--Advertisement--

पंजाबी स्पेलिंग प्रतियोगिता में संगीता रही प्रथम

अकाल कॉलेज ऑफ एजुकेशन फॉर वुमेन फतेहगढ़ छन्ना में प्रिंसिपल डाॅ. सुमन मित्तल की अगुवाई में इंडो-यूएस कौंसिल ऑफ...

Danik Bhaskar | Feb 09, 2018, 02:10 AM IST
अकाल कॉलेज ऑफ एजुकेशन फॉर वुमेन फतेहगढ़ छन्ना में प्रिंसिपल डाॅ. सुमन मित्तल की अगुवाई में इंडो-यूएस कौंसिल ऑफ टीचर एजुकेशन एंड काैंसिल ऑफ टीचर एजुकेशन पंजाब व चंडीगढ़ के सहयोग से तीसरी अंतर कॉलेज पंजाबी स्पेलिंग बी प्रतियोगिता करवाई गई। जिसमें 15 कॉलेजों के 125 विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया।

छात्रों के पंजाबी भाषा के शब्द जोड़ ज्ञान की लिखित परीक्षा ली गई। प्रिंसिपल डाॅ. सुमन मित्तल ने कहा कि यह प्रतियोगिता कॉलेज द्वारा हर साल पंजाबी भाषा के विकास व छात्रों की मातृ भाषा में निपुणता लाने के मकसद से आयोजित की जाती है। प्रतियोगिता में अकाल संस्थाएं के डायरेक्टर डाॅ. हरजीत कौर विशेष तौर पर शामिल हुए। बलबीर सिंह प्रधान इंडो-यूएस काैंसिल ऑफ टीचर एजुकेशन मुख्य मेहमान तथा डाॅ. भगवंत सिंह व डाॅ. हरविंदर सिंह भट्टी विशेष मेहमान थे। प्रतियोगिता में पटियाला कॉलेज ऑफ एजुकेशन की छात्रा संगीता ने पहला, इसी कॉलेज की छात्रा गुरप्रीत कौर ने दूसरा, अकाल कॉलेज ऑफ एजुकेशन फतेहगढ़ छन्ना की छात्रा सुखप्रीत कौर व पटियाला कॉलेज ऑफ एजुकेशन के छात्र नाजर सिंह ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। पांच छात्रों नसरीन (देश भगत कॉलेज बरड़वाल), मनप्रीत कौर (अकाल कॉलेज ऑफ एजूकेशन फतेहगढ़ छन्ना), पवनदीप कौर (भाई गुरदास कॉलेज ऑफ एजुकेशन), बलविंदर कौर (एसयूएस कॉलेज महिलां चौक), बलजीत कौर (हार्दिक कॉलेज भवानीगढ़), मनप्रीत कौर (अकाल कॉलेज ऑफ एजुकेशन मस्तुआना साहिब) को हौसला अफजाई पुरस्कार से सम्मानित किया गया। सभी छात्रों को ईनाम व सर्टिफिकेट बांटे गए। डाॅ. हरजीत कौर ने मां बोली पंजाबी की आन, बान व शान को बरकरार रखने की अपील की। विद्यार्थियों ने शबद गायन व लोक गीत पेश किए। असिस्टेंट प्रोफेसर दीक्षा ने सभी का धन्यवाद किया। इस मौके पर प्रो. हरदीप सिंह, प्रो. अमनदीप सिंह, प्रो. सोनीत कौर, प्रो. सुमन शर्मा, प्रो. रजनी बाला, सुरजीत सिंह मौजूद थे।

मुकाबला

अकाल कॉलेज आॅफ एजुकेशन फॉर वुमेन फतेहगढ़ छन्ना में पंजाबी स्पेलिंग प्रतियोगिता करवाई

अकाल कॉलेज ऑफ एजुकेशन फॉर वुमेन फतेहगढ़ छन्ना में छात्रा को सर्टिफिकेट देते हुए प्रधान बलबीर सिंह व अन्य।