श्रद्धालुओं ने घर के दरवाजे पर ही किया कंजक पूजन

Bathinda News - चैत्र नवरात्र पर भले ही लॉकडाउन की वजह से प्रत्येक नागरिक को सुबह-शाम मां दुर्गा का पूजन व व्रत आदि का पर्याप्त...

Apr 02, 2020, 07:30 AM IST

चैत्र नवरात्र पर भले ही लॉकडाउन की वजह से प्रत्येक नागरिक को सुबह-शाम मां दुर्गा का पूजन व व्रत आदि का पर्याप्त समय मिल गया लेकिन उन्हें कंजक पूजन न कर पाने की मायूसी रही। बुधवार को अष्टमी पर श्रद्धालुओं ने कंजकों को उनके घर के दरवाजे पर ही पूजन करके आशीर्वाद लिया। वहीं अनेक श्रद्धालुओं ने कंजकों के हाथ सेनेटाइजर से धुलवाए और एक-एक करके कंजक पूजन किया। यह पहला अवसर है जब अष्टमी के दिन मंदिर के कपाट नहीं खुलने से श्रद्धालुओं को अपने घर में ही माता रानी का आशीर्वाद लेना पड़ा और व्रत संपूर्ण करना पड़ा।

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव को सोशल डिस्टेंस गाइडलाइंस को फॉलो करते हुए लोग न तो घर से निकल रहे हैं और न ही किसी के घर जा रहे हैं। अष्टमी पर कंजक पूजन को लेकर बच्चियां नहीं मिल पाने के अंदेशे से श्रद्धालुओं ने अपने घर में ही मां दुर्गा का पूजन किया और पूरे विधि-विधान से 8 कंजकों के लिए 8 थालियों में भोजन व अपनी श्रद्धानुसार उपहार रखकर श्रद्धापूर्वक हाथ जोड़कर माथा टेका। बाजार नहीं खुल पाने की वजह से अधिकांश श्रद्धालु कंजकों के लिए उपहार नहीं ला पाए, ऐसे में नगद राशि भेंट की गई। श्रद्धालु बारी-बारी से कंजकों के घर पहुंचे जहां उनके दरवाजे पर ही भोग लगवाया और उनसे आशीर्वाद लिया। इस विलक्षण परंपरा का अनेक श्रद्धालुओं ने अनुसरण किया जिससे कंजक पूजन की श्रद्धालुओं की इच्छा पूरी हुई। अनेक श्रद्धालुओं ने तो अपने एक कमरे को स्प्रे आदि से आइसोलेट किया और एक-एक कंजक बुलाकर उनके गंगाजल से पैर धोए जबकि हाथों को सेनेटाइजर से अच्छी तरह से साफ कराया। श्रद्धालुओं ने सोशल डिस्टेंस का भी ख्याल रखते हुए 1 अथवा 3 कंजकों को दूर-दूर बिठाकर उनका पूजन किया। अनेक श्रद्धालुओं ने अपने घर में ही पूजा-पाठ करके कंजकों के नाम का प्रसाद गोशाला में देकर आए।

लोगों ने घरों में मां भगवती की आरती कर बिना कंजक पूजन व्रत खोले

रामपुरा फूल| कोरोना वायरस का भय बुधवार सुबह कंजक पूजन पर भी देखने को मिला। अधिकांश लोगों द्वारा अपने घरों में मां भगवती की आरती कर बगैर कंजक पूजन किए अपने व्रत खोले गए। रामपुरा फूल के शहीद भगत सिंह काॅलोनी निवासी सोनिया, कोमल रानी, लवप्रीत इत्यादि ने कहा कि महामारी से निपटने हेतु उनके द्वारा आज कंजकों को घर बुलाने की बजाय अपने घरों में माता की आरती की गई।

अष्टमी पूजन के दौरान कंजकों को भोजन खिलाती एक महिला।

हाथों पर सेनेटाइजर लगाता हुआ एक श्रद्धालु।

कंजक पूजन करके आशीर्वाद लेता एक श्रद्धालु।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना