इंडियन आइडल 11 / मां के पास पैसे नहीं थे, दाेस्त से 2 हजार उधार लेकर ऑडिशन में गया था, 25 लाख रुपए जीते

इंडियन आइडल जीतने के बाद खुशी मनाते सनी हिंदुस्तानी। इंडियन आइडल जीतने के बाद खुशी मनाते सनी हिंदुस्तानी।
X
इंडियन आइडल जीतने के बाद खुशी मनाते सनी हिंदुस्तानी।इंडियन आइडल जीतने के बाद खुशी मनाते सनी हिंदुस्तानी।

  • इंडियन आइडल 11 के विजेता बठिंडा के सनी हिंदुस्तानी ने भास्कर से की खास बातचीत 
  • सनी ने कहा- विजेता के तौर पर मेरा नाम घोषित हुआ तो कुछ समझ नहीं आ रहा था

दैनिक भास्कर

Feb 25, 2020, 03:18 PM IST

बठिंडा. इंडियन आइडल 11 का ग्रैंड फिनाले रविवार रात हुआ, जिसमें पंजाब के बठिंडा के सनी हिंदुस्तानी विजेता घोषित किए गए। दैनिक भास्कर ने सनी से खास बातचीत की। जिसमें उन्होंने बचपन से लेकर अब तक के सफर के बारे में बताया। सनी ने कहा- ‘जब एक विजेता के तौर पर मेरा नाम घोषित हुआ तो कुछ पल के लिए समझ ही नहीं पाया कि क्या हो गया। मैं पहले ही दिन से इस ट्रॉफी को जीतना चाहता था और आखिरकार मां का आशीर्वाद रंग लाया। उन्हीं की वजह से आज ये ट्रॉफी मेरे हाथ आई हैं। सच कहूं तो मुझे इस सीजन के बारे में ज्यादा कुछ पता नहीं था। मेरे दोस्त ने बताया कि मुंबई में इस सिंगिंग शो का ऑडिशन हो रहा हैं। उसने मेरा हौसला बढ़ाया ये कहकर कि मैं अच्छा गाता हूं और मुझे खुद को एक मौका देना चाहिए, लेकिन मैंने उसे मना कर दिया था।’

सनी कहते हैं- ‘मेरी हालत नहीं थी मुंबई जाने की क्योंकि मेरे पास पैसे नहीं थे। फिर भी एक रात मैंने सोचा कि अगर मुझे कुछ बड़ा करना है तो खुद को एक मौका देना होगा। मां से इस बारे में बात की। उनसे ऑडिशन की बात कही तो सबसे पहले उनके मुंह से निकला की बेटा पैसा नहीं हैं। उनसे थोड़ी बहस भी हुई लेकिन मैंने ठान लिया था कि मैं एक बार मुंबई जरूर जाऊंगा। इसके बाद मैंने अपने एक करीबी दोस्त से 2 हजार रुपए उधार लिए और ऑडिशन दिया।’ सनी को इंडियन आइडल-11 की ट्रॉफी के साथ 25 लाख रुपए का इनाम मिला। रनरअप को 5-5 लाख रुपए दिए गए। पहले रनरअप रोहित राउत और दूसरी रनर अप ओंकना मुखर्जी रहीं। तीसरे और चौथे रनरअप अद्रिज घोष और रिधम कल्याण रहे।

हमेशा स्पेशल रहेंगे 2 हजार रुपए, इन्हीं से जिंदगी बदली

वह कहते हैं- ‘जब ऑडिशन देने आया था तब इतने सारे लोगों को देखकर डर गया था, लगा नहीं था कि आगे निकल पाऊंगा। जब मुझे गोल्डन माइक मिला तब मेरा कॉन्फिडेंस बढ़ गया। उसके बाद मैंने दोगुनी मेहनत करना शुरू कर दी और मेहनत का नतीजा सही मिला। मां को तो अब तक यकीन नहीं हो रहा कि उनका बेटा इस मुकाम तक पहुंच गया। आज मैं 25 लाख जीत गया हूं पर कितना भी पैसा कमा लूं लेकिन ये 2 हजार रुपए मेरे लिए हमेशा स्पेशल रहेंगे।’

ताने मारने वालों का शुक्रगुज़ार हूं
‘इंडियन आइडल’ से पहले मेरी जिंदगी बहुत कठिन और जिम्मेदारी भरी रही है। आज उन सभी का शुक्रगुज़ार हूं जो मुझे ताने मारते थे क्योंकि अगर वो नहीं ऐसा करते तो मुझमे आगे बढ़ने की हिम्मत नहीं आती। मां ने बैलून बेचकर हमें पाला है और उनका आभार जिंदगी भर नहीं भूलूंगा। बहुत छोटा था जब पापा का देहांत हो गया था। खुद का पेट नहीं भर पाता था, संगीत सीखना तो बहुत दूर की बात है। पर हां अब आगे जाकर जरूर कुछ सीखूंगा। अब तक मैं बॉलीवुड की दो फिल्मों में गाना गा चूका हूं। आगे चलकर एआर रहमान, हिमेश रेशमिया और विशाल ददलानी के साथ काम करने की ख्वाहिश हैं। मुंबई में अपने सपने लेकर आया था और अब यहां शिफ्ट होने की ख्वाहिश है।’ -(जैस किरण जैन को बताया)   

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना