Hindi News »Punjab »Bhatinda» नहर की दरार को भरने में लग सकता है एक सप्ताह

नहर की दरार को भरने में लग सकता है एक सप्ताह

भास्कर संवाददाता | गिद्दड़बाहा शुक्रवार देर शाम सरहिंद फीडर और राजस्थान फीडर नहर के बीच वाली पटड़ी में आई दरार...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 02:35 AM IST

भास्कर संवाददाता | गिद्दड़बाहा

शुक्रवार देर शाम सरहिंद फीडर और राजस्थान फीडर नहर के बीच वाली पटड़ी में आई दरार को भरने के लिए नहरी विभाग व स्थानीय सिविल प्रशासन की ओर से शनिवार को कार्य शुरू कर दिया गया है, लेकिन पानी के बहाव के कारण पटड़ी में आई दरार इतनी अधिक बढ़ गई थी, जिसे भरने के लिए लगभग एक सप्ताह का समय लगेगा। एसडीओ सरहिंद फीडर रमनप्रीत सिंह ने बताया कि दरार को भरने का कार्य राजस्थान नहरी विभाग द्वारा ही किया जा रहा है। एसडीओ रमनप्रीत सिंह ने बताया कि दरार पड़ने के तुरंत बाद सरहिंद फीडर नहर का पानी बंद करवा दिया गया था और लगभग 2 घंटे बाद नहर में पानी आना बंद हो गया था, जिस उपरांत पटड़ी में पड़ी दरार को भरने का कार्य शुरू कर दिया गया था । उन्होंने बताया कि दरार भरने के उपरांत नहर की मरम्मत की जाएगी जिसके बाद ही पानी छोड़ा जाएगा। मिट्टी भरने के लिए 16 ट्रैक्टर-ट्रॉली, दो जेसीबी मशीन व दो क्रेन की मदद ली जा रही है। मौके पर कार्यकारी इंजीनियर राजस्थान फीडर डी.एस. धालीवाल, एसडीओ आर.एस.पावला, एसडीओ अमरजीत संधू, एस.पी. मिड्ढा एई मलोट उपस्थित थे।

नहर पर शुरू करवाए काम के दौरान मौके पर मौजूद अधिकारी।

मिट्टी उठाने को लेकर हुआ हंगामा

उस समय हंगामा हो गया जब ठेकेदार रमन सिंह ने राजस्थान फीडर नहर की गांव समाघ की ओर पड़ती पटरी पर लगे मिट्टी के ढेरों को उठाना शुरू कर दिया। गुरजिंदर सिंह, जगजीत सिंह, अर्शदीप सिंह, कृष्ण सिंह, गौरा सिंह, बलवंत सिंह, सुखपाल सिंह, सुखवंत सिंह, जसविन्द्र सिंह व गुरविन्द्र सिंह आदि ने ठेकेदार को पटड़ी पर पड़ी मिट्टी को उठाने से रोका, जिनका कहना था कि मिट्टी उठाने से नहर का गांव तरफ का किनारा कमजोर हो जाएगा। इस हंगामे को देख मौके पर मौजूद एसडीओ आर.एस.पावला ने ठेकेदार को उक्त मिट्टी उठाने से मना कर दिया । (गोबिंद गुप्ता)

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhatinda

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×