• Hindi News
  • Punjab
  • Batala
  • बिना टांके और चीरे से की जाती है नसबंदी, कमजोरी नहीं होती : एसएमओ
--Advertisement--

बिना टांके और चीरे से की जाती है नसबंदी, कमजोरी नहीं होती : एसएमओ

Batala News - जानकारी देते एसएमओ डॉ. संजीव भल्ला। -भास्कर बटाला | माता सुलखनी जी सिविल अस्पताल बटाला में ‘एक सार्थक कुल की...

Dainik Bhaskar

Jul 19, 2018, 02:15 AM IST
बिना टांके और चीरे से की जाती है नसबंदी, कमजोरी नहीं होती : एसएमओ
जानकारी देते एसएमओ डॉ. संजीव भल्ला। -भास्कर

बटाला | माता सुलखनी जी सिविल अस्पताल बटाला में ‘एक सार्थक कुल की शुरुआत-परिवार नियोजन के साथ’ विषय पर कार्यक्रम करवाया। इसमें एसएमओ डॉ. संजीव भल्ला ने परिवार नियोजन के नए शुरू किए ढंगों बारे जानकारी दी। डॉ. भल्ला ने स्थाई तरीके से महिलाओं की नलबंदी और पुरुष नसबंदी के बारे में बताया। पुरुष नसबंदी बिना टांकों व बिना चारे से की जाती है और इसमें कोई कमजोरी नहीं होती। अस्थाई तरीके में गर्भनिरोधक गोलियां (ओसीपी-माला एन) एक सुरक्षित और हार्मोन गोली है और यह सरकारी अस्पताल में निशुल्क उपलब्ध है। एसएमओ ने बताया कि इंजेक्शन डीएमपीए (अंतरा) एक हार्मोनल गर्भनिरोधक इंजेक्शन है, जो तीन महीने में एक बार लगता है। यह इंजेक्शन उन महिलाओं को लगाया जाता है, जो बच्चों में अंतर रखना चाहती हैं या फिर जिनका परिवार पूरा हो चुका है।

X
बिना टांके और चीरे से की जाती है नसबंदी, कमजोरी नहीं होती : एसएमओ
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..