लिया। एडीसी ने बताया कि सभी ने इस मौके पर अपने पक्ष पेश किए। छात्रों ने कहा कि उन्हें बताया ही नहीं गया कि फीस नहीं भरने के कारण उनका साल खराब हो सकता है। प्रिंसिपल रमा शर्मा ने कहा कि जब बाकी 400 एससी छात्रों ने फीस भरी तो इन छात्रों को भी फीस भरनी चाहिए थी। अब एग्जाम में लगभग दस दिन बाकी रह गए हैं। ऐसे समय में रोल नंबर जारी करने के लिए यूनिवर्सिटी के नियमों के अनुसार कम से कम 15 हजार रुपए जुर्माना भरना पड़ेगा। एडीसी ने कॉलेज प्रबंधन को आदेश दिया कि मामले को जल्द हल किया जाए ताकि छात्रों का साल खराब न हो।

X
साल बचाने के लिए छात्रों को देने होंगे Rs.‌15 हजार, डीसी दफ्तर के आगे भूख हड़ताल जारी
Click to listen..