पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

बेराेजगाराें पर पुलिस ने लाठियां भांजीं, 25 डिग्री तापमान में की पानी की बाैछारें, गिरने पर भी पीटा

9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रदर्शन कर रहे बेरोजगारों पर लाठियां भांजती पुलिस।
  • संगरूर में राेजगार की मांग को लेकर शिक्षा मंत्री के घर का घेराव करने जा रहे थे अध्यापक
  • विरोध में संगरूर-पटियाला बाईपास रोड पर धरना लगाकर यातायात किया ठप
Advertisement
Advertisement

संगरूर. सरकारी नौकरी की मांग को लेकर शिक्षामंत्री विजय इंदर सिंगला के निवास का घेराव करने जा रहे बीएड टेट पास बेरोजगार अध्यापकाें पर पुलिस ने लाठियां बरसाईं। अध्यापकों काे भगाने के लिए रविवार काे 25 डिग्री तापमान में पानी की बौछार की गई।
 
लाठियों से बचने के लिए अध्यापक भी खुले मैदान की तरफ भागे। इस दौरान कई अध्यापकों की पगड़ियां उतर गईं। गिरने पर भी पुलिस ने लाठियां मारीं। गुस्साए अध्यापकों ने सिंगला निवास के नजदीक संगरूर-पटियाला बाईपास रोड पर धरना लगाकर यातायात ठप कर दिया।
 
इसके बाद अध्यापकों ने सिंगला निवास के समक्ष सीएम, शिक्षा मंत्री अाैर सचिव स्कूल शिक्षा का पुतला फूंका। मामला बढ़ता देख एडीसी (विकास) राजिंदर बत्रा मौके पर पहुंचे अाैर मंगलवार को अध्यापकों को पैनल बैठक का समय दिलाकर शांत करा दिया। इसके बाद अध्यापकों ने पुतला फूंक अपना प्रदर्शन समाप्त कर दिया।
 
दरअसल, तय प्रोग्राम के अनुसार यूनियन के सदस्य पंजाब भर से रविवार सुबह ही डीसी कार्यालय के नजदीक जुटने शुरू हो गए। करीब 1 बजे अध्यापकों ने रोष मार्च कर सिंगला निवास की तरफ रुख कर दिया। इस दौरान अध्यापकों ने सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह, शिक्षा मंत्री विजय इन्दर सिंगला व सचिव स्कूल शिक्षा कृष्ण कुमार का पुतला बनाकर उसे गधी पर बैठा लिया। 
 

सड़क पर गिरी महिला अध्यापकाें काे भी पीटा
गुरदीप मानसा, युद्धजीत बठिंडा ने कहा कि सरकार उनकी मांगें मानने को तैयार नहीं है। शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे अध्यापकों पर पुलिस ने जमकर लाठियां बरसाईं हैं। महिला अध्यापकों को पुरुष पुलिस कर्मचारियों ने जमकर पीटा है। जमीन पर गिरे अध्यापक के साथ भी पुलिस पशुओं की तरह बर्ताव किया है। धक्केशाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। सरकार उनकी जायज मांगों को लाठी के दम पर दबाना चाहती है। 
 

पद 30 हजार, 50 हजार टेट पास घूम रहे बेराेजगार
यूनियन के राज्य प्रधान सुखविंदर ढिल्लवां, महासचिव गुरदीप कौर खेडी ने कहा कि वह अपनी मांगों को लेकर 8 सितंबर से धरने पर बैठे हैं। सरकार ने नई अध्यापक योगयता परीक्षा लेने के लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया है परंतु पहले ही इस परीक्षा को पास कर चुके 50 हजार उम्मीदवार रोजगार प्राप्ति के लिए जूझ रहे हैं। जबकि 30 हजार के करीब पद ही खाली हैं। 
 

इन मांगों के लिए प्रर्दशन

  • टेस्ट पास बेरोजगारों के 15 हजार पदों की भर्ती का विज्ञापन जारी हो।
  • टीचर से सिर्फ संबंधित विषय का काम ही लें।
  • 2500 बेरोजगारी भत्ता देने का वादा पूरा करें।
  • भर्ती का आयु सीमा 42 की जाए।
  • भर्ती प्रक्रिया निर्धारित दिनों में पूरी की जाए।
  • निजीकरण की नीति बंद की जाए।
  • अध्यापक और छात्र का अनुपात 30:1 हो।
  • मास्टर काडर की भर्ती में ग्रेजुएशन में 55% नंबर की शर्त खत्म हो
Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज वित्तीय स्थिति में सुधार आएगा। कुछ नया शुरू करने के लिए समय बहुत अनुकूल है। आपकी मेहनत व प्रयास के सार्थक परिणाम सामने आएंगे। विवाह योग्य लोगों के लिए किसी अच्छे रिश्ते संबंधित बातचीत शुर...

और पढ़ें

Advertisement