--Advertisement--

आरोप-प्रत्यारोप / गर्भवती पत्नी के लिए दवा निकले युवक को पकड़कर 3 दिन बाद नशे में दिखाई गिरफ्तारी, अब सीएम तक पहुंची बात



a pregnant lady written the letter to CM, Chief Justice Highcourt
X
a pregnant lady written the letter to CM, Chief Justice Highcourt
  • सीसीटीवी फुटेज के आधार पर बेकसूर साबित करने में जुटी है महिला
  • लोकल पुलिस से न्याय नहीं मिला तो मुख्यमंत्री और हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस को लिखे पत्र
  • अब डीएसपी की तरफ से महिला के साथ संपर्क कर बुलाया गया

Dainik Bhaskar

Oct 13, 2018, 12:19 PM IST

मोगा। एक व्यक्ति गर्भवती पत्नी के लिए घर से दवाई लेने के लिए निकला था, जिसे पुलिस ने हिरासत में लिया, फिर तीन दिन बाद उसका पता तब चला, जब पुलिस ने नशा तस्करी के आरोप में केस कर गिरफ्तारी दिखाई। यह आरोप पुलिस पर लगा अपने पति को बेकसूर साबित करने के लिए महिला अब कोर्ट-कचहरी और पुलिस अधिकारियों के पास चक्कर लगा रही है। यहां तक कि एक सीसीटीवी फुटेज के आधार पर वह मुख्यमंत्री और हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस को भी चिट्ठी लिख चुकी है।

 

ये हैं पुलिस और पत्नी के एक-दूसरे पर आरोप: थाना सिटी साउथ की पुलिस के मुताबिक 23 सितंबर 2018 को एएसआई बलवीर सिंह की टीम ने गश्त के दौरान संधुआं वाला रोड पर शक के आधार पर एक्टिवा सवार को रोककर तलाशी ली तो 300 ग्राम नशीले पाउडर समेत 35 हजार रुपए की नकदी बरामद हुई थी। पुलिस ने एक्टिवा समेत सारा सामान कब्जे में लेने के बाद आरोपी जगराज सिंह उर्फ गाजी निवासी पुली वाला मोहल्ला को गिरफ्तार करके केस दर्ज किया था। उधर इस मामले में जगराज सिंह की पत्नी संदीप कौर का कहना है कि उसके पति को पुलिस ने झूठे केस में फंसाया है। वह आठ महीने से गर्भवती है और 20 सितंबर को कुछ परेशानी होने पर उसका पति जगराज सिंह गाजी मेडिकल स्टोर से दवाई लेने के लिए घर से अपने भाई गरप्रीत के साथ एक्टिवा पर रात को निकला था। रात 11:05 बजे एक गाड़ी से उतरे पुलिस कर्मी जगराज को पकड़ने के लिए दौड़े, वहीं पुलिस को देख वह एक्टिवा से कूदकर पीछे की ओर भागा तो लड़खड़ाकर गिर गया।

 

न हेल्पलाइन पर हेल्प मिली, न थाने में चला पति का पता: महिला ने बताया कि 21 सितंबर को उसकी जेठानी सुबह साढ़े 9 बजे हेल्पलाइन नंबर 181 पर फोन करके कहा कि जगराज सिंह को पुलिस झूठे केस में फंसाना चाहती है। 10:37 बजे जगराज के दोस्त नवप्रीत सिंह की पत्नी रमणदीप कौर ने फिर उसी हेल्पलाइन पर वही बात दोहराई। इतना ही नहीं जब हेल्पलाइन पर सुनवाई नहीं हुई तो इसके बाद जगराज की पत्नी संदीप कौर खुद सामने आई। वह बार-बार थाना सिटी साउथ के चक्कर काटती रही, लेकिन किसी ने कुछ नहीं बताया कि उसके पति को कौन सी पुलिस ले गई है।

 

लिखित शिकायत के बाद किया गया महिला से संपर्क: बाद में 23 सितंबर को पता चला कि पति पर नशा तस्करी के आरोप में केस दर्ज किया है। संदीप कौर ने उसी दिन मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, पंजाब एंड हरियाणा के चीफ जस्टिस, जिला एवं सेशन जज, आईजी, डीआईजी फिरोजपुर रेंज को सबूतों के साथ चिट्‌ठी लिख न्याय मांगा। अब संदीप कौर की लिखित शिकायत के संबंध में मोगा के डीएसपी सिटी कार्यालय ने उससे संपर्क किया है और उसे मामले की जांच के लिए शनिवार को फिर से बुलाया है।

--Advertisement--
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..