--Advertisement--

भारतीय संस्कृति सबसे महान : सतीश शर्मा

भास्कर संवाददाता | दातारपुर योगीराज सतगुरु बाबा लाल दयाल जी के पावन दरबार पर व्यास पूजा के उपलक्ष्य मे आयोजित की...

Danik Bhaskar | Jul 26, 2018, 02:05 AM IST
भास्कर संवाददाता | दातारपुर

योगीराज सतगुरु बाबा लाल दयाल जी के पावन दरबार पर व्यास पूजा के उपलक्ष्य मे आयोजित की जा रही है श्रीमद्भागवत कथा की बैठक मे कथावाचन सतीश शर्मा जी पठानकोट वालों ने भारतीय संस्कृति अपनाने के लिए जोर देते हुए कहा कि आज हमारा समाज क्यों बिखर रहा है नौजवान युवा पीढ़ी अपने संस्कारों को क्यों भूलती जा रही है। इसके लिए हम सब जिम्मेदार है क्योंकि आज जब हम अपने बच्चे को लड़का हो या लड़की स्कूल भेजने के बारे मे सोचते हैं तो हमारी सबकी सोच यही होती है कि वह किसी अच्छे बड़े इंग्लिश स्कूल में पढ़े और बड़ा होने पर सबसे इंग्लिश में ही बात करे।

सतीश शर्मा ने कहा कि हम जब बच्चे को अपनी भारतीय संस्कृति के बारे मे पढ़ाएंगे ही नहीं व बताएंगे नहीं तो बच्चों को कैसे पता चलेगा कि दादा, दादी, माता, पिता, किसे कहते है और घरों मे बड़ों का सत्कार कैसे किया जाता है। देश को बचाना है और मजबूत बनाना है तो विदेशी वस्तुओं का पूरी तरह से त्याग करना चाहिए। श्रीमद्भागवत कथा मे भी यह बात बताई गई है कि जिस घर में बड़ों का आदर और खासकर गऊ माता, तुलसी माता की पूजा होती है वहां हमेशा खुशहाली रहती है और किसी भी तरह का कष्ट नजदीक नहीं आता।

पंडाल में दरबार के गद्दीनाशीन महंत रमेश दास जी महाराज, बाबा घाटी वालो के दरबार से माधो दास जी, बाबा राजेन्द्र सिंह जिन्दा जी, शाम लाल शर्मा, देस राज शर्मा, गोपाल शर्मा, दमनेश मीणा, संसार चंद, अर्जुन सिंह, अशोक कुमार, जनक भाखन, प्रीतम चंद, राजेश डिम्पा, रजनीश बिटटू, सुदर्शन शर्मा, अविनाश शर्मा, अमित शर्मा, नरेन्द्र भारद्वाज, अश्वनी नंदा, नरेश मेहता, बॉबी कौशल, डाक्टर दिनेश, पप्पू दलवाली, तरसेम लाल, महंगा राम, केवल सिंह, यशपाल सेल, कृष्णा देवी, अनीता, रीता, निशा, आशा, डिम्पल, उतरा कंवर, नीलम, तृप्ता, शकुंतला, सलोचना, अनू , पूजा, ममता, सुधा शर्मा, कमलेश, सरोज, सुदेश सहित भारी तादाद में भक्तजन हाजिर थे।

प्रवचन

सतीश शर्मा।

गुरु पूर्णिमा पर बाबा लाल दयाल के पावन दरबार पर श्रीमद्भागवत कथा आयोजित