बठिंडा / मलोट के मॉल के बाहर गैंगस्टर की गोलियां मारकर हत्या, 7 गोलियां सिर-छाती पर लगीं

मनप्रीत मन्ना मनप्रीत मन्ना
X
मनप्रीत मन्नामनप्रीत मन्ना

  • हरियाणा के 1 लाख के इनामी गैंगस्टर की पंजाब में वारदात
  • 4 गैंगस्टरों ने 25 राउंड फायर किए, फेसबुक पर लॉरेंस ग्रुप ने ली जिम्मेदारी

Dainik Bhaskar

Dec 03, 2019, 07:27 AM IST

मुक्तसर/बठिंडा. मलोट के गैंगस्टर मनप्रीत सिंह मन्ना की सोमवार को स्काई मॉल के जिम के बाहर 4 बदमाशों ने गोलियां मारकर हत्या कर दी। एक साथी को भी पांव में गोली लगी। आरोपी फरार हो गए।  कुछ देर बाद लॉरेंस बिश्नोई ग्रुप ने फेसबुक पर हत्या की जिम्मेवारी ली। जिम्मेदारी लेने वाला गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई का शार्प शूटर राज कुमार उर्फ राजू निवासी गांव बसौदी पानीपत की है, जिस पर पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, राजस्थान व दिल्ली में 20 हत्याओं समेत लूटपाट, फिरौती व इरादा कत्ल के 50 केस दर्ज हैं। फेसबुक पर डाली पोस्ट में राजू बसौदी ने मन्ना की हत्या के पीछे उसके द्वारा जीरकपुर में कुछ महीने पहले एनकाउंटर में मारे गए गैंगस्टर लॉरेंस विशनोई के राइट हैंड अंकित भादू की मुखबिरी करने का कारण बताया है। राजू बसौदी पर हरियाणा पुलिस ने 1 लाख का इनाम रखा था। वहीं, मन्ना पर पुलिस रिकार्ड में इस पर 15 आपराधिक केस दर्ज थे।
 

रोजाना की तरह जिम गया था मन्ना बाहर निकलते ही कर दी फायरिंग
मन्ना रोजाना की तरह सोमवार शाम को भी मलोट के स्काई मॉल में बने जिम में अपने साथी जैकी कालड़ा के साथ गया था। जिम से वह जैसे ही बाहर निकला और अपनी जैगवार गाड़ी खोली तभी 4 बदमाशों ने ताबड़तोड़ 24 राउंड फायर किए। इसमें से 7 गोलियां मन्ना के सिर व छाती पर लगीं। एक गोली उसके साथी जैकी को लगी। वारदात के बाद आरोपी फरार हो गए।

फेसबुक पर ये लिखा 
लारेंस ग्रुप के फेसबुक पेज पर लिखा ‘राम राम भाईयों। अभी मन्ना को जिम के बाहर मारा है। मैं राजकुमार अपने हाथों से मारकर आया हूं। क्योंकि उसने मेरे अंकित भादू भाई की मुखबरी की थी। उसको मारने की जिम्मेदारी लेता हूं। अभी और भी मरेंगे, जो मुखबरी में शामिल थे।

मारे गए मनप्रीत मन्ना ने शिअद के जत्थेदार कोलियांवाली के बेटे की टांग तोड़ दी थी

मन्ना व उसके रिश्तेदार पूर्व कौंसलर बख्शीश सिंह पहले अकाली दल में थे और उस समय बख्शीश सिंह व मन्ना की जत्थेदार कोलियावाली के साथ गहरी दोस्ती थी परंतु 2012 में बख्शीश सिंह व जत्थेदार कोलियावाली में अनबन के चलते उन्होंने कांग्रेस की मदद करनी शुरु कर दी। पंजाब विधान सभा चुनाव 2012 समय तो इन दोनों पक्षों में सियासी जंग तेज हो गई जो बाद में निजी जंग में तबदील हो गई। जब पिछली नगर कौंसिल के चुनाव के दौरान जत्थेदार कोलियावाली ने इन कांग्रेसी नेताओं के वार्ड में अपने अकाली उम्मीदवार खडे किए तो इन कांग्रेसियों के पल्ले हार ही नहीं व इस समय इनमें से कई कांग्रेसियों के खिलाफ धारा 307 जैसे संगीन मामलों सहित कई ओर मामले भी दर्ज हुए थे।
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना