बठिंडा / बारिश में भरभरा कर गिरा 200 साल पुरानी इमारत का हिस्सा, 2 कारें क्षतिग्रस्त

बठिंडा के सदर बाजार में कार के ऊपर गिरता खस्ताहाल इमारत का मलबा। बठिंडा के सदर बाजार में कार के ऊपर गिरता खस्ताहाल इमारत का मलबा।
यह है 200 साल पुरानी इमारत, जिसका छज्जा अचानक गिर गया। यह है 200 साल पुरानी इमारत, जिसका छज्जा अचानक गिर गया।
घटनास्थल पर पड़ी ईंटें, जिनकी वजह से कारें क्षतिग्रस्त हो गई। घटनास्थल पर पड़ी ईंटें, जिनकी वजह से कारें क्षतिग्रस्त हो गई।
X
बठिंडा के सदर बाजार में कार के ऊपर गिरता खस्ताहाल इमारत का मलबा।बठिंडा के सदर बाजार में कार के ऊपर गिरता खस्ताहाल इमारत का मलबा।
यह है 200 साल पुरानी इमारत, जिसका छज्जा अचानक गिर गया।यह है 200 साल पुरानी इमारत, जिसका छज्जा अचानक गिर गया।
घटनास्थल पर पड़ी ईंटें, जिनकी वजह से कारें क्षतिग्रस्त हो गई।घटनास्थल पर पड़ी ईंटें, जिनकी वजह से कारें क्षतिग्रस्त हो गई।

  • बठिंडा शहर के सदर बाजार में सोमवार दोपहर बाद करीब 3 बजे घटी घटना
  • आवाज सुनकर दुकानदार बाहर आए तो हर तरफ थी धूल ही धूल
  • इमारत के मालिक ने कहा- नगर निगम से इमारत का हिस्सा गिराने का अनुरोध किया था

दैनिक भास्कर

Jan 06, 2020, 08:57 PM IST

बठिंडा. बठिंडा में सोमवार दोपहर बाद एक खस्ताहाल इमारत का कुछ हिस्सा भरभराकर गिर गया। घटना में जानहानि ताे नहीं हुई, लेकिन 2 कारें क्षतिग्रस्त हो गईं। लगभग 200 साल पुरानी इस इमारत के क्षतिग्रस्त होने को लेकर नगर निगम की लापरवाही सामने आ रही है। इमारत के मालिक की मानें तो वह निगम को लिखित रूप में स्थिति से अवगत करा चुका है। घटना सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हो गई। वीडियो में देखा जा रहा है कि बूंदाबांदी के बीच लोग बचने के लिए इमारतों का सहारा ले रहे हैं। संयोग से जहां इस इमारत का मलबा गिरा, वहां नीचे कोई मौजूद नहीं था।

घटना बठिंडा शहर के सदर बाजार में दोपहर करीब 3 बजे घटी। दुकानदार ललित ने बताया कि अचानक जोरदार आवाज सुनाई दी तो बाहर निकले। यहां चारों तरफ धूल ही धूल थी। एक पल तो किसी को कुछ समझ नहीं आया। धूल छंटने के बाद पता चला कि बाजार में स्थित एक पुरानी खस्ताहाल इमारत का कुछ हिस्सा अचानक टूटकर गिर गया। 

दुकानदारों की मानें तो यह इमारत लगभग 200 साल पुरानी है और खस्ताहाल है, जिसके चलते पहले भी एक बार हादसा हो चुका है। सोमवार को फिर से इमारत का बड़ा हिस्सा नीचे गिरा। इमारत के मालिक संजीव कुमार ने सीधे तौर पर इसके लिए नगर निगम को जिम्मेदार बताया। संजीव के मुताबिक वह नगर निगम को लिखित तौर पर जानकारी देकर इमारत को तोड़ने का आग्रह कर चुका है, ताकि दोबारा से इस इमारत का निर्माण किया जा सके।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना