Hindi News »Punjab »Batala» बिना टांके और चीरे से की जाती है नसबंदी, कमजोरी नहीं होती : एसएमओ

बिना टांके और चीरे से की जाती है नसबंदी, कमजोरी नहीं होती : एसएमओ

जानकारी देते एसएमओ डॉ. संजीव भल्ला। -भास्कर बटाला | माता सुलखनी जी सिविल अस्पताल बटाला में ‘एक सार्थक कुल की...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 19, 2018, 02:15 AM IST

बिना टांके और चीरे से की जाती है नसबंदी, कमजोरी नहीं होती : एसएमओ
जानकारी देते एसएमओ डॉ. संजीव भल्ला। -भास्कर

बटाला | माता सुलखनी जी सिविल अस्पताल बटाला में ‘एक सार्थक कुल की शुरुआत-परिवार नियोजन के साथ’ विषय पर कार्यक्रम करवाया। इसमें एसएमओ डॉ. संजीव भल्ला ने परिवार नियोजन के नए शुरू किए ढंगों बारे जानकारी दी। डॉ. भल्ला ने स्थाई तरीके से महिलाओं की नलबंदी और पुरुष नसबंदी के बारे में बताया। पुरुष नसबंदी बिना टांकों व बिना चारे से की जाती है और इसमें कोई कमजोरी नहीं होती। अस्थाई तरीके में गर्भनिरोधक गोलियां (ओसीपी-माला एन) एक सुरक्षित और हार्मोन गोली है और यह सरकारी अस्पताल में निशुल्क उपलब्ध है। एसएमओ ने बताया कि इंजेक्शन डीएमपीए (अंतरा) एक हार्मोनल गर्भनिरोधक इंजेक्शन है, जो तीन महीने में एक बार लगता है। यह इंजेक्शन उन महिलाओं को लगाया जाता है, जो बच्चों में अंतर रखना चाहती हैं या फिर जिनका परिवार पूरा हो चुका है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Batala

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×