• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Bathinda
  • Fateh Singh had a desire to do something different since childhood, took the training at the age of 16 and 9 months, conquered Everest

उपलब्धि / फतेह सिंह में बचपन से थी कुछ अलग करने की चाहत, ट्रेनिंग लेकर 16 साल 9 महीने की उम्र में किया था एवरेस्ट को फतह

फतेह सिंह बराड़। फतेह सिंह बराड़।
X
फतेह सिंह बराड़।फतेह सिंह बराड़।

  • पर्वतारोही फतेह सिंह बराड़ को राज्य सरकार की ओर से सीधे डीएसपी बनाया गया
  • हिमाचल प्रदेश में पढ़ाई के दौरान पहाड़ों में एडवेंचर करने का मन बनाया था, मां बोली-बेटे ने किया गौरवान्वित
  • फतेह सिंह ने पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ से वकालत की पढ़ाई करके डिग्री ली, फुटबाॅल और हॉकी भी खेलने के हैं शौकीन

दैनिक भास्कर

Jan 10, 2020, 04:42 AM IST

मुक्तसर. 16 साल 9 महीने की उम्र में एवरेस्ट फतह करने वाले फतेह सिंह बराड़ को सरकार ने डीएसपी भर्ती किया है। जिसे वीरवार को कैबिनेट ने भी मंजूरी दे दी है। बता दें कि फतेह सिंह 1 मई 2013 को माउंट एवरेस्ट पर पहुंचे थे। फतेह सिंह पीसीएस अधिकारी सुखविंदर सिंह बराड़ के बेटे हैं।

फतेह सिंह बराड़ के पिता सुखविंदर ट्रांसपोर्ट विभाग में एडीटीओ हैं और अभी चंडीगढ़ में कार्यरत हैं। गांव भागसर निवासी फतेह सिंह के दादा को नंबरदार के तौर पर मानते थे। परिवार वालों ने कहा, फतेह सिंह का डीएसपी बनाया जाना गर्व की बात है। इस नियुक्ति को लेकर पूरे गांव में खुशी का माहौल है।
 

पिता बोले, बेटे की उपलब्धि पर खुश हूूं
पिता सुखविंदर सिंह ने बताया कि बेटे की नियुक्ति पर खुशी और गर्व हुआ। उन्होंने कहा फतेह सिंह बचपन से ही कुछ अलग करना चाहता था और उसने हॉकी, फुटबॉल की गेम में ध्यान लगाया। लेकिन दसवीं पास करने के बाद जब उसने रॉलेस स्नावर स्कूल (हिमाचल प्रदेश) में 11वीं में एडमिशन लिया।

इसके बाद उसकी रूचि पहाड़ों में एडवेंचर की हुई इसके बाद एवरेस्ट पर जाने का मन बनाया। इसके लिए वहीं पर ही ट्रेनिंग भी ली। 2014 में उक्त स्कूल के +2 करने के बाद पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ में कानून विभाग में एडमिशन ली जहां से लॉ की डिग्री प्राप्त की।
 

पिता पहले आर्मी में कैप्टन थे अब ट्रांसपोर्ट विभाग में हैं एडीटीओ
माउंट एवरेस्ट फतेह करने वाले फतेह सिंह के पिता सुखविंदर सिंह बराड़ पहले आर्मी में भर्ती हुए थे और कैप्टन के तौर पर आर्मी से रिलीव हुए। उसके बाद उन्हें पंजाब सरकार ने ट्रांसपोर्ट विभाग में एडीटीओ के तौर पर नियुक्त किया था। सुखविदर सिंह की पत्नी हाऊस वाइफ हैं और उनके 2 बच्चे हैं। जिसमें फतेह सिंह व उसकी बड़ी बहन, जिसने मास्टर डिग्री की हुई है।
 

गांव भागसर से निकले हैं कई बड़े अधिकारी
गांव भागसर पीसीएस से लेकर अन्य विभागों में बड़े-बड़े अधिकारी दे चुका है। इनमें पूर्व सीएम प्रकाश सिंह बादल के साथ कार्यरत आईएएस गगनदीप सिंह बराड़ से लेकर आईएएस कंवल कौर बराड़, पीसीएस तरसेम चंद बराड़, पीसीएस अमरिंदर कौर बराड़ (पंजाब में पहला नंबर), हर्षविंदर सिंह पीसीएस, डिप्टी डायरेक्टर पंचायत जितेन्द्र सिंह बराड़, हर्षविंदर सिंह जिला खुराक एवं कंट्रोलर अधिकारी, सतनाम सिंह पीपीएस (एसपी बठिंडा) इसके अलावा इसी गांव से अन्य यूनिवर्सिटी में 6 प्रोफेसर, एक प्रिंसीपल जसवंत सिंह व शिक्षा विभाग में अनेकों अध्यापक गांव में से निकले हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना