Hindi News »Punjab »Chamkaur Sahib» दवा मुक्त खेती का संकल्प है गुरदीप का राजी फार्म

दवा मुक्त खेती का संकल्प है गुरदीप का राजी फार्म

इकबाल सिंह बाली | चमकौर साहिब गांव भक्कूमाजरा के पूर्व सरपंच आैर क्षेत्र में जैविक खेती को उत्साहित कर रहे...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 02:15 AM IST

दवा मुक्त खेती का संकल्प है गुरदीप का राजी फार्म
इकबाल सिंह बाली | चमकौर साहिब

गांव भक्कूमाजरा के पूर्व सरपंच आैर क्षेत्र में जैविक खेती को उत्साहित कर रहे गुरदीप सिंह राजी की अगुवाई में पंजाब के 20-22 किसानों की टीम गुजरात में आर्गेनिक खेती के तरीके समझने गई तो वहां के किसानों की इनती कायल हुई कि अब सबने पंजाब में आर्गेनिक खेती शुरू कर दी है। गुरदीप राजी का फार्म हाउस तो दवा मुक्त खेती का संकल्प बन चुका है तो कईयों को प्रेरणा दे रहा है। राज ने बताया कि गुजरात का किसान जीरो बजट खेती कर रहा है। नतीजा यह है कि वहां का किसान कभी खुदकुशी नहीं करता आैर पंजाब के किसान से कई गुणा खुशहाल है।

इनसे सीखें किसानी

10 किसानों के प्रतिनिधिमंडल ने गुजरात से लौटने के बाद बनाया अॉर्गेनिक खेती का विचार

गुजरात में को-अापरेटिव सोसायटी देती हैं गन्ना, काटती भी वही हैं

राजी फार्म हाउस में खुद आॅर्गेनिक खेती शुरू की...राजीफार्म हाउस के गुरदीप राजी ने बताया कि मैने अपने फार्म हाउस में आॅर्गेनिक गन्ना बीज दिया है। गुजरात की तर्ज पर 1 एकड़ में आलू बोआ था, जोकि आर्गेनिक खाद से 80 बोरी अधिक हुआ। दूसरा दाम भी ज्यादा मिले हैं। मेरे पास 16 एकड़ जमीन है और 36 एकड़ ठेके पर ले रखी है। मेरा संकल्प रोपड़ जिले के साथ-साथ पूरे पंजाब की खेती व फसलों को कीटनाशक दवाईयों से रहित करना है।

गुजरात में आर्गेनिक गन्ना, कमाई भी पंजाब से तीन गुणा

राजी ने बताया कि पंजाब में गन्ना बिना यूरिया तैयार नहीं होता। खाद डालकर भी 1 एकड़ में 40 क्विंटल बीज डालकर 400 क्विंटल पैदावार है। गुजरात में आॅर्गेनिक खाद डालकर 1 एकड़ में 10 क्विंटल बीज से 1 हजार क्विंटल पैदावार है। यह पंजाब से तीन गुणा है। गुजरात में गन्ने का बीज लेने के लिए कोआपरेटिव सोसायटी को नोट करवा दिया जाता है और 10 दिन बाद डेट मिल जाती है। फसल तैयार होने के बाद कोआपरेटिव वाले गन्ना काटकर मिल तक पहुंचाते हंै। पेमेंट भी नकद है। पंजाब में गन्ने का मूल्य 310 तो गुजरात में 440 रुपए है। वहां की कोआपरेटिव सोसायटी गन्ने के वेस्ट से डीजल में पड़ने वाला इस्नॉल तैयार करवाती हैं। पंजाब की गन्ना मिलें 3500 टन प्रति दिन पिराई करने की क्षमता रखती हैं परंतु 2000 टन ही पीरती हैं। गुजरात की मिलें 6 हजार क्विंटल टन पिराई की क्षमता रखती हैं और ज्यादा पीरती हैं।

खादें मानव के लिए खतरा...राजीने बताया कि कंपनी के माहिर मित्तल भाई पटेल, किशोर भाई, प्रवीन भाई पटेल, ने यहां के किसानों को खाद के जीवन के लिए खतरे को लेकर अवेयर किया। हमारे किसान वहम में थे कि हम ज्यादा पैदावार कर रहें हैं लेकिन गुजरात जाकर यह निकल गया। इस मौके कमलजीत सिंह, सुखवीर सिंह, नवजोत सिंह, बलजीत सिंह, दलजीत, राजिंदर सिंह, संदीप, मनोज मौजूद रहे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Chamkaur sahib

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×