• Hindi News
  • Punjab
  • Dasua
  • ब्रह्मज्ञान का अर्थ है ईश्वर को जान लेना : सुमेधा भारती
--Advertisement--

ब्रह्मज्ञान का अर्थ है ईश्वर को जान लेना : सुमेधा भारती

Dasua News - दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान द्वारा प्राचीन पांडव सरोवर मंदिर, दशहरा ग्राउंड में आयोजित पांच दिवसीय भगवान शिव...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 02:10 AM IST
ब्रह्मज्ञान का अर्थ है ईश्वर को जान लेना : सुमेधा भारती
दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान द्वारा प्राचीन पांडव सरोवर मंदिर, दशहरा ग्राउंड में आयोजित पांच दिवसीय भगवान शिव कथा के अंतिम दिवस की शुरुआत आशीष रामपाल व ओंकारनाथ भल्ला ने भगवत पूजन से की। कथा के अंतिम दिवस मे कथा व्यास साध्वी सुश्री सुमेधा भारती ने बताया कि विश्व में शांति केवल ब्रह्मज्ञान से आ सकती है। ब्रह्मज्ञान के द्वारा ही व्यक्ति अपने भीतर ईश्वर का साक्षात्कार कर सकता है। ब्रह्मज्ञान का मतलब है कि ईश्वर को जान लेना। जब हर प्राणी ईश्वर का दर्शन कर लेगा तो उसका मन शांत हो जाएगा और उसके जीवन की भाग-दौड़ खत्म हो जाएगी। जब धीरे-धीरे मानव शांत हो जाएगा तो विश्व भी शांत हो जाएगा। कथा में ज्योति प्रज्ज्वलन की रस्म के लिए विशेष रूप से अविनाश राय खन्ना, डॉ. हरसिमरत साही, रिम्पा शर्मा, मन खुुल्लर, विनोद रल्हन (मिटा), एससी कुमार, अशोक शर्मा, विजय शर्मा, शाम मुरारी, हरि गोपाल शर्मा, सौरव शर्मा, पूर्ण पराशर, संजीव शर्मा, डॉ. आनंद किशोर शामिल हुए। कथा का समापन विधिवत प्रभु की पावन आरती से किया गया, जिसमे राम प्रकाश वासल, जोगिंदर महाजन, रवनीश उप्पल, इंद्रजीत शर्मा, जगजीत खुुल्लर, संजीव डाबर, राकेश राणा, विमल पराशर, चंदन कौशल, मन्नू रामपाल शामिल हुए। अंत में अनिल कुंदरा, मनू कुंदरा, पवन वर्मा, रमेश वर्मा ने साध्वी और उनकी मंडली को सम्मानित किया।

साध्वी सुश्री सुमेधा भारती

भगवान शिव कथा के दौरान भक्तों का उमड़ा सैलाब।

ब्रह्मज्ञान का अर्थ है ईश्वर को जान लेना : सुमेधा भारती
X
ब्रह्मज्ञान का अर्थ है ईश्वर को जान लेना : सुमेधा भारती
ब्रह्मज्ञान का अर्थ है ईश्वर को जान लेना : सुमेधा भारती
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..