• Home
  • Punjab News
  • Dasua News
  • भारत बंद को सफल बनाने में संगठनों से मांगा सहयोग
--Advertisement--

भारत बंद को सफल बनाने में संगठनों से मांगा सहयोग

भास्कर संवाददाता | होशियारपुर भगवान वाल्मीकि सभा होशियारपुर की मीटिंग सीनियर चेयरमैन तरसेम लाल हंस की...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:20 AM IST
भास्कर संवाददाता | होशियारपुर

भगवान वाल्मीकि सभा होशियारपुर की मीटिंग सीनियर चेयरमैन तरसेम लाल हंस की प्रधानगी में हुई। इसमें कौंसलर मोहन लाल पहलवान, मनोज कैनेडी, तरसेम लाल आदिया, रूप लाल थापर, एसएस सिद्धू व जोगिंदरपाल आदिया भी शामिल हुए। विनोद हंस ने बताया कि मीटिंग कल 2 अप्रैल के भारत बंद को पूरी तरह सफल बनाने के लिए वाल्मीकि समाज व दूसरे दलित समाज के लोगों को लामबंद करने के लिए की गई, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट एससी/एसटी एक्ट के विरोध में फैसला देने दलित समाज में रोष है। विनोद हंस ने कहा कि दुख की बात है कि पूरे देश में लगभग लोक सभा के 131 दलित मेंबर है और प्रांतों की विधानसभा में लगभग 500 दलित मेंबर है, जिनको लोगों ने चुनकर भेजा है। उनको चाहिए कि सरकार के इस रवैये को देखते हुए पूरा विरोध जताए।

इस मौके प्रधान कमल भट्टी, सफाई कर्मचारी यूनियन के प्रधान राजा हंस, विकास हंस, सुरिंदर भट्टी, हरी राम, महिंदर पाल, विक्की गिल, अनिल सभ्रवाल, हरी राम, दर्शन सिंह, अश्वनी, वरिंदर गिल, लव, मनसा राम हंस, अश्वनी राजू, भवनेश्वर, मनू आदिया, ऋषभ आदिया, रज्जत आदिया, लव आदिया, रवि कुमार, जोनी आदिया, राकेश कुमार, चरनदास आदिया व अरविंदर काका मौजूद थे।

मीटिंग के दौरान मौजूद पार्षद मोहन लाल पहलवान, तरसेम लाल व अन्य।

एससी/एसटी एक्ट में संशोधन करना दलितों के साथ अन्याय : अजय

2 अप्रैल को बंद के समर्थन में मौजूद विभिन्न दलित समुदायों के पदाधिकारी।

भास्कर संवाददाता | दसूहा

भगवान वाल्मीकि मंदिर में समूह वाल्मीकि भाईचारे की मीटिंग भगवान वाल्मीकि मुक्ति सेना की अध्यक्षता में हुई।

मीटिंग की अध्यक्षता राज्य प्रधान अजय कुमार एडवोकेट ने की जबकि उनके साथ दीपक सिद्धू, राज कुमार, कश्मीर सिंह, बलजीत सिंह उपस्थित थे। मीटिंग को संबोधित करते हुए राज्य प्रधान एडवोकेट अजय कुमार ने कहा कि एससी/एसटी एक्ट में संशोधन करना दलितों के अन्याय है और इसे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि 2 अप्रैल को भारत बंद का आह्वान किया गया तथा समूह दलित संगठनों को इसमें भाग लेना चाहिए।

एससी/एसटी एक्ट में संशोधन बर्दाश्त नहीं

भास्कर संवाददाता | होशियारपुर

भगवान वाल्मीकि सभा बहादरपुर ने कमल भट्टी की अध्यक्षता में मीटिंग की। इसमें कमल भट्टी ने कहा कि 2 अप्रैल को किए जा रहे भारत बंद का पूर्ण समर्थन करेंगे। उन्होंने कहा कि एससी /एसटी कानून में किया गया संशोधन उन्हें कतई मंजूर नहीं है, जिस कारण पूरे दलित समाज में रोष है।

उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा एक्ट में किए संशोधन पर केंद्र की मोदी सरकार ने भी कोई कदम नहीं उठाया, इस रवैये को सहन नहीं करेंगे। बड़े दुख की बात है पूरे देश में लगभग लोकसभा के 131 दलित मेंबर और प्रांतीय विधान सभाओं में लगभग 543 दलित मेंबर हैं और दलित राष्ट्रपति होने के बावजूद भी एससी/एसटी एक्ट का विरोध नहीं किया। कमल भट्टी ने सभी दलित समाज से अपील की कि 2 अप्रैल के बंद में पूर्ण सहयोग दें।

इस मौके मनीश हंस, पाली भट्टी, राजकुमार मप्पा, हरीश मट्टू, अमित गिल, राकेश मट्टू, विशाल शालू, आशू, हैप्पी मट्टू, गौरव सिद्धू, सलीम हंस, साहिल मट्टू व रोहित भट्टी मौजूद थे।

लास्ट होप वेलफेयर सोसायटी ने भारत बंद का किया समर्थन

होशियारपुर | लास्ट होप वेलफेयर सोसायटी की मीटिंग जिला प्रधान गौरव भारद्वाज की अगुवाई में हुई। चेयरमैन करनजीत सिंह, पंजाब प्रधान बलवंत सिंह शामिल हुए। यहां करनदीप सिंह, सन्नी शर्मा, गुरदीप सिंह, दीपक वासुदेव, करमजीत सिंह, किशन कुमार, राहुल बद्धन, गौरव कुमार, हरप्रीत सिंह ने साझे तौर पर कहा कि एससी/एसटी एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर 2 अप्रैल को भारत बंद के शांतिपूर्वक रोष का सोसायटी समर्थन करती है।

मीटिंग के दौरान जानकारी देते सभा सदस्य। -भास्कर

एक्ट में बदलाव न हो : डॉ. रवजोत

भास्कर संवाददाता | होशियारपुर

एससी/एसटी एक्ट पहले की तरह ही लागू रहना चाहिए, ताकि सामाजिक व आर्थिक तौर पर दबे कुचले वर्गों को उत्थान का मौका मिल सके। यह बात ‘आप’ के जनरल सचिव पंजाब डॉ. रवजोत ने कही। उन्होंने कहा कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है और यहां अपने विचारों को प्रकट करने की सबको पूरी आजादी है, इसलिए आज अगर एससी/एसटी एक्ट प्रति लोग आवाज बुलंद कर रहे हैं, तो इस हालात में हमारी न्याय प्रणाली व केंद्र सरकार को लोगों की बात सुननी चाहिए। उन्होंने लोगों को अपील की कि विरोध प्रदर्शन को शांतिमय तरीके से पूरा करें, ताकि केंद्र सरकार को अपने गलत फैसले वापस लेने के लिए मजबूर होना पड़े।

इस मौके सुखजिंदर भुल्लर, मास्टर बलवीर सिंह, जतिंदर, मनजीत, महिंदर सिंह, गुरमुख सिंह, दिलबाग सिंह, हरप्रीत धामी, गुरमीत चंद, संजय अत्तरी, सतनाम सिंह, दर्शन सिंह, संदीप बरियाणा व जसपाल सग्गी मौजूद थे।