बठिंडा

  • Hindi News
  • Punjab
  • Bathinda
  • किसान को खेत से निकाल सहायक धंधों से जोड़ने को बठिंडा में फूड प्रोसेसिंग यूनिट शुरू
--Advertisement--

किसान को खेत से निकाल सहायक धंधों से जोड़ने को बठिंडा में फूड प्रोसेसिंग यूनिट शुरू

पंजाब के किसानों को खेतों तक सीमित न रखकर अब आगे लेकर आने के लिए बठिंडा में नार्थ इंडिया का पहला फूड प्रोसेसिंग...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:10 AM IST
किसान को खेत से निकाल सहायक धंधों से जोड़ने को बठिंडा में फूड प्रोसेसिंग यूनिट शुरू
पंजाब के किसानों को खेतों तक सीमित न रखकर अब आगे लेकर आने के लिए बठिंडा में नार्थ इंडिया का पहला फूड प्रोसेसिंग यूनिट शुरू हो गया है। यहां पर किसानों के साथ युवाओं आैर विद्यार्थियों को फूड प्रोसेसिंग से संबंधित ट्रेनिंग दी जाएगी। साथ ही वह यहां की मशीनों को किराए पर भी इस्तेमाल कर सकते हैं। भारत सरकार के सहयोग से इंडियन इंस्टीच्यूट ऑफ फूड प्रोसेसिंग टेक्नाेलॉजी की ओर से तमिलनाडु आैर गुवाहटी के बाद बठिंडा में खोले गए सेंटर का उद्घाटन 27 फरवरी को केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने किया था। लेकिन यहां पर ट्रेनिंग देने का पहला सेशन 4 अप्रैल से शुरू किया गया है। यहां ट्रेनिंग लेने के इच्छुकों को रजिस्ट्रेशन करवानी होगी। जबकि सेंटर को बठिंडा में शुरू करने का मुख्य मकसद पंजाब में खेतीबाड़ी संबंधी छोटे उद्योगों को विकसित करने व मैन पावर को प्रयोग में लाने के अलावा किसानों, किसानों के समूह, सरकारी संस्थानों जैसे विभिन्न हितधारकों को ट्रेनिंग, परामर्श, व्यवसाय संबंधी सेवाएं और छात्रों को इंटर्नशिप प्लेटफार्म देना है।

ऐसे कर सकते हैं संपर्क...

उद्यमी, किसान, हाऊस वाइफ आैर सेल्फ हेल्प ग्रुप ले सकते हैं ट्रेनिंग

खेती से उद्योग की आेर...स्वरोजगार शुरू करने के लिए ट्रेनिंग लेते लोग।

पांच का ग्रुप जरूरी, एक दिन से एक हफ्ते तक की ट्रेनिंग

बठिंडा में शुरू किए गए सेंटर की इंचार्ज प्रतिभा सिंह के अनुसार ट्रेनिंग लेने के लिए पहले रजिस्ट्रेशन करवानी होगी। इसके बाद एक दिन, तीन दिन, एक हफ्ते की ट्रेनिंग के अलग-अलग कोर्स करवाए जाएंगे। ट्रेनिंग लेने के लिए कम से कम पांच लोगों का ग्रुप जरूर होना चाहिए क्योंकि एक मशीन को चलाने में इतने लोगों का होना जरूरी है। यहां तक कि सेंटर में खेतीबाड़ी से संबंधित मशीनों को भी किराए पर देने की सुविधा है, जिसके लिए किसानों को खेती की जानकारी देनी होगी। जबकि इसका किराया कम रखा जाएगा लेकिन अभी तय नहीं किया गया है।

सेंटर में रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए माडल टाउन फेस-1 में बीडीए दफ्तर, बठिंडा के पास पहुंचकर जानकारी हासिल की जा सकती है या फिर lo_bathinda@iifbt.edu .in पर ईमेल की जा सकती है। इसके अलावा सेंटर के नंबर 97792-89383 पर भी संपर्क करें।

यहां पर ये सर्विसेस करवाई जाएंगी मुहैया

सेंटर में शार्ट टर्म ट्रेनिंग एंड इंटर्नशिप होगी, जिसमें फूड प्रोसेस इंजीनियरिंग, फूड साइंस एंड टेक्नोलॉजी, फूड साइंस एंड न्यूट्रिशन मुख्य रहेंगे। पंजाब के किसी भी इंस्टीच्यूट के एग्रीकल्चर व बायोटेक्नोलॉजी के विद्यार्थी शामिल हो सकते हैं। इसके अलावा यह ट्रेनिंग उद्यमियों, किसानों, हाऊस वाइफ व सेल्फ हेल्प ग्रुप्स को भी दी जाएगी। ट्रेनिंग में फ्रूट्स एंड वेजिटेबल प्रोसेसिंग, प्रिजर्वेशन व वैल्यू एडिशन के अलावा इंस्टेंट मिक्सेस, मसाला व चटनी प्रोडक्ट्स की ट्रेनिंग दी जाएगी। डेयरी प्रोडक्ट्स की भी ट्रेनिंग का प्रबंध है।

यूनिट खोलने से पहले गांवों में किया गया सर्वे

बठिंडा में सेंटर खोलने से पहले संचालकों की ओर से गांवों में सर्वे भी किया गया है, क्योंकि यहां पर खेतीबाड़ा से जुडे हुए किसान सिर्फ गेहूं व धान की फसल को ही प्राथमिकता देते हैं। लेकिन अब उनको अन्य काम में भी लगाने के लिए यह सेंटर शुरू किया गया है, जिसके तहत किसानों को जागरूक करने के लिए गांवों में सेमिनार लगाए गए हैं। जहां पर उनको सेंटर में मिलने वाली सुविधाओं की जानकारी दी गई। वहीं बताया गया कि अगर वह इस तकनीक का इस्तेमाल करेंगे तो वह कम लगात में ज्यादा मुनाफा ले सकते हैं।

X
किसान को खेत से निकाल सहायक धंधों से जोड़ने को बठिंडा में फूड प्रोसेसिंग यूनिट शुरू
Click to listen..