...तेरे भाणे सरबत दा भला

Bathinda News - भास्कर न्यूज | करतारपुर साहिब/डेरा बाबा नानक भारत-पाक के बीच आस्था का पर्याय बने करतारपुर कॉरिडोर का गुरदासपुर...

Nov 10, 2019, 07:35 AM IST
भास्कर न्यूज | करतारपुर साहिब/डेरा बाबा नानक

भारत-पाक के बीच आस्था का पर्याय बने करतारपुर कॉरिडोर का गुरदासपुर जिले के डेरा बाबा नानक में पीएम नरेंद्र माेदी अाैर पाक के लरकाना जिले के करतारपुर में पीएम इमरान खान ने उद्घाटन किया। 72 साल बाद माेदी ने काॅरिडाेर के चेकपाेस्ट से 562 श्रद्धालुअाें काे करतारपुर साहिब के दर्शनों के लिए रवाना किया। जिसमें ज्यादातर वीवीआईपी शामिल थे। करतारपुर में इमरान खान ने भारतीय श्रद्धालुओं के पहले जत्थे का स्वागत किया। भव्य कार्यक्रमों के दौरान कहीं आस्था का सैलाब बहा तो कहीं इस मंच के जरिये भी राजननीति हुई। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा. करतारपुर सिर्फ नानक की कर्मभूमि नहीं है कण कण में उनके पसीने की महक मिली है और वायु में बाणी घुली हुई है। मोदी ने नानक नाम चढ़दी कला तेरे भाणे सरबत दा भला उच्चारण कर करतारपुर कॉरिडोर देश को समर्पित किया। उन्होंने इमरान खान का धन्यवाद करते हुए कहा मैं पाक के पीएम जनाब इमरान खान का भी धन्यवाद करता हूं कि उन्होंने करतारपुर कॉरिडोर के विषय में भारत की भावनाओं काे समझा, सम्मान दिया और उसी भावना के अनुरूप कार्य किया। उन्होंने कहा कि इस पवित्र धरती पर आकर वह धन्य महसूस कर रहे हैं। जैसी अनूभूति आप सब को कारसेवा के समय होती है। उन्होंने तीन बार सतनाम श्री वाहेगुरु का भी उच्चारण किया। टर्मिनल उद्धाटन के समय पीएम मोदी ने पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह को करतारपुर स्थित गुरुद्वारा करतार साहिब में सुशोभित श्री गुरु ग्रंथ साहिब के लिए रूमाला साहिब भेंट किया। एसजीपीसी की ओर से प्रधान गोबिंद सिंह लौंगोवाल द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कौमी सेवा अवार्ड से सम्मानित किया गया।

पहले जत्थे में ये प्रमुख लाेग शामिल रहे...पहले जत्थे में पूर्व प्रधानमंत्री मनमाेहन िसंह, अकाल तख्त के जत्थेदार हरप्रीत िसंह, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर िसंह, पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश िसंह बादल, सुखबीर सिंह बादल, हरसिमरत काैर बादल अाैर पंजाब के पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू, सांसद सन्नी देयोल, पूर्व विधायक एचएस फुल्का के अलावा पंजाब के सभी विधायक अाैर सांसदों समेत एसजीपीसी प्रधान गोबिंद सिंग लौंगोवाल व अन्य सभी सदस्य मौजूद थे।

भारत
कॉरिडोर से भी कश्मीर राग गाया

पाक पीएम ने कहा- 80 लाख कश्मीरियों को बंद किया हुआ है

इमरान खान ने कहा कि करतारपुर साहिब कॉरिडोर खाेला जाना क्षेत्रीय शांति के लिए पाक की प्रतिबद्धता का प्रमाण है। आज हम न केवल सीमा खोल रहे हैं, बल्कि सिख समुदाय के लिए भी अपने दिल खोल रहे हैं। करीब 12 हजार श्रद्धालुअाें काे संबाेधित करते हुए खान ने कहा, “हम मानते हैं कि यह पहल क्षेत्र की समृद्धि और आने वाली पीढ़ी के उज्जवल भविष्य की राह खाेलेगी।’ इमरान ने कश्मीर पर बोला कि, आज कश्मीर में जो हो रहा है वह टेरिटोरियल इश्यू से भी उपर निकल गया है। यह इंसानी हकूक का मुद्दा है। वहां 80 लाख लोगों को उनके सारे मानवाधिकार खत्म करके 9 लाख फौज से बंद किया हुआ है। यह इंसानियत का मुद्दा है यह जमीन का मुद्दा नही हैं। कि किस तरह उन्हें जानवरों की तरह रखा जा रहा है। उन्हें यूएन द्वारा दिए हक जबरदस्ती ले लिए गए हैं। इस वजह से हमारे सारे ताल्लुकात रुक गए हैं। मैं आज भी कहता हूं कि अगर भारत के पीएम आवाज सुन रहे हैं तो इंसान से अमन होता है. कश्मीर के लोगों को इंसाफ दें। इन सभी को आजाद कर दें।


पाक विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने भी कहा कि अगर करतारपुर गलियारा खोला जा सकता है तो फिर एलओसी को भी खत्म किया जा सकता है।” कुरैशी ने कहा नियंत्रण रेखा कश्मीर को पीओके से अलग करती है। क्या मोदी भी ऐसा शुक्रिया अदा करने का मौका देंगे? उन्होंने मोदी से कहा, “आप ऐसा कर सकते हैं। कश्मीर में कर्फ्यू हटाकर, पेलेट गन का इस्तेमाल कर ऐसा कर सकते हैं।”

176 दिन चुप्पी के बाद जमकर बाेले सिद्धू

पाकिस्तान में सिद्धू बोले- मोदी साहब, आपको मुन्नाभाई एमबीबीएस स्टाइल में जादू की झप्पी

करतारपुर साहिब | लोकसभा चुनाव के बाद से चुप्पी साधे पूर्व कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने शनिवार को पाकिस्तान में 176 दिन बाद चुप्पी तोड़ी। आखिरी बार सिद्धू ने 17 मई को बठिंडा मेंं सियासी भाषण दिया था। इससे 4 दिन पहले उन्होंने बठिंडा में ही बेअदबी को लेकर विपक्षी व अपनी पार्टी पर सवाल उठाए थे। तभी से वह पार्टी के नेताओं के निशाने पर थे। वहीं, पीएम इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह के दौरान आर्मी चीफ कमर बाजवा से झप्पी डालने के बाद हुए विवाद का भी सिद्धू ने मंच पर इसका भी जवाब दिया। गुरुद्वारा करतारपुर साहिब पहंुचे सिद्धू ने सियासी मंच पर पीएम मोदी और इमरान खान की तारीफ की। सिद्धू ने कहा, कॉरिडोर खोलने के लिए मैं पीएम मोदी को बधाई देता हंू। हमारे बीच भले ही सियासी मतभेद हैं पर इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि गांधी परिवार के लिए मेरा जीवन समर्पित है। ‘मोदी जी मैं आपको मुन्नाभाई एमबीबीएस स्टाइल में जादू की झप्पी भेज रहा हूं। यह सियासत की बात नहीं दिल की बात है। दिल जीतने की बात है। खान की तारीफ करते कहा, आपसे अब बॉर्डर खोलने की बात सुनना चाहता हूं ताकि कोई अमृतसर तों साग-मक्की दी रोटी खा के सवेरे लाहौर जाएं ते बिरयानी खाकर शाम नूं वापस लौट आए। सिद्धू ने कहा मैं बाबा नानक का नौकर हूं और यहां प्यार लेकर आया हूं।

पीएम ने 3 बार सतनाम श्री वाहेगुरु कहकर कॉरिडोर को समर्पित किया

पाक
बोले- इमरान से ऐसी 100 झप्पी डालने को तैयार हंू


इमरान की तारीफ करते सिद्धू ने कहा, खान वह सिकंदर हैं, जो दिलों पर राज करते हैं। उनका दिल समंदर जितना है। उन्होंने सिखों की इच्छा को पूरा किया है। ‘‘खान साहब, मेरी बात याद रखना सिख कौम जिस मंजिल पर आपको ले जाएगी उसके बारे में आप सोच नहीं सकते। इस कदम से मोदी स‍ाहब और आपने 14 करोड़ सिखों दिल जीता है।

करतारपुर साहिब | लोकसभा चुनाव के बाद से चुप्पी साधे पूर्व कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने शनिवार को पाकिस्तान में 176 दिन बाद चुप्पी तोड़ी। आखिरी बार सिद्धू ने 17 मई को बठिंडा मेंं सियासी भाषण दिया था। इससे 4 दिन पहले उन्होंने बठिंडा में ही बेअदबी को लेकर विपक्षी व अपनी पार्टी पर सवाल उठाए थे। तभी से वह पार्टी के नेताओं के निशाने पर थे। वहीं, पीएम इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह के दौरान आर्मी चीफ कमर बाजवा से झप्पी डालने के बाद हुए विवाद का भी सिद्धू ने मंच पर इसका भी जवाब दिया। गुरुद्वारा करतारपुर साहिब पहंुचे सिद्धू ने सियासी मंच पर पीएम मोदी और इमरान खान की तारीफ की। सिद्धू ने कहा, कॉरिडोर खोलने के लिए मैं पीएम मोदी को बधाई देता हंू। हमारे बीच भले ही सियासी मतभेद हैं पर इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि गांधी परिवार के लिए मेरा जीवन समर्पित है। ‘मोदी जी मैं आपको मुन्नाभाई एमबीबीएस स्टाइल में जादू की झप्पी भेज रहा हूं। यह सियासत की बात नहीं दिल की बात है। दिल जीतने की बात है। खान की तारीफ करते कहा, आपसे अब बॉर्डर खोलने की बात सुनना चाहता हूं ताकि कोई अमृतसर तों साग-मक्की दी रोटी खा के सवेरे लाहौर जाएं ते बिरयानी खाकर शाम नूं वापस लौट आए। सिद्धू ने कहा मैं बाबा नानक का नौकर हूं और यहां प्यार लेकर आया हूं।

शनिवार सुबह 12000 से ज्यादा श्रद्धालु गुरुद्वारा करतारपुर साहिब पहुंचे।

इमरान खान के शपथ समारोह के दौरान आर्मी चीफ बाजवा से झप्पी डालने के बाद विवादाें में आए सिद्धू ने इसका भी जवाब दिया। ‘‘कहा मेरी सियासत मोहब्बत है। लांघा भी मेरी मोहब्बत है तो झप्पी भी मेरी मोहब्बत। अगर इमरान से एक जफ्फी रास्ते खोल सकती है तो सभी मसले सुलझाने को ऐसी 100 झप्पी डालने को भी तैयार हूं।

पहले जत्थे से भास्कर लाइव

पाक में गर्मजोशी से स्वागत गुरुद्वारा साहिब देख चमक उठे श्रद्धालुओं के चेहरे

तेजिंदर सिंह

स्थान: डेरा बाबा नानक

समय: सुबह आठ बजे

संगत और स्थानीय लोगों का काफिला करतापुर कॉरीडोर की ओर बढ़ रहा है। बॉर्डर से 7 किमी. पहले माछियां में मोदी की जनसभा थी, वहीं पर सारे लोग पहुंचे। हजारों की संख्या में कार्यक्रम में शामिल होने जा रहे लोगों को देखकर ऐसा लग रहा था मानो हर कोई इस ऐतिहासिक क्षण का साक्षी बनना चाहता है। पूरा माहौल भक्तिमय था। इसके बाद हमें सुरक्षा कर्मियों के साथ उन लोगों के पास ले जाया गया जो पहले जत्थे में गुरुद्वारा साहिब के दर्शन को जाने वाले थे। इनमें प्रदेश सरकार के मंत्री, विधायक और सांसद समेत वीआईपी शामिल थे। 11 बजे मोदी कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे। उनके साथ कैप्टन, सुखबीर बादल और हरसिमरत भी थीं। जनसभा के बाद 1.20 बजे करतारपुर बॉर्डर पर इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट पर कॉरिडोर का उद्घाटन कर मोदी ने पहला जत्था रवाना किया। बॉर्डर के पास पहुंचते ही जांच की औपचारिकताएं हुईं। फिर हमें एक खुले हॉल में बिठाया गया। यहीं हमें पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह दिखे जो सभी का अभिवादन कर रहे थे। सनी देओल, नवजोत सिंह सिद्दू भी वहीं थे। लोग उनके साथ फोटो खिचवाने के लिए लाइन लगाकर खड़े थे। कॉरिडोर को लेकर हमने सिद्धू से बात की तो उन्होंने कहा यह अमन और शांति का लांघा मुद्दतों प्रयास के बाद खुला है। हमें इसका तहेदिल से स्वागत करना चाहिए। हालांकि जब कुछ अन्य विषयों पर उनसे सवाल हुए तो “नो कमेंट्स प्लीज” कह कर बात वहीं खत्म कर दी। जब हमने पाक इमीग्रेशन में प्रवेश किया तो सबसे पहले पाकिस्तानी मुद्रा में पैसे का आदान-प्रदान हुआ। यहां भारतीय मुद्रा में 1600 रुपए जमा हुए यानी यूएस $ 20। इमिग्रेशन काउंटर पर लोगों ने गर्मजोशी से हमारा स्वगत किया। बसों ने तीर्थयात्रियों को पवित्र करतारपुर कॉरिडोर में पहुंचाया जहां 7000 से ज्यादा लोग पहले से मौजूद थे। जब भारतीय दर्शक वहां पहुंचे तो हर कोई उत्साहित था। यहां सिद्धू का स्वागत एक हीरो की तरह हुआ और सनी देओल को भी देखने वालों की लाइन लग गई। यहां माथा टेकने के बाद हर कोई एक दूसरे को मुबारकबाद दे रहा था। पाकिस्तानी सिख श्रद्धालुओं से लोग गले मिल रहे थे। हर जुबां पर यही चर्चा कि ये गलियारा भारत पाक के संबंधों की सबसे बड़ी सौगात है। इसे हम हमेशा निभाने की कोशिश करेंगे। लाहौर से आए सुखविंद सिंह ने कहा नानक ने लंबे समय बाद हमारी अरदास सुन ली है। अब इस मार्ग से नफरत का पैगान न आए तो सुखद होगा। एक अन्य श्रद्धालु ने कहा कि इस कॉरिडोर के खुलने से हमारे बच्चों का भविष्य भी संवरेगा। यहां रोज 5000 की संगत आएगी। प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रोजगार मिलेगा। भारत की ओर से पहुंचे नरिंदर सिंह ने कहा कि पाकिस्तान द्वारा अच्छे इंतजामात किए गए हैं बस यही दुआ है संगत के आने जाने का ये सिलसिला अब हमेशा चलता रहे। नानक का यह पवित्र स्थल बहुत ही विहंगम लग रहा था। यहां दर्शन कर लोगों के चेहरे खिल उठे। ऐसा लगा जैसे जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि हासिल कर ली हो।

(पत्रकार अमेरिका में भास्कर के फॉरेन कॉरेसपोंडेंट हैं, भारत सरकार के विशेष आमंत्रण पर पहले जत्थे में पहुंचे)

सीएम कैप्टन ने कहा- पीएम मोदी के कारण दर्शन कर पाया

सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि पीएम मोदी की वजह से मैं करतारपुर साहिब गुरुद्वारा के दर्शन कर पाया। पाक को नसीहत देते कहा कि उसे शांति बनाए रखनी चाहिए और पैसा आतंकियों को न देकर अपने लोगों के विकास पर लगाना चाहिए।



बादल बोले- सिख संगत की लंबे समय से चली आ रही अरदास पूरी हुई

पूर्व सीएम परकाश सिंह बादल ने कहा कि आज सिख संगत की लंबे समय से चली आ रही अरदास पूरी हुई है। बादल ने कहा कि देश को ऐसा पीएम मिला है, जो श्री गुरु नानक देव जी के बताए मार्ग पर चलने का प्रयास कर रहा है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना