बटाला

--Advertisement--

लेखनी से ही बनाई बटालवी ने विशेष पहचान

पंजाबी मां बोली के लाडले शायर शिव कुमार बटालवी को उनके 82वें जन्मदिन मौके बटाला वासियों ने याद करते हुए उसके गीत...

Dainik Bhaskar

Jul 25, 2018, 02:20 AM IST
लेखनी से ही बनाई बटालवी ने विशेष पहचान
पंजाबी मां बोली के लाडले शायर शिव कुमार बटालवी को उनके 82वें जन्मदिन मौके बटाला वासियों ने याद करते हुए उसके गीत गाकर श्रद्धांजलि दी। सीनियर सिटीजन फोरम द्वारा शिव बटालवी के जन्मदिन को समर्पित बटाला की धर्मपुरा कॉलोनी में मनमोहन कपूर के निवास पर साहित्य समागम करवाया।

इसमें पूर्व राज्य मेंबर और शिव बटालवी के बचपन के दोस्त भूपिंदर सिंह मान, शिव बटालवी के भतीजे राजीव बटालवी, फोरम के प्रधान प्रो. सुखवंत सिंह गिल, देविंदर दीदार, सुलखन सिंह गोराया, शरनजीत सिंह, कमांडर प्रशोत्म सिंह, मास्टर रतन लाल, रमेश शर्मा, भजन सिंह मलकपुरी, कुलबीर, जसवंत हांस, रेखा कांसरा, मुनीष कपूर, शम्मी कपूर और विनोद शायर शामिल हुए। समागम के शुरू में हाजिर लोगों ने शिव बटालवी की तस्वीर पर पुष्पार्पित कर उसे श्रद्धांजलि दी। इस मौके पूर्व राज्य सभा मेंबर भूपिंदर सिंह मान ने शिव बटालवी के साथ अपने कॉलेज के दिनों की यादों को सांझा किया। उन्होंने कहा कि शिव बटालवी वह बेशकीमती हीरा था, जिसकी बटाला निवासी उसके जीते जी कदर नहीं कर सके। उन्होंने कहा कि शिव बटालवी ने अपनी लेखनी से पूरी दुनिया में अपनी खास जगह बनाई, यही कारण है कि आज देशों-विदेशों में उसके चाहने वाले हैं। उन्होंने कहा कि शिव बटालवी पंजाबी साहित्य के अंबर का वह तारा है जो रहती दुनिया तक चमकता रहेगा। इस मौके प्रो. सुखवंत सिंह गिल ने कहा सबसे छोटी आयु में साहित्य अकादमी का अवार्ड हासिल करने वाला शिव बटालवी आज भी साहित्य प्रेमियों के दिलों में राज करता है। उन्होंने कहा कि सिटीजन फोरम के समूह मेंबर आज शिव के जन्मदिन मौके उसे श्रद्धांजलि भेंट करते हैं।

इस दौरान शिव बटालवी के भतीजे राजीव बटालवी ने अपने चाचा शिव बटालवी के बारे यादों को सांझा किया। इस मौके भजन मलकपुरी ने शिव के गीतों को गाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी।

इस मौके देविंदर दीदार, जसवंत हांस, मास्टर रतन लाल, कमांडर प्रशोत्म लल्ली, विनोद शायर ने भी अपने गीत और कविताएं पेश की।

आयोजन

बटाला वासियों ने गीत गाकर मनाया शिव बटालवी का 82वां जन्मदिन

शिव बटालवी की तस्वीर पर पुष्पार्पित कर श्रद्धांजलि देते लोग।

X
लेखनी से ही बनाई बटालवी ने विशेष पहचान
Click to listen..