--Advertisement--

मोगा-फरीदकोट भास्कर

समझदार होने की असली निशानी ज्ञान नहीं है बल्कि कल्पना करने की आपकी शक्ति है। -अल्बर्ट आइंस्टीन कोटकपूरा

Dainik Bhaskar

Feb 08, 2018, 05:05 AM IST
मोगा-फरीदकोट भास्कर
समझदार होने की असली निशानी ज्ञान नहीं है बल्कि कल्पना करने की आपकी शक्ति है।

-अल्बर्ट आइंस्टीन

कोटकपूरा
बठिंडा, वीरवार 08 फरवरी, 2018



फाल्गुन, कृष्ण पक्ष अष्टमी , 2074

एक पागल व्यक्ति जलेबी बेच रहा था। लेकिन बोल रहा था ‘आलू ले लो आलू’ पप्पू- पर यह तो जलेबी है। व्यक्ति- चुप हो जा, वर्ना मक्खियां आ जाएंगी।

X
मोगा-फरीदकोट भास्कर
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..