पंजाब / कैप्टन ने हेलीकॉप्टर से लिया पटियाला और संगरूर के बाढ़ प्रभावित इलाके का जायजा

CM Captain Amrinder Singh seen flood affected areas of Sangrur and Patiala District
CM Captain Amrinder Singh seen flood affected areas of Sangrur and Patiala District
X
CM Captain Amrinder Singh seen flood affected areas of Sangrur and Patiala District
CM Captain Amrinder Singh seen flood affected areas of Sangrur and Patiala District

  • पटियाला के रसौली समेत नाईवाला, जोगेवाल, गुलाहड़, होतीपुर, खांग समेत कई अन्य गांवों में पानी भरा
  • संगरूर जिले के भूदड़ भैणी, सूरज भैणी, मकोरड़ साहिब और सलेमगढ़ आदि गांव चारों तरफ से पानी से घिरे

दैनिक भास्कर

Jul 23, 2019, 01:08 PM IST

संगरूर/पटियाला(रोहित वाट्स). मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मंगलवार को पटियाला और संगरूर जिलाें के बाढ़ प्रभावित इलाके का दौरा किया। पिछले सप्ताहभर से यहां घग्घर नदी के बांध टूट जाने की वजह से हालात इस कदर हो गए हैं कि मीलाें तक जहां तक भी नजर जाती है, पानी ही पानी दिखाई देता है। लोगों की फसलें खराब हो गई हैं, वहीं बेघर होने की भी स्थिति पैदा हो चुकी है। आज कैप्टन ने बाढ़ प्रभावित इलाके का हवाई दौरा किया। हालांकि उन्होंने अभी कोई ऐलान नहीं किया है।

 

घग्गर नदी से शुतराणा के गांवों में पानी से मची तबाही से किसान अभी जूझ ही रहे थे कि रसौली में घग्गर नदी के बांध में 200 फीट की दरार ने मुश्किलें और बढ़ा दी। देखते ही देखते भारी मात्रा में पानी रसौली समेत नाईवाला, जोगेवाल, गुलाहड़, होतीपुर, खांग समेत कई अन्य गांवों के खेतों में भर गया। इससे धान की फसल पूरी तरह से बर्बाद हो गई। किसानों ने सरकार से मुआवजे की मांग की है। ड्रेनेज विभाग की टीम ने जेसीबी मशीनों की मदद से 20 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद बंद किया।

 

उधर पिछले कई दिन से संगरूर में भी हालात बेहद बुरे हो चुके हैं। बुधवार सुबह घग्गर नदी में साठ फुट की दरार पड़ गई थी। इसे भरने के लिए प्रशासन ने एनडीआरएफ और सेना को बुलाया था। पानी के तेज बहाव के कारण दरार भरने में मुश्किल हो रही है। इसके अलावा दरार तक पहुंचने के लिए घग्गर नदी पर बना पुल बेहद छोटा है जिससे किसी वाहन को नहीं गुजारा जा सकता है। ऐसे में साज-ओ-सामान इसी रास्ते से पैदल और किश्तियों के जरिए ही पहुंचाया जा रहा है। दरार भरने के लिए सूखी मिट्टी पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल रही। तीन दिन में प्रशासन 100 फुट तक पहुंच चुकी दरार को महज 35 फीट तक ही भर पाया, जबकि 60 से 65 फीट तक दरार से पानी तेजी से बहता रहा।

 

जिले के चार गांव भूदड़ भैणी, सूरज भैणी, मकोरड़ साहिब और सलेमगढ़ चारों तरफ से पानी से घिर चुके हैं। 11 किलोमीटर एरिया में पानी ही पानी है, 8 हजार एकड़ फसल डूबी हुई है। लोग पानी के बीच से गांवों तक पहुंच गए। आपदा राहत के लिए संगरूर के डिप्‍टी कमिश्‍नर ने आर्मी की मांग की। साथ ही आर्मी की इंजीनियर यूनिट की मदद भी संगरूर के डीसी की ओर से घग्गर नदी के टूटे बांध को रिपेयर करने के लिए मांगी गई। कई दिनों से इलाके में एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें भी गई हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना