संगरूर / फतेहवीर की माैत के दूसरे दिन भी गम और गुस्सा, संगरूर, दिड़बा, भवानीगढ़ बंद; सड़कों पर उतरे लोग



People protest after Fatehvir's death
X
People protest after Fatehvir's death

  • सरकारी तंत्र की लापरवाही के खिलाफ बटाला में सीएम का पुतला फूंका, कपूरथला में कैंडल मार्च, संगरूर में राेड जाम किया
  • लोग बोले- लापरवाही बरतने वाले अफसरों पर दर्ज हो केस

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2019, 12:56 PM IST

संगरूर. भगवानपुरा के फतेहवीर की माैत की पुष्टि के दूसरे दिन बुधवार काे भी सूबे में गम अाैर गुस्से का उबाल दिखा। सरकार की लापरवाही के खिलाफ कहीं सीएम के पुतले फूंके गए, कहीं कैंडल मार्च निकाले गए ताे कहीं धरना प्रदर्शन भी हुए। हर अांख में गुस्सा दिखा। संगरूर, भवानीगढ़ अाैर दिड़बा पूर्ण रूप से बंद रहे। संगरूर व भवानीगढ़ में लोगों ने प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। वहीं, शेरपुर के कातरों चौक पर लाेगाें ने एक घंटे तक यातायात जाम रखा। हालांकि सुनाम में पुलिस ने जगह-जगह पर नाकाबंदी कर सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए हुए थे। 

 

संगरूर में विभिन्न संगठनों के लोग सुबह साढ़े 6 बजे ही शहर के बड़े चौक में एकत्रित हो गए थे। इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने बाइकाें पर शहर के कई चक्कर लगा खुली दुकानों को बंद करवाया। डीसी निवास के प्रदर्शन करने के बाद लोगों ने डीसी कार्यालय के समक्ष धरना दे सीएम से इस्तीफे से की मांग की। शेरपुर में कामरेड सुखदेव सिंह बडी, सिख बुद्धिजीवी मंच के प्रधान मास्टर हरबंस सिंह शेरपुर, शिअद नेता मनजीत सिंह धामी, जमीन प्राप्ति संघर्ष कमेटी के गुरप्रीत सिंह खेड़ी ने आरोप लगाया कि प्रशासनिक अधिकारियों की लापरवाही से फतेहवीर हमारे बीच नहीं है।

 

ऐसी लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज किया जाए। दिड़बा पूरी तरह से बंद रहा। गांव खनाल कलां में एक्स आर्मी वेलफेयर सोसायटी व लोगों ने काली झंडियों के साथ रोष प्रदर्शन किया। वहीं, माेगा के धर्मकोट में आम आदमी पार्टी ने कैप्टन सरकार का पुतला फूंककर नारेबाजी की गई। माेगा, नवांशहर, होशियारपुर, कपूरथला के नडाला अाैर गढ़दीवाला के विभिन्न धार्मिक व सामाजिक जत्थेबंदियों ने रोष व कैंडिल मार्च निकाला। सूबे का काेई एेसा जिले नहीं रहा जहां सरकार के खिलाफ राेष या कैंडल मार्च न निकाला गया।
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना