• Home
  • Punjab
  • Bathinda
  • कार्रवाई नहीं करने के रोष में धोबियाना बस्ती के लोगों ने थाना कैंट के बाहर किया प्रदर्शन
--Advertisement--

कार्रवाई नहीं करने के रोष में धोबियाना बस्ती के लोगों ने थाना कैंट के बाहर किया प्रदर्शन

बठिंडा|धोबियाना बस्ती के लोगों ने सोमवार को अपहरण मामले में कार्रवाई नहीं करने के आरोप लगाते हुए थाना कैंट के बाहर...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 03:10 AM IST
बठिंडा|धोबियाना बस्ती के लोगों ने सोमवार को अपहरण मामले में कार्रवाई नहीं करने के आरोप लगाते हुए थाना कैंट के बाहर रोष प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया कि बच्चा अगवा करने आए लोगों को मौके पर पकड़कर देने के बावजूद पुलिस अपहरण की धारा लगाने की बजाय केवल लड़ाई-झगड़ा रोकथाम की धारा लगाकर खानापूर्ति कर रही है। पुलिस का कहना है कि मामला अपहरण का न होकर विवाहित दंपती के आपसी कलह का है। इस मौके पर पार्षद हरजिंदर सिंह छिंदा ने बताया कि धोबियाना बस्ती निवासी सोनू का प|ी रेनू के साथ विवाद चल रहा है। उसकी प|ी बच्चे छोड़ अपने मायके चली गई। सोनू ने अदालत में उसे बसाने के लिए केस लगा रखा है। रविवार रेनू अपने साथ 15 लोगों को लेकर पहुंची। उस समय सोनू की भांजी प्रीति (15) सोनू के बेटे आतिश (4) को गोद में लेकर बैठी हुई थी। आरोप है कि उन लोगों ने आते प्रीति के हाथ से आतिश को छीनने की कोशिश की। विरोध करने पर उन लोगों ने प्रीति को भी उठाने की कोशिश की। मगर मौके पर जमा हुए लोगों ने उन्हें पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। प्रदर्शन कर रहे राम प्रसाद, राजेश कुमार, नवजोत शर्मा, सतीश कुमार, पूजा, रेनू, सुलोचना, रेखा, शीला, संतोष, ननो देवी ने मांग की है कि बिना कार्रवाई छोड़े गए आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया जाए।

कहा- बच्चा अगवा करने आए लोगों को पकड़कर देने के बावजूद पुलिस ने नहीं लगाई अपहरण की धारा

पुलिस बोली- मामला अपहरण का नहीं , दंपती के आपसी कलह का है

आरोपियों को छोड़ने का आरोप गलत : एसएचओ

थाना कैंट के एसएचओ नरिंदर कुमार ने कहा कि अपहरण जैसी कोई बात नहीं है। दंपति के बीच तलाक नहीं हुआ है। बच्चे पर जितना हक पिता का है, उतना ही मां का भी है। मगर उनका बच्चा ले जाने का तरीका गलत था। आरोपियों को छोड़ देने का आरोप गलत है। उनके खिलाफ कार्रवाई करके अदालत में पेश किया जा रहा है।