Hindi News »Punjab »Batala» पांच महीने से वेतन नहीं मिलने पर कर्मियों ने किया प्रदर्शन

पांच महीने से वेतन नहीं मिलने पर कर्मियों ने किया प्रदर्शन

बटाला नगर कौंसिल में बुधवार सुबह से ही ड्रामा शुरू हो गया। पहले शहर से गंदगी को उठाने वाले ठेकेदार ने काम छोड़...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 02, 2018, 02:25 AM IST

पांच महीने से वेतन नहीं मिलने पर कर्मियों ने किया प्रदर्शन
बटाला नगर कौंसिल में बुधवार सुबह से ही ड्रामा शुरू हो गया। पहले शहर से गंदगी को उठाने वाले ठेकेदार ने काम छोड़ दिया। उसके बाद सफाई कर्मचारियों तथा ठेकेदार के पास काम करने वाले कर्मचारियों ने हड़ताल शुरू कर दी। कार्यालय को बंद करके गेट के बाहर प्रदर्शन किया। ईओ समेत बाकी अधिकारियों के खिलाफ नारेबाजी़ की गई। ठेकेदार के साथ काम करने वाले सफाई कर्मचारियों का आरोप था कि उन्हें पांच महीनों का वेतन नहीं दिया गया है, जिससे उनको आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है।

बटाला नगर कौंसिल की तरफ से जिस ठेकेदार को शहर से गंदगी उठाने का ठेका दिया गया था। उसने ठेका छोड़ने के लिए दो दिन पहले कहा। उसके बाद एक अगस्त से काम बंद करवा दिया। इसके बाद कौंसिल अधिकारियों की तरफ से खुद शहर की सफाई का काम करवाने का काम किया गया। सुबह कौंसिल के अधिकारियों ने अपनी ट्रैक्टर ट्रालियों को बाहर निकाला, ताकि अब अपने वाहनों तथा कर्मचारियों से शहर की गंदगी को उठाने का काम शुरू करवा सकें। वहीं, काम शुरू करने से पहले ठेकेदार के साथ काम करने वाले सफाई कर्मचारियों ने हड़ताल की घोषणा कर दी। उनका कहना था कि 5 माह का वेतन अभी बकाया है, जिसका भुगतान नहीं किया जा रहा है। पक्के कर्मियों की सफाई यूनियन के प्रधान विक्की कल्याण तथा ठेकेदार के साथ काम करने वाले सफाई कर्मियों की यूनियन के प्रधान मंगा भंडारी का कहना था कि जब तक कर्मचारियों को पैसों का भुगतान नहीं किया जाता, वह हड़ताल को जारी रखेंगे। ठेके पर काम करने वाले कर्मियों का कहना था कि वह कई माह तक काम करते रहे, लेकिन पैसे नहीं मिले। उन्हें घरों को चलाना मुश्किल हो रहा है।

ईओ के खिलाफ नारेबाजी करते कच्चे सफाई कर्मचारी। -भास्कर

शहर में अब होगी गंदगी | कुल मिलाकर अब जब तक मामला हल नहीं होता है। शहर के लोगों को गंदगी झेलनी पड़ेगी। भले की कौंसिल की तरफ से गंदगी को उठाने के लिए ठेकेदार की जगह खुद काम शुरु किया गया है। लेकिन गंदगी उठाने वाले कौंसिल के कर्मचारियों की तरफ से हड़ताल को समर्थन दिया गया है। दूसरा शहर में सफाई करने वाले हड़ताल पर बैठ गए है। ऐसे में इस बरसात के मौसम में अब लोगों को मुश्किल का सामना करना पड़ेगा।

क्या कहते कौंसिल प्रधान

नरेश महाजन का कहना था कि उनकी तरफ से लिफ्टिंग तथा ठेकेदार के कर्मचारियों के लिए भुगतान के चैक को 24 जुलाई को साइन किए गए हैं। वह चाहते हैं कि कर्मियों को वेतन मिले, लेकिन आगे जारी क्यों नहीं किया। इसकी उन्हें कोई जानकारी नहीं है।

क्या है मौजूदा हालात | बटाला शहर में गंदगी के लिए दो अलग अलग ठेके है। जिसमें एक ठेकेदार के पास शहर की सफाई तथा दूसरे के पास गंदगी को उठाने का ठेका है। एक ने तो गंदगी उठाने के ठेके को छोड़ दिया। लेकिन दूसरे ठेकेदार सफाई करने वाले का काम चल रहा है। उसके पास काम करने वाले 168 कर्मी हड़ताल पर बैठ गए। जिनका पक्के सफाई कर्मचारियों ने भी समर्थन किया। ठेकेदार के पास काम करने वाले सफाई कर्मचारियों का कहना है कि पांच माह से वेतन नहीं है।

क्या कहते है ईओ बटाला

भूपेन्द्र सिंह ने माना कि उनके पास चेक साइन होकर आए हैं, लेकिन उन्हें ऊपर से हिदायत आई थी। जिसके बाद चेक स्टॉप कर दिए गए। उनका कहना था कि काफी स्तर पर घपला हुआ है। ठेकेदार के पास काम करने वाले कर्मचारियों को कौंसिंल की तरफ से जितने पैसे दिए जाते हैं। असल में उन्हें उतने पैसे नहीं मिलते हैं। इसके अलावा हाजिरी में भी घपला हुआ है, जिससे ऊपर से हिदायत आई थी कि कटौती बनी है। उसके लिए भुगतान को रोका गया है। उन्होंने कहा कि नियमों को ताक पर रखकर ठेका हुआ है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Batala

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×