--Advertisement--

नारेबाजी कर बहाल करने की मांग

गांव लखमीरवाला में आटा दाल कार्ड रद्द करने से गुस्साए लाभपात्रियों द्वारा पंजाब सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गई।...

Danik Bhaskar | Mar 25, 2018, 03:20 AM IST
गांव लखमीरवाला में आटा दाल कार्ड रद्द करने से गुस्साए लाभपात्रियों द्वारा पंजाब सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गई। इस मौके पर लाभपात्री सुरजीत सिंह, जसवीर सिंह ने कहा कि गांव के गरीब लोगों को इस सरकारी स्कीम के तहत गेहूं, दाल आदि मिलती थी। कुछ समय पहले सरकार ने दाल देनी बंद कर दी थी। लेकिन अब तो उनके कार्ड ही रद्द कर दिए गए हैं। सरकार ने सर्वे किया है कि उन्हें गेहूं नहीं मिल सकती। जबकि वह गरीबी की हालत में जिंदगी बसर कर रहे हैं। किसी के पास काम नहीं है तो कोई बुजुर्ग है। उनके पास कोई जायदाद भी नहीं है। उनके पास सर्वे करने के लिए कोई नहीं आया। ऐसे में उनके कार्ड गलत काटे गए हैं। वह सरकार से मिलती गेहूं से ही दो वक्त की रोटी खाते थे लेकिन अब उन्हें इस गेहूं से भी वंचित कर दिया गया है। उन्होंने सरकार से मांग की कि उनके रद्द किए कार्ड दोबारा बहाल किए जाएं। इस मौके पर नामदेव सिंह, जसवीर कौर, सुखजीत कौर, हरदियाल सिंह, राम सिंह, गुरतेज कौर, रानी, संत कौर, जसविंदर कौर मौजूद थे। (टिंका)

सुनाम में सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए नीले कार्डधारक ।

गेहूं न मिलने से गुस्साए लाभपात्रों ने जताया रोष

भवानीगढ़|गांव भट्टीवाल कलां में सस्ते राशन वाले नीले कार्ड काटे जाने पर सस्ती गेहूं न मिलने से गुस्साए लाभपात्रियों द्वारा रोष व्यक्त किया गया। इस मौके पर दर्शन सिंह, सिंदरपाल शर्मा, जगदेव सिंह, मिसरा सिंह, कर्मजीत सिंह, गुरदीप सिंह, राज कौर, किरना देवी ने कहा कि गांव के अमीर लोगों को सस्ती गेहूं मिल रही है। जबकि गरीब व जरूरतमंद लोगों के नीले कार्ड काट दिए गए हैं। उन्होंने मांग की कि काटे गए नीले कार्ड दोबारा बहाल किए जाएं। (लखविंदर)

गांव भट्टीवाल कलां में नीले कार्ड कटने पर रोष व्यक्त करते हुए लोग।