Hindi News »Punjab »Bhawanigarh» दो दिन सरकारी छुट्टी, अब सोमवार को हो सकेंगे डीसी ऑफिस व तहसीलों में काम

दो दिन सरकारी छुट्टी, अब सोमवार को हो सकेंगे डीसी ऑफिस व तहसीलों में काम

स्टाफ की प्राप्ति समेत दूसरी मांगों को लेकर डीसी ऑफिस इंप्लाइज एसोसिएशन के सदस्य वीरवार और शुक्रवार दो दिन की...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 02:20 AM IST

स्टाफ की प्राप्ति समेत दूसरी मांगों को लेकर डीसी ऑफिस इंप्लाइज एसोसिएशन के सदस्य वीरवार और शुक्रवार दो दिन की हड़ताल पर चले गए हैं। शनिवार और रविवार को सरकारी अवकाश होने के कारण अब लोगों के डीसी ऑफिस से जुड़े काम सोमवार तक लटक गए हैं। वीरवार को कर्मचारियों की कलम छोड़ हड़ताल के कारण डीसी कार्यालय, 9 उप मंडल मजिस्ट्रेट कार्यालयों, 5 उप तहसीलों में कामकाज ठप रहा है। ऐसे में कई किलोमीटर का सफर तय करके डीसी ऑफिस और तहसीलों में कामकाज के लिए पहुंचे लोगों को निराश होकर लौटना पड़ा है। संगरूर निवासी अपाहिज राम प्यारी अपनी पोती का जाति सर्टिफिकेट बनवाने के लिए पहुंची थी। राम प्यारी पूरा दिन दफ्तर में बैठी रही परंतु किसी कर्मचारी ने हड़ताल के कारण उससे फाइल नहीं पकड़ी है। राम प्यारी का कहना है कि यूं कर्मचारियों को किसी को परेशान करने का कोई हक नहीं है। गांव नागरा से पहुंचे केवल सिंह असला लाइसेंस की कार्रवाई को पूरा करवाने के लिए पहुंचा था। ऐसे में उसे असला दफ्तर में जाना था परंतु कर्मचारियों के हड़ताल पर होने के कारण असला शाखा में कोई कर्मचारी मौजूद नहीं था। केवल सिंह दफ्तरों में भटकता रहा परंतु कर्मचारियों की हड़ताल का पता लगने के बाद वह निराश होकर गांव लौट गया। इसी तरह करीब 5 सौ से अधिक लोग डीसी ऑफिस और तहसील से निराश हो कर लौटे हैं।

संगरूर में मुलाजिमों की हड़ताल के कारण निराश लौटती राम प्यारी।

नहीं बने सर्टिफिकेट

पूरे जिले में कर्मचारियों के कलम छोड़ हड़ताल पर रहने के कारण रजिस्ट्री कार्यों के साथ-साथ जन्म-मौत, मैरिज, देहाती, रेजिडेंस, भारमुक्त, जाति आदि सर्टिफिकेट, नकलें, असला लाइसेंस, पासपोर्ट, कैदियों की पेरोल, रिहाई, कोर्ट और अन्य पब्लिक डीलिंग के कार्य ठप पड़ गए हैं।

संगरूर में हड़ताल करके रोष व्यक्त करते हुए मुलाजिम।

हड़ताल के सिवाए कोई विकल्प नहीं : नरेश

डीसी ऑफिस इंप्लाइज एसोसिएशन के उप प्रधान नरेश कुमार भारद्वाज का कहना है कि कर्मचारियों के पास हड़ताल करने के सिवाए कोई दूसरा विकल्प नहीं है क्योंकि सरकार की ओर से संगरूर जिले में अहमदगढ़, भवानीगढ़ और दिड़बा को सब डिवीजन का दर्जा दे दिया गया परंतु स्टाफ सैंक्शन नहीं किया गया है। कर्मचारियों को तरक्कियां नहीं दी जा रही हैं। कर्मचारियों की कबूल की गई मांगों को लागू नहीं किया जा रहा है। जिस कारण कर्मचारियों में रोष पाया जा रहा है। इस मौके पर कृष्ण आहूजा, अमृतपाल कौर, परमिंदर कौर, अवतार सिंह, विक्की, अशोक कुमार, विनोद ग्रोवर, रवि शर्मा आदि उपस्थित थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhawanigarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×