वक्फ बोर्ड की संपत्ति होगी कब्जामुक्त, 200 से अधिक लोगों को जमीन खाली करने के लिए भेजा नोटिस

Bathinda News - वक्फ बोर्ड की संपत्तियों पर से कब्जा हटाया जाएगा। जो संस्था अब बोर्ड की संपत्तियों का इस्तेमाल करेगी उसे किराया...

Nov 10, 2019, 07:40 AM IST
वक्फ बोर्ड की संपत्तियों पर से कब्जा हटाया जाएगा। जो संस्था अब बोर्ड की संपत्तियों का इस्तेमाल करेगी उसे किराया देना होगा। नोटिस के आधार पर आगामी दिनों में अतिक्रमण हटाना होगा। वक्फ बोर्ड अधिकारियों की ओर से वक्फ बोर्ड की जमीनों पर शैक्षणिक संस्थान, अस्पताल, दुकान, मकान, खेती व अन्य तरह से उपयोग किया जा रहा है। लंबे अरसे के बाद भी बोर्ड की संपत्तियों को अतिक्रमण मुक्त नहीं कराया गया। अब वक्फ बोर्ड जिले के करीब 200 से अधिक अतिक्रमणकारियों को हाईकोर्ट में घसीटेगी। वक्फ बोर्ड की ओर से करीब 200 से अधिक लोगों को जमीन खाली करने के लिए नोटिस भेजे गए हैं। वक्फ बोर्ड अधिकारियों के अनुसार पिछले वर्ष वक्फ बोर्ड ने संपत्तियों का सर्वे किया था। सर्वें दौरान शहर में उनकी कई बीघे की जमीन पर अतिक्रमण पाया गया। जिसमें किराएदारी खत्म होने पर भी अतिक्रमणकारियों का कब्जा रहा। वक्फ बोर्ड अधिकारियों का कहना है इसमें अधिकतर नेतागण, व्यापारी और भू-माफिया के अलावा अन्य कई तरह के लोग शामिल हैं। वक्फ बोर्ड के ईओ महमूद अख्तर ने बताया कि करीब 200 से अधिक लोगों को वक्फ संपत्तियों के अवैध कब्जे हटाने के लिए वक्फ अधिनियम की धारा 54, 52- 1995 के तहत नोटिस भेजा गया है। प्रतिदिन 4-5 लोगों को नोटिस भेजा जाता है। इस संबंध में चंडीगढ़ स्थित वक्फ बोर्ड के सीओ के देखरेख में उक्त कार्रवाई की जाती है। वक्फ बोर्ड की संपत्तियों पर से कब्जा खाली न करने पर बोर्ड को प्रतिमाह किराया देना होगा। मालूम हो कि बोर्ड की ज्यादातर संपत्तियों पर शिक्षण संस्थाओं का कब्जा है।

नोटिस का जवाब एक माह में देना अनिवार्य

नोटिस में वक्फ संपत्ति का विवरण, खाता खेसरा नंबर, नेचर ऑफ वक्फ व संबंधित विभाग का ब्यौरा भी दिया गया। जिसमें शहर के नामी शिक्षण संस्थान की ओर से वक्फ बोर्ड की करीब 10 बीघे से अधिक जमीन पर अतिक्रमण पिछले लंबे समय से किया गया। वक्फ बोर्ड के ईओ महमूद अख्तर व रेट कलेक्टर लाइक अहमद ने बताया कि वक्फ बोर्ड ओर से जमीन के लिए 99 वर्ष के लिए कोई लीज नहीं है, वक्फ बोर्ड की ओर से 1 से 30 वर्ष तक ही एग्रीमेंट किया जाता है। बोर्ड ने स्पष्ट किया है कि अगर लीज होल्डर नोटिस मिलने के बाद निश्चित समय तक अपना बकाया किराया जमा और रेट के अनुसार लीज रिन्यू नहीं कराता को लीज रद्द कर दी जाएगी। बोर्ड ऐसे लीज होल्डरों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी करेगा। उक्त अधिकारियों ने बताया कि अभी तक कुछ लोगों ने ही किराया जमा करवाकर लीज रिन्यू करवाया है।

इधर, कार्रवाई का हरबंस नगर वासियों ने किया विरोध

बठिंडा| वक्फ बोर्ड की ओर से आईटीआई चौक स्थित हरबंस नगर में घरों की लिस्टें बनाने के काम का कड़ा विरोध किया गया। शनिवार को वक्फ बोर्ड के निर्देश पर जैसे ही पटवारी भोजराज गली नंबर एक में पहुंचा और घरों की लिस्टें बनाने का काम शुरू किया तो लोग एकत्र हो गए और नारेबाजी शुरू कर दी है। विरोध को देखते हुए पटवारी को टीम समेत लौटना पड़ा। मोहल्ला सुधार कमेटी के प्रधान बलविंदर सिंह वालिया, तरसेम लाल शर्मा, जसकरन सिंह, शंटी ढिल्लों, राजपाल सिंह, सुखवंत सिंह, ज्ञान चंद, छिंदरपाल शर्मा आदि ने बताया कि वक्फ बोर्ड की ओर से मोहल्ले के घरों की लिस्टें बनाई जा रही हैं। इसके बारे में मोहल्ले के लोगों को भी कोई जानकारी नहीं दी जा रही है कि इसका क्या मकसद है। उधर, क्षेत्र के पार्षद राजविंदर सिंह सिद्धू ने कहा कि विधानसभा चुनाव के दौरान मनप्रीत सिंह बादल ने वादा किया था कि कचरा प्लांट बंद किया जाएगा, वहीं वक्फ बोर्ड की जमीन की रजिस्ट्रियां कराने का कार्य भी शुरू किया जाएगा। अब वादे से मुकर गए हैं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना