--Advertisement--

एक माह बाद सऊदी अरब से गांव पहुंचा गमदूर का शव

गमदूर सिंह का पार्थिव शरीर देखकर आंसू बहाते हुए परिजन। भवानीगढ़| दो वर्ष पहले रोजी रोटी कमाने सऊदी अरब गए नौजवान...

Danik Bhaskar | Jun 03, 2018, 02:15 AM IST
गमदूर सिंह का पार्थिव शरीर देखकर आंसू बहाते हुए परिजन।

भवानीगढ़| दो वर्ष पहले रोजी रोटी कमाने सऊदी अरब गए नौजवान गमदूर सिंह का शव शनिवार को उसके गांव नागरा में पहुंचा। गमदूर की एक महीना पहले वहां दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई थी। वह तीन बहनों का इकलौता भाई था। सऊदी अरब में अहम भूमिका निभाने वाली संस्था हेल्पिंग की संचालक अमनजोत कौर रामवालिया के अनुसार, घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के कारण 28 वर्षीय गमदूर सिंह दो वर्ष पहले विदेश सऊदी अरब गया था, जहां वह अलजरी ट्रांसपोर्ट कंपनी में ट्रक चलाता था। विगत 1 मई को जब वह ट्रक रोककर आराम करने लगा तो उसे अचानक दिल का दौरा पड़ गया, जो उसकी मौत का कारण बना। उसका शव लाने के लिए परिवार ने काफी कोशिश की। कोई बात नहीं बनी तो पारिवारिक सदस्य दविंदर सिंह ने संस्था से मदद मांगी। संस्था ने भारतीय एंबेंसी से संपर्क किया। भारतीय राजदूत अहम जावेद को पत्र लिखने के बाद कंपनी ने एन�ओसी दे दिया। इस पर जांच-पड़ताल करते हुए सऊदी अरब पुलिस को समय लग गया। गमदूर अपने पीछे प|ी, माता-पिता, दो छोटी लड़कियां व एक बेटा छोड़ गया। इस मौके पर हेल्पिंग संस्था के सचिव कुलदीप सिंह, बलजीत सिंह, तनवीर सिंह इत्यादि उपस्थित थे। (लखविंदर)

दिल का दौरा पड़ने से हो गई थी मौत