Hindi News »Punjab »Bhatinda» ग्रीन सिटी कॉलोनी को निगम के टेकओवर करने को लेकर शिकायत पर सीएम ने दिए जांच के आदेश

ग्रीन सिटी कॉलोनी को निगम के टेकओवर करने को लेकर शिकायत पर सीएम ने दिए जांच के आदेश

शहर के माडल टाउन फेस 4-5 के सामने स्थित ग्रीन सिटी कॉलोनी को नगर निगम बठिंडा की तरफ से टेकओवर करने को लेकर एक व्यक्ति...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 02:10 AM IST

ग्रीन सिटी कॉलोनी को निगम के टेकओवर करने को लेकर शिकायत पर सीएम ने दिए जांच के आदेश
शहर के माडल टाउन फेस 4-5 के सामने स्थित ग्रीन सिटी कॉलोनी को नगर निगम बठिंडा की तरफ से टेकओवर करने को लेकर एक व्यक्ति की भेजी शिकायत के बाद मुख्यमंत्री ने स्थानीय निकाय विभाग के प्रमुख सचिव को जांच के आदेश दिए हंै। मुख्यमंत्री दफ्तर के सचिव (जरनल) सुखचरण सिंह की तरफ से जारी पत्र में प्रमुख सचिव को आदेश दिए है कि 13 मार्च को रंजीव कुमार बांसल निवासी आरएसएस वाली गली नई बस्ती बठिंडा की तरफ से मुख्यमंत्री को भेजी गई शिकायत की जांच कर सीधे तौर पर उसे जांच रिपोर्ट व संबंधित कार्रवाई के बारे में सूचित भी किया जाए। बताते चलें कि स्थानीय निकाय विभाग के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी ने मामले की जांच निगम कमिश्नर बठिंडा को भेज दी है। यही नहीं बीती 14 मार्च को हुई जनरल हाउस की मीटिंग में प्राइवेट बिल्डर्स की तरफ से बनाई गई ग्रीन सिटी के फेस 1 व 4 को टेकओवर करने के लिए एजेंडा शामिल किया था। हालांकि, मेयर से लेकर निगम कमिश्नर तक इस एजेंडे को पास करवाने के हक में थे, लेकिन मीटिंग में अकाली दल के साथ- साथ कांग्रेसी पार्षदों ने इस एजेंडे को पेडिंग रखने व कमेटी बनाकर जांच के बाद मंजूरी देने के लिए कहा था।

नई बस्ती गली नंबर 6 के निवासी राजीव कुमार बांसल ने 13 मार्च को चीफ जस्टिस पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट, मुख्यमंत्री पंजाब, गर्वनर पंजाब, स्थानीय निकाय मंत्री पंजाब, चीफ सेक्रेटरी पंजाब और चीफ प्रिसिंपल सचिव टू मुख्यमंत्री पंजाब को शिकायत में कहा है कि ग्रीन सिटी पूरी तरह से प्राइवेट कॉलोनी है, जोकि प्राइवेट बिल्डर्स की तरफ से बनाई गई है। कॉलोनाइजर की तरफ से खरीददारों को विभिन्न प्रकार की सुविधा देने के वायदे किए थे, जोकि पूरे नहीं किए है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया है कि कालोनी की एक साइड कैंट एरिया के साथ लगती है, आर्मी ने 1200 गज तक के अंदर निर्माण कार्य पर रोक लगा रखी है।

निगम कमिश्नर से नहीं मिलने दिया

बीते दिनों स्थानीय निकाय विभाग के प्रिंसिपल सेक्रेटरी ने उनके शिकायत की जांच निगम कमिश्नर रिशीपाल सिंह को भेजी थी। निगम दफ्तर से उन्हें 26 मार्च को जांच में शामिल होने के लिए बुलाया था। कमिश्नर से मिलने भी गए थे, लेकिन वह नहीं मिले। अब दोबारा उन्हें मिलने नहीं दिया जा रहा है। -राजीव कुमार बांसल, शिकायतकर्ता

झूठी शिकायतें दे रहा है राजीव

कॉलोनी पर कोई जांच शुरू की गई है, इसके बारे में जानकारी नहीं है। राजीव झूठी शिकायतें कर रहा है। वहीं उन्होंने कालोनी की तरफ से सरकार व विभिन्न अथार्टी की बनती सारी फीस जमा करवाई है, उनका कोई बकाया नहीं है। कैंट के साथ उनका कोर्ट केस चल रहा है, कैंट के साथ जो जमीन लगती है उसमें किसी भी प्रकार का कोई निर्माण नहीं किया है। - डीपी बांसल, कालोनी प्रबंधक ग्रीन सिटी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhatinda

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×